• Hindi News
  • Rajya
  • Rajasthan
  • Ratangarh
  • 300 स्कूलों को पीपीपी मोड पर देने के विरोध में शिक्षकों ने चूरू में प्रदर्शन किया

300 स्कूलों को पीपीपी मोड पर देने के विरोध में शिक्षकों ने चूरू में प्रदर्शन किया / 300 स्कूलों को पीपीपी मोड पर देने के विरोध में शिक्षकों ने चूरू में प्रदर्शन किया

Ratangarh News - प्रदेश में 300 सरकारी स्कूलों को पीपीपी मोड पर निजी हाथों में सौंपने का विरोध करते हुए सोमवार को राजस्थान शिक्षक...

Bhaskar News Network

Feb 06, 2018, 02:40 AM IST
300 स्कूलों को पीपीपी मोड पर देने के विरोध में शिक्षकों ने चूरू में प्रदर्शन किया
प्रदेश में 300 सरकारी स्कूलों को पीपीपी मोड पर निजी हाथों में सौंपने का विरोध करते हुए सोमवार को राजस्थान शिक्षक संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर कलेक्ट्रेट के आगे धरना दिया गया। अध्यक्षता बन्नाराम चौधरी ने की।

धरना स्थल पर सह संयोजक रामकृष्ण अग्रवाल, संयोजक बन्नाराम चौधरी ने कहा कि प्रदेश सरकार ने निर्णय वापस नहीं लिया तो संघर्ष समिति आंदोलन को मजबूर होगी। शिक्षक संघ शेखावत के कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष रामस्वरूप चतुर्वेदी ने बताया कि सरकार गरीब के बच्चों से शिक्षा का हक छीन रही है। अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ के जिलाध्यक्ष रिछपालसिंह चारण ने कहा कि राज्य सरकार शिक्षा, चिकित्सा जैसे लोक कल्याणकारी विभागों को निजी हाथों में सौंपकर जनता के साथ अन्याय कर रही है। धरने को शिक्षक शीशराम माहिच, दामोदर शर्मा, बनवारीलाल कुल्हरि, श्रीलाल मीणा, शिशुपाल दहिया, सुरेंद्रसिंह, पुरूषोत्तमलाल भागोतिया, मातुसिंह राठौड़, मुरारीलाल इंदौरियां, सतीश सक्सेना, सुनीति कुमार शर्मा, बाबू खां, भंवरलाल स्वामी, शिवकुमार शर्मा आिद ने संबोधित किया। बाद में मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम श्वेता कोचर को ज्ञापन दिया गया।

शिक्षकों की कमी से आक्रोशित ग्रामीणों ने परसनेऊ स्कूल पर ताला जड़ा

राजलदेसर. प्रदर्शन करते ग्रामीण व छात्र।

राजलदेसर. परसनेऊ के राउमावि में चल रही शिक्षकों की कमी से आक्रोशित ग्रामीणों ने सोमवार को स्कूल के मैन गेट पर ताला जड़ दिया। बंशीलाल राजपुरोहित व परसनेऊ सरपंच प्रकाश मेघवाल के नेतृत्व में ग्रामीणों ने शिक्षा विभाग के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरना-प्रदर्शन किया। छात्र-छात्राएं भी धरने में शामिल हो गए। ड्यूटी करने आए शिक्षकों को भी स्कूल के बाहर ही खड़ा रहना पड़ा। सूचना पर करीब दो बजे रतनगढ़ नोडल अधिकारी मोहम्मद अनवर ने मौके पर पहुंच समझाइश की। कालरा जोहड़ा स्कूल में कार्यरत कमलेशकुमारी व कायमाणा जोहड़ा स्कूल में कार्यरत ललिताकुमारी को परसनेऊ स्कूल में नियुक्त किए जाने और बाकी रिक्त पदों को नए सत्र में भरने के आश्वासन पर धरना समाप्त कर दिया गया। ग्रामीणों का कहना है कि शिक्षकों की कमी की वजह से बच्चों की पढ़ाई चौपट हो रही है। इस संबंध में शिक्षा विभाग को कई बार अवगत करवाने के बावजूद कुछ नहीं हुआ। इस मौके पर बनेसिंह, ईश्वरराम, जगदीश, अर्जुनसिंह, भागीरथसिंह, उदयसिंह, बजरंग सुथार, भागीरथ, राकेश, सीताराम, महेंद्रसिंह, बालाराम, भंवरसिंह, तारूराम, रामलाल व धन्नाराम आदि ने बताया कि स्कूल में 300 के करीब विद्यार्थी अध्ययनरत है। स्कूल में 17 पद स्वीकृत है, जिसमें से अंग्रेजी, गणित, ज्योग्राफी, दो तृतीय श्रेणी शिक्षक व एक एलडीसी सहित कुल छह पद रिक्त चलने के कारण बच्चों की पढ़ाई चौपट हो रही हैं।

राजस्थान शिक्षक संयुक्त संघर्ष समिति के आह्वान पर कलेक्ट्रेट पर सभा की, ज्ञापन भी सौंपा

पीपीपी मोड के विरोध में ग्रामीणों का धरना जारी

तारानगर | गांव आनंदसिंहपुरा के रामावि को सरकार की ओर से पीपीपी मोड पर दिए जाने केे विरोध में सोमवार को 25वें दिन भी ग्रामीणों का धरना प्रदर्शन जारी रहा। स्कूल के आगे धरने पर बैठे ग्रामीणों ने सरकार को चेताया कि जब तक सरकार उक्त आदेश को वापस नहीं लेगी, तब तक आंदोलन जारी रहेगा। धरने पर योगेश सिंहमार, धर्मेंद्र सिंहमार, सुरेंद्र कुमार, कृष्णसिंह, दयाराम, विक्रमसिंह, सुगनाराम, रामावतार, मदन, मामराज, विकास सिंहमार, सुरेश कुमार सहित ग्रामीण महिलाएं भी मौजूद थे।

X
300 स्कूलों को पीपीपी मोड पर देने के विरोध में शिक्षकों ने चूरू में प्रदर्शन किया
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना