• Home
  • Rajasthan News
  • Sadulshahar News
  • फरियादी आए...अफसर नहीं; पहले दिन 3 अधिकारियों को चार्जशीट, 4 को कारण बताओ नोटिस
--Advertisement--

फरियादी आए...अफसर नहीं; पहले दिन 3 अधिकारियों को चार्जशीट, 4 को कारण बताओ नोटिस

श्रीगंगानगर | विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। इसे देखते हुए सरकार चाहती है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को सरकारी सिस्टम से...

Danik Bhaskar | May 02, 2018, 06:20 AM IST
श्रीगंगानगर | विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। इसे देखते हुए सरकार चाहती है कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को सरकारी सिस्टम से फायदा मिल सके, लेकिन अधिकारी सरकार की इस मंशा को समझ नहीं पा रहे। दफ्तरों में तो पहले से लापरवाहियां उजागर होती रही हैं, अब शिविरों में भी यह आम बात हो चुकी है। इसी का एक नमूना मंगलवार को शुरू हुए राजस्व लोक अदालत अभियान में देखने को मिला। जिले की 11 ग्राम पंचायतों से राजस्व लोक अदालत अभियान शुरू हुआ। पहले ही दिन व्यवस्थाओं का जायजा लेने पहुंचे कलेक्टर असंतुष्ट दिखे। वजह- दो विभागों के अधिकारी तो अभियान में ही नहीं पहुंचे। इस पर कलेक्टर ने दोनों पर 17 सीसीए चार्जशीट के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए। इसके अलावा 4 विभाग ऐसे रहे, जिनके अधिकारियों ने भी अभियान के प्रकरणों में रूचि नहीं दिखाई, इन्हें भी कारण बताओ नोटिस दिए जाएंगे। राजस्व लोक अदालत अभियान के पहले दिन मंगलवार को जिले की 9 पंचायत समितियों की 11 ग्राम पंचायतों में अभियान की शुरुआत हुई। कलेक्टर ज्ञानाराम सूरतगढ़ पंचायत समिति के गांव गुरुसर मोडिया में न्याय आपके द्वार शिविर में पहुंचे तथा व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने महिला बाल विकास विभाग के सीडीपीओ तथा पशुपालन विभाग के संबंधित अधिकारी द्वारा अभियान में नहीं आने के कारण चार्जशीट देने तथा 17 सीसीए के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए। इसी प्रकार न्याय आपके द्वार अभियान में अधीक्षण अभियंता विद्युत, अधीक्षण अभियंता जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, लीड बैंक के एलबीएम तथा महिला बाल विकास विभाग की क्षेत्रीय उपनिदेशक द्वारा अभियान में रूचि नहीं दिखाने के कारण बताओ नोटिस दिए जाएंगे।

राजस्व लोक अदालत

कलेक्टर जायजा लेने गए तो सामने आई लापरवाही, नाराज हो उठाया नोटिस देने का कदम, कहा- लोगों को राहत देना ही मकसद

लोग बोले- पहले ही दिन ये हालात हैं, आगे क्या उम्मीद करें?

राजस्व प्रकरणों में राहत के लिए शुरू हुए अभियान के पहले दिन ही लापरवाही उजागर हुई है। लोगों का कहना है कि शुरुआत में ही ये हाल हैं तो आमजन आगे क्या उम्मीद करें? पहले दिन कलेक्टर जायजा लेने पहुंच गए और लापरवाह अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश दे दिए, लेकिन ये जरूरी नहीं कि हर रोज कलेक्टर दूर-दराज के गांवों में जाएंगे। सरकारी स्तर पर काम में किस तरह ढिलाई बरती जाती है, अभियान में ही इसका उदाहरण देखने को मिल गया।

विधायक, कलेक्टर व एसडीएम तक शिविर में आए, पर कई अधीनस्थ अफसर गायब रहे : कलेक्टर ने समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों, एसडीएम व राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया है कि आयोजित शिविरों में उपस्थित रहें। आमजन की समस्याओं को सुनें तथा मौके पर ही समस्या का निवारण करने का प्रयास किया जाए। उन्होंने अधिकारियों व कार्मिकों के निर्देशित किया है कि सरकार की मंशा के अनुरूप अभियान की गंभीरता को समझें। राजस्व अभियान के दौरान सूरतगढ़ विधायक राजेन्द्र सिंह भादू, एसडीएम सीता शर्मा, विकास अधिकारी रोमा सहारण, सरपंच व विभिन्न विभागों के अधिकारी व ग्रामीण जन उपस्थित थे।

कई गांवों में शिविरों की तारीखें बदलीं : राजस्व लोक अदालत अभियान न्याय आपके द्वार के तहत सादुलशहर पंचायत समिति क्षेत्र में शिविरों की तिथियों में परिवर्तन किया गया है। कलेक्टर ज्ञानाराम ने बताया कि 4 मई को नूरपुरा, 8 मई को करड़वाला, 10 को गांव गदरखेड़ा, 11 को खेरूवाला, 14 को नारायणगढ़, 15 को बहरामपुरा बोदला, 17 को छापांवाली, 18 को किल्लांवाली, 21 को गांव मन्नीवाली, 24 को खाटसजवार, 25 को तख्तहजारा, 28 को बुधरवाली, 29 को हाकमाबाद, 31 को बनवाली, 4 जून को भागसर, 5 को धर्मसिंहवाला, 8 को चक केरा, 11 को मोरजण्डखारी, 12 को सरदारपुरा जीवन, 14 को लालगढ़ जाटान, 18 को मम्मड़खेड़ा, 19 को पन्नीवाली, 21 को रोटांवाली, 25 को चेतरामवाला, 28 को ताखरांवाली में राजस्व शिविर लगेंगे।