• Home
  • Rajasthan News
  • Rani News
  • पेंशनर्स के लिए विशेष कॉलम भास्कर उनकी समस्याओं को पहुंचाएगा संबंधित विभाग व अधिकारियों तक
--Advertisement--

पेंशनर्स के लिए विशेष कॉलम भास्कर उनकी समस्याओं को पहुंचाएगा संबंधित विभाग व अधिकारियों तक

इस कॉलम के जरिये हर सोमवार दैनिक भास्कर सामने लाएगा पेंशनर्स से जुड़ी समस्याएं। काफी समय से पेंशनर समाज ऐसा मंच...

Danik Bhaskar | May 21, 2018, 06:40 AM IST
इस कॉलम के जरिये हर सोमवार दैनिक भास्कर सामने लाएगा पेंशनर्स से जुड़ी समस्याएं। काफी समय से पेंशनर समाज ऐसा मंच चाह रहा था, जहां वे अपनी समस्याएं उठा सकें। किसी माध्यम से वे अपनी बात अधिकारियों तक पहुंचा सके। इस कॉलम का उद्देश्य भी यही है। इस कॉलम के जरिये हम पेंशनर्स को होने वाली हर तरह की समस्याओं को उठाएंगे। अधिकारियों तक पहुंचाकर उनके समाधान का प्रयास करेंगे।

पेंशनर का पानी का बिल गलत नाम व पते पर आ रहा, कई चक्कर लगाने पर भी नहीं हो रहा संशोधन

पाली| विभागीय अधिकारियों की गलती के चलते जिले के पेंशनर्स को परेशान होना पड़ रहा है। कई पेंशनर्स को तो गलती सुधारने के लिए कार्यालय के चक्कर भी लगाने पड़ रहे हैं। फिर भी अधिकारियों द्वारा पेंशनर्स को उनके कार्य में किसी भी प्रकार की वरीयता नहीं दी जा रही है। रायपुर के पेंशनर सोमेश्वर शर्मा ने बताया कि आयुर्वेद विभाग से उपनिदेशक पद से सेवानिवृत्त होने के बाद परिवार के साथ रायपुर में झूठा रोड पर घर बना कर रहने लगे। व्यवसाय के तौर पर एक कुआं खुदवाया जिसका नाम महाराज का बेरा दिया। पानी का कनेक्शन लिया तो कर्मचारियों ने महारानी का बेरा लिख दिया। इस गलती के चलते हर महीने महारानी का बेरा नाम से पानी का बिल आ रहा है। इतना ही नहीं, कर्मचारियों ने झूठा रोड की जगह बूटा रोड तक लिख दिया है। इसके चलते कभी कभी तो बिल घर तक ही नहीं पहुंचता और जब किसी तरह बिल घर पहुंच भी जाता है तो उसमें कई महीनों का बिल पेनल्टी के साथ आता है। बिल में नाम व जगह का नाम सुधार ने के लिए कई बार जलदाय विभाग के चक्कर लगाए। अधिकारियों ने दोनों नाम सही करने की बात भी कही, लेकिन अभी भी बिल में झूठा रोड का बूटा रोड व महाराजा का बेरा की जगह महारानी का बेरा लिखा हुआ आ रहा है।

समाधान क्या : जलदाय विभाग रायपुर के सहायक अभियंता डूंगाराम नांगिया का कहना है कि जिस भी पेंशनर को बिल संबंधी समस्या आ रही है वो कार्यालय समय में पुराना बिल साथ लाकर मिल सकते हैं। पुराने बिल का फोटो लेकर उसे जयपुर कार्यालय भेज देंगे। अगले महीने से सही नाम आने लगेगा। उन्होंने कहा कि ऐसी समस्या फीडिंग के दौरान आ जाती है।

मोबाइल नंबर- 7728880544 पर आप व्हाट्स एप कर सकते हैं। dilipdwivedijob@gmail.com पर आप मेल भी कर सकते हैं।

भास्कर उठाएगा आवाज