Hindi News »Rajasthan »Saipau» 11 केवी लाइन के ढीले तारों से हर समय हादसे की आशंका

11 केवी लाइन के ढीले तारों से हर समय हादसे की आशंका

सैंपऊ| तसीमो कस्बे के बाग मोहल्ले के ऊपर से गुजरी 11 सौ केवी विद्युत लाइन के ढीले पड़े तारों के आपस में टकराने से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 12, 2018, 04:50 AM IST

सैंपऊ| तसीमो कस्बे के बाग मोहल्ले के ऊपर से गुजरी 11 सौ केवी विद्युत लाइन के ढीले पड़े तारों के आपस में टकराने से निकलने वाली चिंगारी आस-पास के मकानों में रहने वाले लोगों के लिए हादसे का कारण बनती जा रही है। कई बार इस तरह की घटनाएं होने पर ग्रामीणों को कच्चे मकानों में आग लगने एवं पशुधन को भारी नुकसान हो चुका है। उसके बावजूद विद्युत निगम के द्वारा ढीले पड़े तारों को कसने के लिए कोई आवश्यक कदम नहीं उठाया गया है। जिसके चलते स्थानीय निवासियों में निगम के खिलाफ भारी आक्रोश व्याप्त है।

ग्रामीण नीतू कुशवाह, सोनू गोस्वामी ने बताया कि गर्मी के समय में हवाओं का दौर शुरू हो गया है। ऐसे में मामूली हवा बहने पर 11 सौ केवी विद्युत लाइन के तार ढीले होने के कारण आपस में टकराते रहते हैं। जिसके चलते हादसे की आशंका बनी रहती है। पूर्व में अनेक बार नीचे और आस-पास बने मकानों में आगजनी की घटना घट चुकी है। इन हादसों में 2 भैंस और एक गाय भी विद्युत लाइन के टूटने की वजह से काल का ग्रास बन चुकी है। हादसों के समय ग्रामीणों ने विद्युत लाइन को अन्यत्र ट्रांसफर किए जाने और ढीले पड़े तारों को टाइट किए जाने को लेकर संबंधित अधिकारियों को शिकायत भी दी। लोगों का आरोप है कि कार्रवाई करने के बजाय अधिकारियों ने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली है। जिसके चलते लोगों को जाने अनजाने विद्युत लाइन से हादसे का डर बना रहता है। लोगों का कहना है कि विभाग को इस बारे में कई बार सूचित किया जा चुका है लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा सकी। उनका कहना है कि यदि शीघ्र विभाग ने समस्याओं का समाधान नहीं कराया तो कस्बावासी आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

सैंपऊ| तसीमो कस्बे के बाग मोहल्ले के ऊपर से गुजरी 11 सौ केवी विद्युत लाइन के ढीले पड़े तारों के आपस में टकराने से निकलने वाली चिंगारी आस-पास के मकानों में रहने वाले लोगों के लिए हादसे का कारण बनती जा रही है। कई बार इस तरह की घटनाएं होने पर ग्रामीणों को कच्चे मकानों में आग लगने एवं पशुधन को भारी नुकसान हो चुका है। उसके बावजूद विद्युत निगम के द्वारा ढीले पड़े तारों को कसने के लिए कोई आवश्यक कदम नहीं उठाया गया है। जिसके चलते स्थानीय निवासियों में निगम के खिलाफ भारी आक्रोश व्याप्त है।

ग्रामीण नीतू कुशवाह, सोनू गोस्वामी ने बताया कि गर्मी के समय में हवाओं का दौर शुरू हो गया है। ऐसे में मामूली हवा बहने पर 11 सौ केवी विद्युत लाइन के तार ढीले होने के कारण आपस में टकराते रहते हैं। जिसके चलते हादसे की आशंका बनी रहती है। पूर्व में अनेक बार नीचे और आस-पास बने मकानों में आगजनी की घटना घट चुकी है। इन हादसों में 2 भैंस और एक गाय भी विद्युत लाइन के टूटने की वजह से काल का ग्रास बन चुकी है। हादसों के समय ग्रामीणों ने विद्युत लाइन को अन्यत्र ट्रांसफर किए जाने और ढीले पड़े तारों को टाइट किए जाने को लेकर संबंधित अधिकारियों को शिकायत भी दी। लोगों का आरोप है कि कार्रवाई करने के बजाय अधिकारियों ने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली है। जिसके चलते लोगों को जाने अनजाने विद्युत लाइन से हादसे का डर बना रहता है। लोगों का कहना है कि विभाग को इस बारे में कई बार सूचित किया जा चुका है लेकिन फिर भी कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा सकी। उनका कहना है कि यदि शीघ्र विभाग ने समस्याओं का समाधान नहीं कराया तो कस्बावासी आंदोलन के लिए मजबूर होंगे।

सैंपऊ. रिहायशी बस्ती के ऊपर झूलते विद्युत तार।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Saipau

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×