• Home
  • Rajasthan News
  • Saipau News
  • दौनारी सरपंच और सहरौली के पूर्व सरपंच के घर हुई चोरियों का नहीं लगा कोई सुराग
--Advertisement--

दौनारी सरपंच और सहरौली के पूर्व सरपंच के घर हुई चोरियों का नहीं लगा कोई सुराग

थाना इलाके में दौनारी सरपंच और सहरौली के पूर्व सरपंच जबल सिंह कुशवाह के घर पर हुई दो बड़ी चोरियों के साथ लूट और...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 06:55 AM IST
थाना इलाके में दौनारी सरपंच और सहरौली के पूर्व सरपंच जबल सिंह कुशवाह के घर पर हुई दो बड़ी चोरियों के साथ लूट और नकबजनी की कई वारदातों का खुलासा नहींं होने से स्थानीय पुलिस की नाकामी लोगों में चर्चा का विषय बनी हुई है। महीनों पहले की इन वारदातों में पुलिस कई माह बीत जाने के बाद भी किसी नतीजे पर नही पहुंच सकी है। हद की बात तो यह है कि पीड़ित चोरी के खुलासे के लिए थाने और पुलिस के चक्कर काटते काटते थक चुके है। लेकिन पुलिस अभी तक न चोरों तक पहुंच सकी है और न ही चोरी का माल बरामद कर सकी है। ऊपर से पुलिस का गैर जिम्मेदाराना रवैया पीडितों को बुरी तरह आहत कर रहा है।

जानकारी के अनुसार दौनारी सरपंच मंजूला परमार के घर पर 17 नवंबर को चोरों ने साढ़े तीन लाख की नगदी सहित करीब 60 तोला सोना और रिश्तेदार की एक लाइसेंसी पचफेरा चोरी कर लिया। घटना को करीब ढाई साल बीत चुका है। लेकिन पुलिस चोरी का माल बरामद करना तो दूर चोरों का पता तक नहीं लगा सकी है। घटना को लेकर सरपंच और उसका परिवार महीनों से थाना पुलिस से लेकर पुलिस के उच्चाधिकारियों के चक्कर लगाते लगाते थक चुकेे है। लेकिन चोरी की बरामदगी को लेकर उच्चाधिकारियों की चौखट से भी निराशा ही हाथ लगी है। यही नहीं इलाके की एक और बडी चोरी सहरौली के पूर्व सरपंच जबल सिंह कुशवाह के घर से लाखों का माल पार होने की वारदात के खुलासे में पुलिस के हाथ खाली होने से पीडितों में पुलिस के रवैयेे को लेकर खासी नाराजगी है। पीड़ितों का आरोप है कि पुलिस जांच के नाम पर उन्हें गुमराह करती चली आ रही है। वहीं चोरी का पता लगाने के लिए पीडित खुद भी अपने स्तर से प्रयास और जानकारी जुटाने में अपने सारे काम छोड़ चुके है और दौड़ धूप करने में लाखों रूपए बर्बाद कर चुके है। उसके बाद भी कोई सफलता मिलती दिखाई नहीं दे रही है।

पुलिस पर दबाव बनाने के लिए होगी बैठक

दौनारी सरपंच प्रतिनिधी सोनू परमार ने बताया कि चोरी का कोई पता नहीं लगने से उसका पूरा परिवार सदमे की स्थिति में है। पुलिस कार्रवाई के नाम पर उसे गुमराह कर रही है। ऐसे में पुलिस पर दबाव बनाने के लिए वह समाज जन प्रतिनिधियों और नागरिकों के साथ इलाके के सर्व समाज की बैठक आयोजित करेगा। जिसमें चोरों की गिरफ्तारी और माल बरामदगी को लेकर पुलिस अधिकारियों से अंतिम बार बात की जाएगी।