--Advertisement--

दिखी लोक कला संस्कृति की झलक, कार्मिकों को किया सम्मानित

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़ राजस्थान दिवस पर शुक्रवार शाम नगरपरिषद के आडिटोरियम में जिला प्रशासन व पर्यटन...

Dainik Bhaskar

Mar 31, 2018, 06:10 AM IST
दिखी लोक कला संस्कृति की झलक, कार्मिकों को किया सम्मानित
भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़

राजस्थान दिवस पर शुक्रवार शाम नगरपरिषद के आडिटोरियम में जिला प्रशासन व पर्यटन विभाग की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में विभिन्न प्रस्तुतियों के माध्यम से राजस्थान की लोक कला की छटां बिखेरी। रिजर्व पुलिस लाइन के बैंड ने परेड मार्च धुन बजाई।

कार्यक्रम की शुरुआत एडीएम नारायणसिंह चारण, एसडीएम सुरेश खटीक, यूआईटी सेक्रेट्री सीडी चारण ने मां सरस्वती की तस्वीर पर दीप प्रज्वलन कर की। स्वागत जिला पर्यटन अधिकारी शरद व्यास ने किया। पहली प्रस्तुति पुलिस लाईन से आए पुलिस के पाईप बैंड ने कैलाशचंद्र बाण के नेतृत्व में सात सदस्यीय दल ने दी। सैलानी ग्रुप के कलाकरों की सरस्वती वंदना के बाद की बाड़मेर से आए मंगणियार ब्रदर्स कलाकारों ने लोक गीतों की प्रस्तुतियां दी। मोर चंद, हारमोनियम, खरताल, ढोलक, मंजीरे आदि वाद यंत्रों का समन्वय करते कलाकारों ने केसरिया बालम पधारो म्हारा देश, नींबूड़ा-नींबूड़ा, कालियो कूद पड़यो मेला आदि लोक गीतों के अलावा कालबेलिया नृत्य की प्रस्तुतियां देकर तालियां बटोरी। लोक गीतों पर दो महिला कलाकारों ने भी नृत्य की प्रस्तुतियों से दाद लूटी। विभिन्न संस्थाओं से आए बच्चों व बालिकाओं ने अपनी गीत व नृत्य की प्रस्तुतियां दी। नप आयुक्त मोहम्मद नसीम शेख, तहसीलदार मोहनसिंह, जिला परिषद के सीइओ रामदेव गोयल, एसीइओ दीपेंद्रसिंह, सेवानिवृत पर्यटन अधिकारी भंवरलाल साहू, प्रिंसीपल कल्याणी दीक्षित, रमसा के एसएन शर्मा, गणेशलाल पूर्बिया, रश्मि सक्सेना आदि उपस्थित थे। टेफ मनोज सुखवाल, गयासिंह, जसवंत, मोनू काबरा सहित अन्य मौजूद थे।

राजस्थान दिवस पर नगरपरिषद के ओडिटोरियम में आयोजित कार्यक्रम में पुलिस के पाइप बैंड की भी प्रस्तुति हुई

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़

राजस्थान दिवस पर शुक्रवार शाम नगरपरिषद के आडिटोरियम में जिला प्रशासन व पर्यटन विभाग की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में विभिन्न प्रस्तुतियों के माध्यम से राजस्थान की लोक कला की छटां बिखेरी। रिजर्व पुलिस लाइन के बैंड ने परेड मार्च धुन बजाई।

