Hindi News »Rajasthan »Rawatbhata» भामाशाह पशु बीमा योजना में गरीबों को 70% छूट

भामाशाह पशु बीमा योजना में गरीबों को 70% छूट

रावतभाटा उपखंड में पशुपालक अब घर बैठे पशुओं का बीमा करा सकेंगे। इसके लिए पशुपालन विभाग द्वारा भामाशाह बीमा योजना...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 04:10 AM IST

रावतभाटा उपखंड में पशुपालक अब घर बैठे पशुओं का बीमा करा सकेंगे। इसके लिए पशुपालन विभाग द्वारा भामाशाह बीमा योजना के तहत पशुओं का बीमा किया जा रहा है। योजना के तहत बीमा करवाने के लिए पशुपालकों के लिए भामाशाह कार्ड होना चाहिए।

पशुपालन विभाग द्वारा बीमा की प्रीमियम राशि पर पशुपालकों को अनुदान दिया जाएगा। एससी, एसटी बीपीएल वर्ग के पशुपालकों को भैंस का बीमा 413 रुपए प्रीमियम जिसमें जिसमें 50 हजार का बीमा। गाय का 330 की प्रीमियम राशि पर 40 हजार का बीमा होगा इसमें 70 प्रतिशत छूट शामिल है। सामान्य वर्ग के पशुपालकों को बीमा की प्रीमियम राशि में 50 प्रतिशत छूट मिलेगी। इन पशुपालकों को गाय के बीमा के लिए 550, भैंस के बीमा के लिए 688 रुपए जमा कराने होंगे। योजना के तहत देशी, संकर नस्ल के दूध देने वाले पशु गाय, भैंस, भार ढोने वाले ऊंट, घोड़ा, गधा, सांड़, पाड़ा तथा अन्य पशु बकरी, भेड़ का बीमा अनुदानित प्रीमियम दर पर किया जाएगा। भेड़ का बीमा करवाने पर विभाग द्वारा एससी, एसटी एवं बीपीएल पशुपालकों को 80 प्रतिशत अनुदान एवं सामान्य वर्ग के पशुपालकों को 70 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। रोग या दुर्घटना से बीमित पशु की मृत्यु होने पर 100 प्रतिशत बीमा लाभ दिया जाएगा। अनुदानित बीमा के लिए दुधारु गाय की कीमत 40 हजार, भैंस की 50 हजार भार ढोने वाले पशु (ऊंट, घोड़ा, गधा, सांड, पाडा) की अधिकतम 50 हजार रुपए रहेगी। बीमा योजना में टैग से पशुओं की पहचान सुनिश्चित होने से इसमें पारदर्शिता रहेगी।

बीमित पशु पर लगाया जाएगा टैग, टैग गिरने पर पशुपालकों को देनी होगी विभाग को सूचना

इस तरह होगा पशु का बीमा

पशुपालकों को अपने पशुओं को बीमा करवाने के लिए संबंधित पशु चिकित्सालय में पशु बीमा के लिए सूचित करना होगा। सूचना के बाद पशु चिकित्सक एवं संबंधित बीमा कंपनी अभिकर्ता पशुपालक के घर पहुंचेंगे। वहां पर पशु चिकित्सक द्वारा पशु का स्वास्थ्य परीक्षण कर स्वास्थ्य प्रमाण पत्र जारी करेगा। बीमा के लिए पशुपालक के पास भामाशाह कार्ड एवं बैंक में खाता होना जरूरी है। पशु का बीमा करने के दौरान बीमा कंपनी द्वारा पशु के कान में टैग लगाया जाएगा। पशुपालक की पशु के साथ संयुक्त फोटो ली जाएगी। बाद में पशु का बीमा कर पॉलिसी जारी कर दी जाएगी। पशु का बीमा होने के बाद कान में लगाया जाने वाला टैग गिर जाता है तो पशुपालक द्वारा बीमा कंपनी को सूचना दी जाएगी। जिससे बीमा कंपनी पशु के नया टैग लगा सके। पशु चिकित्सालय भैंसरोडगढ़ के चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुनील साब्दे ने बताया कि योजना में पारदर्शिता लाने के लिए टैग लगाने की प्रकिया अपनाई जा रही है।

पशुओं के बीमा के लिए पशुपालकों को भटकने की अब आवश्यकता नहीं होगी। इसके लिए भामाशाह बीमा योजना में बीमा प्रकिया सरल बना दी है। पशुपालकों को बीमा की राशि भी आसानी से मिल सकेगी। रावतभाटा उपखंड में पशुधन बीमा योजना में 150 यूनिट का बीमा किया जा चुका है। डॉ.अशोक जोगदंड, पशु चिकित्सक, नोडल पशु चिकित्सालय

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Rawatbhata News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: भामाशाह पशु बीमा योजना में गरीबों को 70% छूट
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Rawatbhata

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×