Hindi News »Rajasthan »Rawatsar» रावतसर में व्यापारियों का समर्थन, दस दिन तक बंद रहेगी जिंसों की बोली, पीलीबंगा में दूध व सब्जी की सप्लाई ठप की

रावतसर में व्यापारियों का समर्थन, दस दिन तक बंद रहेगी जिंसों की बोली, पीलीबंगा में दूध व सब्जी की सप्लाई ठप की

भास्कर संवाददाता| रावतसर/पीलीबंगा किसान आंदोलन को रावतसर में स्थानीय फूडग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन ने समर्थन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 04, 2018, 06:00 AM IST

रावतसर में व्यापारियों का समर्थन, दस दिन तक बंद रहेगी जिंसों की बोली, पीलीबंगा में दूध व सब्जी की सप्लाई ठप की
भास्कर संवाददाता| रावतसर/पीलीबंगा

किसान आंदोलन को रावतसर में स्थानीय फूडग्रेन मर्चेंट एसोसिएशन ने समर्थन दिया है। एसो. के जयनारायण गोदारा ने बताया कि सोमवार से 10 जून तक किसान आंदोलन के समर्थन में धानमंडी में कृषि जिन्सों की बोली नहीं होगी तथा खरीद प्रक्रिया पूरी तरह बंद रहेगी। वहीं रविवार को हड़ताल कर रहे दूध विक्रेताओं व किसानों में गुटबाजी देखने को मिली। हड़ताल के समर्थन में आया एक धड़ा रामपुरा मार्ग पर डीडब्ल्यूडी नहर के पास नाकाबंदी किए हुए था वहीं दूसरी ओर सब्जी उत्पादक किसान अपनी सब्जियां बेचने के लिए शहर ला रहे थे। पीलीबंगा में अखिल भारतीय किसान संगठनों के आह्वान पर मसरूवाला बस स्टैंड पर गांव बंद आंदोलन के संयोजक गोपाल बिश्नोई, इकबाल मान, राजवंत सिंह, गुरमेल सिंह, जसवीर सिंह व दर्शन सिंह रामगढिय़ा के नेतृत्व में प्रात: 4 बजे से ही किसानों ने धरना देकर दूध व सब्जी की सप्लाई ठप रखी। हनुमानगढ़ सूरतगढ़ रोड पर संदिग्ध साधनों को रोककर तलाशी ली गई ताकि कोई चोरी छुपे से सब्जी व दूध का परिवहन न कर सके। इसके बावजूद कुछ वाहन चालक चतुराईपूर्वक कस्बे में दूध की सप्लाई करने में सफल रहे।

सतीपुरा में बैठक में लिया निर्णय; किसान अपना उत्पाद खुद ही बेचेंगे, ताकि नहीं हो आमजन को परेशानी

हनुमानगढ़| एक जून से चल रहे किसानों के गांव बंद आंदोलन के तीसरे दिन रविवार को आठ गांवों के किसानों की बैठक सतीपुरा के गुरुद्वारा में हुई। बैठक में किसान नेता डॉ. सौरभ राठौड़, रेशम सिंह मानुका, कुलविंदर ढिल्लो, जवेंदर सिंह, रामप्रताप भांभू, जसविंदर सिंह, सुभाष, विक्रम नैण, सुनील नैन की अगुवाई में किसानों का धरना जारी रहा। सौरभ राठौड़ ने बताया कि सोमवार से किसान खुद ही अपना उत्पाद बेचेंगे ताकि आमजन को कोई परेशानी नहीं हो। वहीं किसानों ने गांव से शहरी क्षेत्र में सब्जी और दूध ले जाने वाले किसानों को समझाइश कर किसान आंदोलन को सफल बनाने का आह्वान किया। इस मौके पर सरकार की संवेदनहीनता से आक्रोशित किसानों ने जमकर नारेबाजी की। इस मौके हनुमानगढ़ पंचायत समिति डायरेक्टर सुनीता बराड़, पूर्व सरपंच लखवीर सिंह, बलराज सिंह, गुरु दत्ता सिंह, विकास शर्मा, गुरमेल सिंह, बलवीर सिंह, रजत मेघाराम, अरविंद कुमार आदि किसान मौजूद थे। वहीं किसान हड़ताल के तीसरे दिन मिलाजुला असर आया। सरस डेयरी के सामने किसानों का धरना जारी रहा। किसानों ने डेयरी के आगे सभा भी की। किसानों के धरने के चलते तीन दिनों से सरस डेयरी में दूध की एक भी गाड़ी नहीं आई है।

हनुमानगढ़. गांव सतीपुरा में आठ गांवों के किसानों की बैठक में रणनीति बनाते किसान।

इधर...गोशाला का वाहन रोका, दूध की कैनियां छीनकर ले गए, केस दर्ज : जंक्शन में कुछ युवक गोशाला समिति का वाहन रुकवाकर दूध से भरी कैनियां छीनकर ले गए। पुलिस ने इस संबंध में रविवार को एक युवक को नामजद कर 15-20 अन्यों के खिलाफ केस दर्ज किया है। गो सेवा समिति नई खुंजा के अध्यक्ष शिवरतन खड़गावत ने पुलिस को बताया कि कुलदीप नरूका निवासी जोड़किया व 15-20 अन्यों ने हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी स्थित शिव कुटिया के पास गोशाला के वाहन को रोककर गोशाला समिति कर्मचारियों के साथ मारपीट की। इसके बाद दूध की कैनियां छीनकर ले गए। एएसआई हरपाल सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। गौरतलब है कि किसान आंदोलन के तहत दूध व सब्जी वाहनों को रोके जा रहे हैं। वाहनों से दूध व सब्जियां सड़कों पर फेंकी जा रही है। शनिवार देर रात्रि को भी जंक्शन में अरोड़वंश धर्मशाला के पास डेयरी से दूध लेकर जा रही जीप को कुछ लोगों ने रोककर हमला कर दिया था। जीप में रखे दूध की थैलियों से भरे करीब 40 कैरेट सड़क पर बिखेर आरोपी फरार हो गए थे।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Rawatsar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×