--Advertisement--

बजट घोषणा

आम बजट में इस बार रींगस-चूरू, रतनगढ़-डेगाना और सीकर-लुहारू रेल लाइन के विद्युतीकरण की घोषणा की गई है। इसके लिए 310.37...

Dainik Bhaskar

Feb 08, 2018, 07:00 AM IST
बजट घोषणा
आम बजट में इस बार रींगस-चूरू, रतनगढ़-डेगाना और सीकर-लुहारू रेल लाइन के विद्युतीकरण की घोषणा की गई है। इसके लिए 310.37 करोड़ रुपए का बजट जारी किया गया है। यानी आने वाले समय में चूरू जिले में हर ट्रैक पर इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ेगी। बजट में मौजूदा रेल लाइन को इलेक्ट्रिक किए जाने के साथ ही नई रेल लाइनों के सर्वे की घोषणा भी की गई है। सर्वे के लिए बजट भी जारी किया गया है।

रेवाड़ी-बीकानेर के बाद इस बार रतनगढ़-डेगाना के 142 किलोमीटर रेल ट्रैक के विद्युतीकरण के लिए बजट आबंटित हो जाने से चूरू, रतनगढ़ व सादुलपुर रेलवे स्टेशन महत्वपूर्ण हो जाएंगे। सादुलपुर-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ से तथा रतनगढ़-बीकानेर-जोधपुर से जुड़ जाएगा। चूरू जिला मुख्यालय इन सभी से जुड़ा होने के साथ सीकर-रींगस ट्रैक जुड़ जाएगा। रींगस-सीकर-चूरू 140 किमी रेल लाइन के विद्युतीकरण के लिए 96.31 करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं। चूरू में लोको शैड के अलावा स्टॉफ बढ़ने की संभावना भी हो गई।

चूरू, रतनगढ़ व सादुलपुर स्टेशन बीकानेर व जोधपुर डिवीजन जुड़े हुए हैं। सुजानगढ़ केवल जोधपुर डिवीजन में है। पिछले साल रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेवाड़ी-बीकानेर 286 किलोमीटर रेल खंड के विद्युतीकरण के लिए रेल बजट में 236 करोड़ का बजट आबंटित किया था। इसमें रतनगढ़-सरदारशहर ट्रैक भी शामिल था। इस बार रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रतनगढ़-डेगाना के 142 रूट किलोमीटर की विद्युतीकरण के लिए 111.55 करोड़ और रींगस-सीकर-चूरू 140 किमी रेल लाइन के विद्युतीकरण के लिए 96.31 करोड़ रुपए का बजट आबंटित किया है।

रेवाड़ी-बीकानेर के बाद रतनगढ़-डेगाना और रींगस-चूरू ट्रैक भी इलेक्ट्रिक होगा, तीन नई रेल लाइनों के सर्वे की घोषणा भी

जिले के यात्री जोधपुर-बीकानेर के साथ दिल्ली सहित कई महानगरों से जुड़ जाएंगे, चार साल में पूरा होगा काम

आसान हो जाएगा यात्रियों का सफर, दूर नहीं होगी अब दिल्ली : पिछले बजट में हनुमानगढ़-सादुलपुर, रेवाड़ी-बीकानेर व इस बजट में रतनगढ़-डेगाना विद्युतीकरण के लिए बजट आबंटित हो जाने से जिले के सभी स्टेशन हाईटेक जाएंगे। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि हालांकि इस काम में समय लगेगा, मगर आगामी 4 वर्षों में विद्युतीकरण का काम पूरा हो जाने के बाद जिले के चूरू, सादुलपुर, रतनगढ़ व सुजानगढ़ आदि स्टेशनों के यात्रियों को ट्रेनों की सुविधा मिलने लग जाएगी। अधिकारियों की मानें तो रेवाड़ी-सादुलपुर ट्रैक पर जुलाई तक इलेक्ट्रिक कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

