रूपनगढ़

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Roopangarh News
  • सफाई भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने का मामला : दूसरे दिन भी झाड़ू डाउन
--Advertisement--

सफाई भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने का मामला : दूसरे दिन भी झाड़ू डाउन

भास्कर न्यूज | मदनगंज किशनगढ़ सफाई कर्मचारी भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने की मांग को लेकर शहर में...

Dainik Bhaskar

Jun 07, 2018, 06:05 AM IST
सफाई भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने का मामला : दूसरे दिन भी झाड़ू डाउन
भास्कर न्यूज | मदनगंज किशनगढ़

सफाई कर्मचारी भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने की मांग को लेकर शहर में दूसरे दिन भी झाड़ू डाउन हड़ताल जारी रही। सफाई कर्मचारियों की हड़ताल के चलते बुधवार को भी न तो सड़कों और गलियों में सफाई हुई और न ही डोर टू डोर कचरा संग्रहण का कार्य हुआ। इधर विरोध प्रदर्शन के बाद सभी संगठनों के पदाधिकारी जयपुर वार्ता में भाग लेने रवाना हो गए।

जानकारी के अनुसार नगर परिषद में चल रही भर्ती में वाल्मीकि समाज को ही प्राथमिकता की मांग को लेकर अखिल भारतीय सफाई मजदूर कांग्रेस, अखिल राजस्थान सफाई मजदूर सहित वाल्मीकि व मेहतर समाज के पदाधिकारी व सदस्य मंगलवार से हड़ताल पर हैं। इसमें स्थाई कर्मचारी और ठेका कर्मचारी भी शामिल हैं। हड़ताल के चलते बुधवार सुबह शहर के किसी भी पॉइंट पर सफाईकर्मी काम पर नहीं गए। किसी सड़क पर झाडू नहीं लगाई गई। डोर-टू-डोर कचरा संग्रहण वाले टेंपो भी नहीं चले। इसके चलते अधिकांश क्षेत्रों में लोग अपने घर व दुकान का कचरा भी नहीं डाल पाए।

सड़कों पर फैली गंदगी, झाड़ू लगी न घरों से उठा कचरा

कई जगह बिखरा रहा कचरा

परिषद क्षेत्र में सब्जी मंडी, पुराना शहर सरवाड़ी गेट, नया शहर सब्जी मंडी, शिवाजी नगर, स्टेशन रोड, कृष्णापुरी सहित कई क्षेत्रों में सड़कों पर कचरा बिखरा रहा। रूपनगढ़ रोड, सराना रोड, रामनेर रोड, चमड़ाघर, अजमेर रोड, जयपुर रोड, कृषि मंडी के सामने सड़कों पर सफाई नहीं हुई। हालांकि पहला दिन ज्यादा असर नहीं रहा लेकिन दूसरे दिन हड़ताल का असर दिखने लगा है। अगर हड़ताल लंबी चली तो गर्मी में आमजन को परेशानी बढ़ सकती है। मानसून पूर्व नालों की सफाई कार्य भी प्रभावित होगी।

सफाईकर्मियों की हड़ताल के चलते बिगड़े हालात।

...तो काम भी ढंग से नहीं होगा

राज्यभर के निकायों में सफाईकर्मी भर्ती के तहत नगर परिषद में 161 पदों पर भर्ती प्रक्रिया चल रही है। इसके लिए 964 आवेदन आए हैं। वाल्मीकि समाज का कहना है कि सामान्य आरक्षण के अलावा भर्ती प्रक्रिया सभी के लिए खुली रखी गई। जबकि यह कार्य परंपरागत रूप से वाल्मीकि समाज करता आ रहा है। इसके अलावा चयन का आधार भी इंटरव्यू की बजाय लाॅटरी को रखा गया। अन्य वर्गों के उच्च शिक्षित बेरोजगारों ने भी फार्म भर दिए है। यदि उनका चयन हुआ तो वे कौनसे सही ढंग से सफाई कर पाएंगे। एवजी कर्मियों से कार्य करवाएंगे या नौकरी छोड़ देंगे, जिससे फिर पद रिक्त होंगे।

X
सफाई भर्ती में वाल्मीकि समाज को प्राथमिकता देने का मामला : दूसरे दिन भी झाड़ू डाउन
Click to listen..