कार्यक्रम की शुरुआत एडीएम नारायणसिंह चारण, एसडीएम सुरेश खटीक, यूआईटी सेक्रेट्री सीडी चारण ने मां सरस्वती की तस्वीर पर दीप प्रज्वलन कर की। स्वागत जिला पर्यटन अधिकारी शरद व्यास ने किया। पहली प्रस्तुति पुलिस लाईन से आए पुलिस के पाईप बैंड ने कैलाशचंद्र बाण के नेतृत्व में सात सदस्यीय दल ने दी। सैलानी ग्रुप के कलाकरों की सरस्वती वंदना के बाद की बाड़मेर से आए मंगणियार ब्रदर्स कलाकारों ने लोक गीतों की प्रस्तुतियां दी। मोर चंद, हारमोनियम, खरताल, ढोलक, मंजीरे आदि वाद यंत्रों का समन्वय करते कलाकारों ने केसरिया बालम पधारो म्हारा देश, नींबूड़ा-नींबूड़ा, कालियो कूद पड़यो मेला आदि लोक गीतों के अलावा कालबेलिया नृत्य की प्रस्तुतियां देकर तालियां बटोरी। लोक गीतों पर दो महिला कलाकारों ने भी नृत्य की प्रस्तुतियों से दाद लूटी। विभिन्न संस्थाओं से आए बच्चों व बालिकाओं ने अपनी गीत व नृत्य की प्रस्तुतियां दी। नप आयुक्त मोहम्मद नसीम शेख, तहसीलदार मोहनसिंह, जिला परिषद के सीइओ रामदेव गोयल, एसीइओ दीपेंद्रसिंह, सेवानिवृत पर्यटन अधिकारी भंवरलाल साहू, प्रिंसीपल कल्याणी दीक्षित, रमसा के एसएन शर्मा, गणेशलाल पूर्बिया, रश्मि सक्सेना आदि उपस्थित थे। टेफ मनोज सुखवाल, गयासिंह, जसवंत, मोनू काबरा सहित अन्य मौजूद थे।

भास्कर संवाददाता | चित्तौड़गढ़

राजस्थान दिवस पर शुक्रवार शाम नगरपरिषद के आडिटोरियम में जिला प्रशासन व पर्यटन विभाग की ओर से आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में विभिन्न प्रस्तुतियों के माध्यम से राजस्थान की लोक कला की छटां बिखेरी। रिजर्व पुलिस लाइन के बैंड ने परेड मार्च धुन बजाई।

कार्यक्रम की शुरुआत एडीएम नारायणसिंह चारण, एसडीएम सुरेश खटीक, यूआईटी सेक्रेट्री सीडी चारण ने मां सरस्वती की तस्वीर पर दीप प्रज्वलन कर की। स्वागत जिला पर्यटन अधिकारी शरद व्यास ने किया। पहली प्रस्तुति पुलिस लाईन से आए पुलिस के पाईप बैंड ने कैलाशचंद्र बाण के नेतृत्व में सात सदस्यीय दल ने दी। सैलानी ग्रुप के कलाकरों की सरस्वती वंदना के बाद की बाड़मेर से आए मंगणियार ब्रदर्स कलाकारों ने लोक गीतों की प्रस्तुतियां दी। मोर चंद, हारमोनियम, खरताल, ढोलक, मंजीरे आदि वाद यंत्रों का समन्वय करते कलाकारों ने केसरिया बालम पधारो म्हारा देश, नींबूड़ा-नींबूड़ा, कालियो कूद पड़यो मेला आदि लोक गीतों के अलावा कालबेलिया नृत्य की प्रस्तुतियां देकर तालियां बटोरी। लोक गीतों पर दो महिला कलाकारों ने भी नृत्य की प्रस्तुतियों से दाद लूटी। विभिन्न संस्थाओं से आए बच्चों व बालिकाओं ने अपनी गीत व नृत्य की प्रस्तुतियां दी। नप आयुक्त मोहम्मद नसीम शेख, तहसीलदार मोहनसिंह, जिला परिषद के सीइओ रामदेव गोयल, एसीइओ दीपेंद्रसिंह, सेवानिवृत पर्यटन अधिकारी भंवरलाल साहू, प्रिंसीपल कल्याणी दीक्षित, रमसा के एसएन शर्मा, गणेशलाल पूर्बिया, रश्मि सक्सेना आदि उपस्थित थे। टेफ मनोज सुखवाल, गयासिंह, जसवंत, मोनू काबरा सहित अन्य मौजूद थे।


X
दिखी लोक कला संस्कृति की झलक, कार्मिकों को किया सम्मानित
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..