Hindi News »Rajasthan »Ratangarh» बजट घोषणा

बजट घोषणा

आम बजट में इस बार रींगस-चूरू, रतनगढ़-डेगाना और सीकर-लुहारू रेल लाइन के विद्युतीकरण की घोषणा की गई है। इसके लिए 310.37...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 08, 2018, 07:00 AM IST

बजट घोषणा
आम बजट में इस बार रींगस-चूरू, रतनगढ़-डेगाना और सीकर-लुहारू रेल लाइन के विद्युतीकरण की घोषणा की गई है। इसके लिए 310.37 करोड़ रुपए का बजट जारी किया गया है। यानी आने वाले समय में चूरू जिले में हर ट्रैक पर इलेक्ट्रिक ट्रेन दौड़ेगी। बजट में मौजूदा रेल लाइन को इलेक्ट्रिक किए जाने के साथ ही नई रेल लाइनों के सर्वे की घोषणा भी की गई है। सर्वे के लिए बजट भी जारी किया गया है।

रेवाड़ी-बीकानेर के बाद इस बार रतनगढ़-डेगाना के 142 किलोमीटर रेल ट्रैक के विद्युतीकरण के लिए बजट आबंटित हो जाने से चूरू, रतनगढ़ व सादुलपुर रेलवे स्टेशन महत्वपूर्ण हो जाएंगे। सादुलपुर-श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ से तथा रतनगढ़-बीकानेर-जोधपुर से जुड़ जाएगा। चूरू जिला मुख्यालय इन सभी से जुड़ा होने के साथ सीकर-रींगस ट्रैक जुड़ जाएगा। रींगस-सीकर-चूरू 140 किमी रेल लाइन के विद्युतीकरण के लिए 96.31 करोड़ रुपए मंजूर किए गए हैं। चूरू में लोको शैड के अलावा स्टॉफ बढ़ने की संभावना भी हो गई।

चूरू, रतनगढ़ व सादुलपुर स्टेशन बीकानेर व जोधपुर डिवीजन जुड़े हुए हैं। सुजानगढ़ केवल जोधपुर डिवीजन में है। पिछले साल रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने रेवाड़ी-बीकानेर 286 किलोमीटर रेल खंड के विद्युतीकरण के लिए रेल बजट में 236 करोड़ का बजट आबंटित किया था। इसमें रतनगढ़-सरदारशहर ट्रैक भी शामिल था। इस बार रेल मंत्री पीयूष गोयल ने रतनगढ़-डेगाना के 142 रूट किलोमीटर की विद्युतीकरण के लिए 111.55 करोड़ और रींगस-सीकर-चूरू 140 किमी रेल लाइन के विद्युतीकरण के लिए 96.31 करोड़ रुपए का बजट आबंटित किया है।

रेवाड़ी-बीकानेर के बाद रतनगढ़-डेगाना और रींगस-चूरू ट्रैक भी इलेक्ट्रिक होगा, तीन नई रेल लाइनों के सर्वे की घोषणा भी

जिले के यात्री जोधपुर-बीकानेर के साथ दिल्ली सहित कई महानगरों से जुड़ जाएंगे, चार साल में पूरा होगा काम

आसान हो जाएगा यात्रियों का सफर, दूर नहीं होगी अब दिल्ली : पिछले बजट में हनुमानगढ़-सादुलपुर, रेवाड़ी-बीकानेर व इस बजट में रतनगढ़-डेगाना विद्युतीकरण के लिए बजट आबंटित हो जाने से जिले के सभी स्टेशन हाईटेक जाएंगे। रेलवे अधिकारियों का कहना है कि हालांकि इस काम में समय लगेगा, मगर आगामी 4 वर्षों में विद्युतीकरण का काम पूरा हो जाने के बाद जिले के चूरू, सादुलपुर, रतनगढ़ व सुजानगढ़ आदि स्टेशनों के यात्रियों को ट्रेनों की सुविधा मिलने लग जाएगी। अधिकारियों की मानें तो रेवाड़ी-सादुलपुर ट्रैक पर जुलाई तक इलेक्ट्रिक कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

चूरू-सीकर रेलवे ट्रैक, जो जल्द विद्युतीकृत लाइन से जुड़ने वाला है।

रेवाड़ी-सादुलपुर विद्युतीकरण काम जुलाई तक होगा

पिछले बजट में बीकानेर मंडल के अधिकतर क्षेत्र के लिए विद्युतीकरण के लिए बजट की घोषणा हो चुकी है। रेवाड़ी-सादुलपुर के बीच जुलाई तक एजेंसियां विद्युतीकरण कार्य शुरू कर देंगी। अब इस बार रतनगढ़-डेगाना के लिए बजट आबंटित होने से चूरू जिला पूरा विद्युतीकृत ट्रैक से जुड़ जाएगा। ये काम पूरा होने पर पूरा जिले में इलेक्ट्रिक ट्रैक हो जाएंगे। यानी हर ट्रैक पर इलेक्ट्रिक ट्रेन चलेंगी। -सीआर कुमावत, सीनियर डीसीएम, बीकानेर

चूरू-रतनगढ़ स्टेशन पर बढ़ेगा स्टाफ

बीकानेर-डेगाना ट्रैक के विद्युतीकृत हो जाने से जिले के सादुलपुर, चूरू, रतनगढ़, सरदारशहर, राजलदेसर आदि स्टेशन हाईटेक हो जाएंगे।

ट्रैक पर दर्जनों लंबी दूरी की गाड़ियां भी चलने लग जाएंगी, जिससे जिला सीधा महानगरों से जुड़ जाएगा।