चूरू-सीकर रेलवे ट्रैक, जो जल्द विद्युतीकृत लाइन से जुड़ने वाला है।

रेवाड़ी-सादुलपुर विद्युतीकरण काम जुलाई तक होगा


चूरू-रतनगढ़ स्टेशन पर बढ़ेगा स्टाफ




बजट में शेखावाटी को यह मिला

विद्युतीकरण

रतनगढ़-डेगाना 142 किमी लाइन

111.55 करोड़

रींगस-चूरू 140 किमी रेल लाइन

96.31 करोड़

सीकर-लुहारू 122 किमी रेल लाइन

102.51 करोड़

नई रेल लाइन सर्वे

रतनगढ़-फतेहपुर
सरदारशहर-राजगढ़
सरदारशहर-सूरतगढ़
मेंटिनेंस खर्च में 20% की कमी, पर्यावरण होगा सुरक्षित

घोषणा के मुताबिक सीकर से जुड़े 262 किमी रेलवे ट्रैक को इलेक्टिकल किया जा रहा है। इससे कई फायदे होंगे। इंजन मेंटिनेंस खर्च में 20 फीसदी की कमी होगी। वहीं धुआं नहीं होने से पर्यावरण सुरक्षित होगा। फिलहाल सीकर-दिल्ली का सफर तय करने में एक ट्रेन में करीब 1300 लीटर डीजल की खपत होती है। इससे निकलने वाला बेतहाशा धुंआ पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है।

डर ये कि पिछली घोषणाओं की तरह नहीं हो जाए

बजट में दिखाए गए सपनों को लेकर आमजन को डर भी है कि कहीं इनकी रफ्तार पिछली घोषणाओं की तरह न हो। क्योंकि शेखावाटी में सात साल पहले 2007 में ब्रॉडगेज रेल लाइन की घोषणा की गई थी। इसका काम 2010 में शुरू हुआ था जो अभी तक पूरा नहीं हो पाया है।

सरदारशहर से राजगढ़ और सूरतगढ़ तक लाइन बिछाने के लिए सर्वे की घोषणा : रेल मंत्री ने रतनगढ़-फतेहपुर के 36 किमी रूट ट्रैक के सर्वे की घोषणा की है। इससे बीकानेर से रतनगढ़ होकर रींगस-जयपुर जाने वाले यात्री रतनगढ़-फतेहपुर से सीधे ट्रेन से जा सकेंगे। उन्हें चूरू होकर फतेहपुर नहीं पड़ेगा। इससे समय की बचत होगी। इधर, रेलवे ने सरदारशहर-तारानगर व राजगढ़ के 100 किमी रूट ट्रैक व सरदारशहर-सूरतगढ़ के 115 किमी ट्रैक के सर्वे के लिए बजट में प्रावधान रखा है। सर्वे के लिए 20 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं। सर्वाधिक 10 लाख रुपए सरदारशहर-राजगढ़ ट्रैक के लिए मंजूर हुए हैं।

नई रेल लाइनों के सर्वे के लिए 20 लाख रुपए मंजूर

पूर्व में घोषित दो नई रेल लाइनों के सर्वे के लिए बजट जारी किया गया है। पिछले साल भी पांच लाख रुपए जारी किए गए थे। रतनगढ़ से फतेहपुर तथा नवलगढ़-झाझड़ से नीमकाथाना के बीच नई रेल लाइन व यातायात सर्वे के लिए 6 लाख रुपए का बजट जारी किया गया।

फाइलों में बंद सर्वे, रेल लाइनों को नहीं मिली मंजूरी

साल 2009 से 2013 में पूरे हुए तीन सर्वे रेलवे मंत्रालय के फाइल रिकॉर्ड में पड़े हैं। इन तीनों की लंबाई 464 किमी है। इनके सर्वे पर करीब पांच करोड़ रुपए भी खर्च हो चुके हैं। रेलवे बोर्ड के आंकड़े बताते हैं कि अगर इन तीनों लाइनों पर ट्रैक बिछाने का कार्य उस दौर में शुरू किया जाता तो यह सिर्फ 1850 करोड़ रुपए में पूरा हो जाता। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि अगर इन सर्वे लाइनों की स्वीकृत में अगर पांच साल और लगा दिए गए तो यह राशि बढ़कर तीन हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगी।

इन लाइनों के लिए पहले भी हो चुके हैं सर्वे




X
बजट घोषणा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..