• Home
  • Rajasthan News
  • Riya Badi News
  • जैजासनी में दूध सड़क पर बहाया, रियां के शिव मंदिर में अभिषेक के साथ किसानों का गांव बंद आंदोलन शुरू
--Advertisement--

जैजासनी में दूध सड़क पर बहाया, रियां के शिव मंदिर में अभिषेक के साथ किसानों का गांव बंद आंदोलन शुरू

भास्कर संवाददाता | रियां बड़ी किसानों को पूरी कर्ज माफी, आय सुनिश्चित करने और फसलों का सही दाम दिलाने के लिए...

Danik Bhaskar | Jun 02, 2018, 06:15 AM IST
भास्कर संवाददाता | रियां बड़ी

किसानों को पूरी कर्ज माफी, आय सुनिश्चित करने और फसलों का सही दाम दिलाने के लिए स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू करने की मांग को लेकर जैजासनी में किसानों ने 10 दिन का गांव बंद आंदोलन शुक्रवार को शुरू किया। किसानों ने दूध सड़कों पर बहाकर विरोध प्रदर्शन किया। अब 10 दिन तक गांव में बाहर से सामग्री मंगवाने और गांव से दूध, सब्जी और अन्य सामान बाहर भेजने पर रोक लगा दी है।

किसानों की राष्ट्रव्यापी गांव बंद हड़ताल के समर्थन में ग्रामीणों ने यह आंदोलन शुरू किया है। इसके साथ ही रियां बड़ी के दूध उत्पादकों ने भी दोपहर में पेली बावड़ी शिवालय में दुग्धाभिषेक कर आंदोलन के समर्थन का ऐलान किया है। उन्होंने भी गांव बंद को समर्थन दिया। इस दौरान ओमप्रकाश, देवकिशन, गोपीराम, जगदीश, कपिल, दौलतराम, हरिराम, हड़मान, सुखाराम, लिखमाराम, शोभाराम, मनीष, हजारी, चैनाराम, जेठाराम, कानाराम, रामदेव, नंदूराम, फकीराराम और महेंद्र आदि मौजूद थे। इस बारे में एसडीएम गौरीशंकर शर्मा का कहना है कि उन्हें इस आंदोलन की जानकारी नहीं है। पता करवाता हूं।

डेयरी वाहन व फल विक्रेता को लौटाया

जैजासनी में सुबह किसान इकट्ठे हो गए और दूध सड़कों पर बहा दिया। डेयरी की गाड़ियों व थांवला की तरफ से रियां बड़ी आने वाली तरबूज व सब्जियों की गाड़ियों को वापस ले जाने की बात कही। एक चालाक ने आना-कानी की तो किसानों ने गाड़ी में भरे दूध के सारे केन खोलकर दूध सड़क पर बहा दिया। डेयरी प्लांट संचालकों ने डेयरी दुकानदारों को मैसेज किया है कि दूध सुरक्षित प्लांट तक पहुंचने पर ही भुगतान किया जाएगा। इससे दूध उत्पादकों की चिंता बढ़ गई है।

शहरों में दूध और सब्जी की बढ़ सकती है किल्लत

किसानों के गांव बंद आंदोलन का अभी तक जैजासनी गांव में ही असर दिखाई दिया। दोपहर तक रियां बड़ी के दूध वालों द्वारा आंदोलन को समर्थन देने के बाद अब आसपास के गांवों में भी आंदोलन का असर होने की संभावना है। जिसके चलते आमजन को दूध व सब्जियों की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है। रियां बड़ी में दूध की सप्लाई का अधिकांश हिस्सा जैजासनी, सूरियास और जड़ाऊ कलां से ही आता है।

रियां बड़ी. शिवालय में महादेव का दुग्धाभिषेक करते आंदोलनकारी किसान।