ट्रैक विद्युतीकरण के बाद चूरू, सादुलपुर व रतनगढ़ रेलवे स्टेशन का महत्व बढ़ेगा। इन स्टेशनों पर लोको शैड व स्टॉफ बढ़ेगा। एक साल पहले चूरू आए जीएम ने भी इस आशय के संकेत दिए थे।

बजट में शेखावाटी को यह मिला

विद्युतीकरण

रतनगढ़-डेगाना 142 किमी लाइन

111.55करोड़

रींगस-चूरू 140 किमी रेल लाइन

96.31करोड़

सीकर-लुहारू 122 किमी रेल लाइन

102.51करोड़

नई रेल लाइन सर्वे

रतनगढ़-फतेहपुर 2लाख

सरदारशहर-राजगढ़ 10लाख

सरदारशहर-सूरतगढ़ 8लाख

मेंटिनेंस खर्च में 20% की कमी, पर्यावरण होगा सुरक्षित

घोषणा के मुताबिक सीकर से जुड़े 262 किमी रेलवे ट्रैक को इलेक्टिकल किया जा रहा है। इससे कई फायदे होंगे। इंजन मेंटिनेंस खर्च में 20 फीसदी की कमी होगी। वहीं धुआं नहीं होने से पर्यावरण सुरक्षित होगा। फिलहाल सीकर-दिल्ली का सफर तय करने में एक ट्रेन में करीब 1300 लीटर डीजल की खपत होती है। इससे निकलने वाला बेतहाशा धुंआ पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहा है।

डर ये कि पिछली घोषणाओं की तरह नहीं हो जाए

बजट में दिखाए गए सपनों को लेकर आमजन को डर भी है कि कहीं इनकी रफ्तार पिछली घोषणाओं की तरह न हो। क्योंकि शेखावाटी में सात साल पहले 2007 में ब्रॉडगेज रेल लाइन की घोषणा की गई थी। इसका काम 2010 में शुरू हुआ था जो अभी तक पूरा नहीं हो पाया है।

सरदारशहर से राजगढ़ और सूरतगढ़ तक लाइन बिछाने के लिए सर्वे की घोषणा : रेल मंत्री ने रतनगढ़-फतेहपुर के 36 किमी रूट ट्रैक के सर्वे की घोषणा की है। इससे बीकानेर से रतनगढ़ होकर रींगस-जयपुर जाने वाले यात्री रतनगढ़-फतेहपुर से सीधे ट्रेन से जा सकेंगे। उन्हें चूरू होकर फतेहपुर नहीं पड़ेगा। इससे समय की बचत होगी। इधर, रेलवे ने सरदारशहर-तारानगर व राजगढ़ के 100 किमी रूट ट्रैक व सरदारशहर-सूरतगढ़ के 115 किमी ट्रैक के सर्वे के लिए बजट में प्रावधान रखा है। सर्वे के लिए 20 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं। सर्वाधिक 10 लाख रुपए सरदारशहर-राजगढ़ ट्रैक के लिए मंजूर हुए हैं।

नई रेल लाइनों के सर्वे के लिए 20 लाख रुपए मंजूर

पूर्व में घोषित दो नई रेल लाइनों के सर्वे के लिए बजट जारी किया गया है। पिछले साल भी पांच लाख रुपए जारी किए गए थे। रतनगढ़ से फतेहपुर तथा नवलगढ़-झाझड़ से नीमकाथाना के बीच नई रेल लाइन व यातायात सर्वे के लिए 6 लाख रुपए का बजट जारी किया गया।

फाइलों में बंद सर्वे, रेल लाइनों को नहीं मिली मंजूरी

साल 2009 से 2013 में पूरे हुए तीन सर्वे रेलवे मंत्रालय के फाइल रिकॉर्ड में पड़े हैं। इन तीनों की लंबाई 464 किमी है। इनके सर्वे पर करीब पांच करोड़ रुपए भी खर्च हो चुके हैं। रेलवे बोर्ड के आंकड़े बताते हैं कि अगर इन तीनों लाइनों पर ट्रैक बिछाने का कार्य उस दौर में शुरू किया जाता तो यह सिर्फ 1850 करोड़ रुपए में पूरा हो जाता। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि अगर इन सर्वे लाइनों की स्वीकृत में अगर पांच साल और लगा दिए गए तो यह राशि बढ़कर तीन हजार करोड़ रुपए तक पहुंच जाएगी।

इन लाइनों के लिए पहले भी हो चुके हैं सर्वे

नीमकाथाना से सुजानगढ़ : 150 किमी के नीमकाथाना, उदयपुरवाटी, सीकर, सालासर और सुजानगढ़ के लिए सर्वे की घोषणा हुई थी। 2013 में सर्वे रिपोर्ट बोर्ड को गई। अभी तक कुछ नहीं हुआ। अनुमानित खर्चा 550 करोड़ रुपए है।

सीकर से नोखा : इस 209 किमी के रूट के लिए सर्वे पूरा करके बोर्ड को सबमिट किया जा चुका है। यह भी साल 2013 में ही पूरा कर लिया गया है। इस पर रेलवे ने 819 करोड़ रुपए का अनुमानित खर्चा बताया।

डीडवाना से रींगस : 105 किमी के रूट के लिए सर्वे साल 2009 में ही पूरा कर लिया गया। यह मार्ग रींगस, खाटूश्यामजी होते हुए डीडवाना का है। अनुमानित लागत 330 करोड़ बताई थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ratangarh

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×