Hindi News »Rajasthan »Revdar» स्वास्थ्य जांच में वरमाण व नागाणी की दो बालिकाओं के दिल में छेद मिले, सरकार ने करवाया ऑपरेशन

स्वास्थ्य जांच में वरमाण व नागाणी की दो बालिकाओं के दिल में छेद मिले, सरकार ने करवाया ऑपरेशन

सरकार की ओर से चलाए जा रहे राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत ब्लॉक में दो बालिकाओं के दिल में छेद पाए जाने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 29, 2018, 08:50 PM IST

सरकार की ओर से चलाए जा रहे राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत ब्लॉक में दो बालिकाओं के दिल में छेद पाए जाने पर चिकित्सा विभाग की ओर से दोनों बालिकाओं का जोधपुर के राजकीय अस्पताल में निशुल्क ऑपरेशन करवाया गया। ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. शरद सक्सैना ने बताया कि सरकार की ओर से चलाई जा रही योजना राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत आरबीएसके टीम की ओर से ब्लॉक क्षेत्र की आंगनबाड़ी, राजकीय स्कूलों मदरसों में अध्ययनरत 6 माह से 18 साल तक के बच्चों की निशुल्क स्वास्थ्य जांच की गई, जिसमें ब्लॉक के वरमाण आंगनबाड़ी केंद्र ए में सोनल गर्ग एवं नागाणी की 11 वर्षीय गायत्री के दिल में जन्म से छेद पाए जाने पर उनके परिजनों से मिल कर सरकार की ओर से चलाई जा रही योजना के तहत सरकार की ओर से निशुल्क इलाज एवं ऑपरेशन की जानकारी दी गई।

सोनल के पिता प्रकाश गर्ग एवं गायत्री के पिता कपुराराम ने स्वास्थ जांच टीम को बताया कि निजी डॉक्टर्स से जांच कराने पर यह बीमारी सामने आई थी, लेकिन ऑपरेशन खर्च तीन लाख से ज्यादा होने के कारण ऑपरेशन नहीं करवाया जा सका। ऐसे में रेवदर की स्वास्थ्य टीम ने उसे ब्लॉक के राजकीय अस्पताल लाया, जहां से उसे जिला मुख्यालय के राजकीय अस्पताल रेफर किया गया। जहां जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. दिनेश शर्मा ने दोनों बालिकाओं को जोधपुर के राजकीय अस्पताल रेफर किया गया। वहां पर दोनों बालिकाओं का निशुल्क ऑपरेशन एवं इलाज किया गया।

ब्लाँक अधिकारी ने बताया की इसमें डॉ. बनवारीलाल, डॉ. कृतिका चंदेल, डॉ. मनीषा आर्य, धर्मवीर, पवन योगी, कृष्णलाल का सहयोग रहा, जहां पर दोनों बालिकाओं के दिल में छेद होने का सफल ऑपरेशन हो सका।

राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 6 माह से 18 साल तक के बच्चों का किया गया था स्वास्थ्य परीक्षण

वरमाण व नागाणी में दो बालिकाओं के दिल में पाए गए थे छेद, सरकार ने जोधपुर में करवाया निशुल्क ऑपरेशन

यह है सरकार की योजना

ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. सरद सक्सैना ने बताया कि सरकार की ओर से राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम योजना के तहत 6 माह से 18 साल तक के बच्चे का निशुल्क स्वास्थ्य जांच आगनबाड़ी केन्द्र, राजकीय स्कूलों व मदरसों में पढऩे वाले बच्चों के स्वास्थ्य की निशुल्क जांच ब्लॉक स्तरीय जांच टीम की ओर से किया जाता है।

इसमें जांच के दौरान गंभीर बीमारी पाई जाने पर उसका इलाज ब्लॉक या जिला स्तर के राजकीय अस्पताल में किया जाता है। वहां भी उस बीमारी का इलाज संभव नहीं होता है, तो उन्हें ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों द्वारा आगे रेफर किया जाता है।

जहां जिला स्तर से संबंधित राजकीय अस्पताल में रेफर कर बच्चे का निशुल्क इलाज एवं ऑपरेशन किया जाता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Revdar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×