Hindi News »Rajasthan »Sanchore» जिलेवासियों ने गुलाल अबीर से होली खेल दी एक दूसरे को बधाई, ईलोजी की बारात में उमड़े शहरवासी

जिलेवासियों ने गुलाल अबीर से होली खेल दी एक दूसरे को बधाई, ईलोजी की बारात में उमड़े शहरवासी

शहर सहित जिले भर में होली का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक ने एक-दूसरे को...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 04:10 AM IST

जिलेवासियों ने गुलाल अबीर से होली खेल दी एक दूसरे को बधाई, ईलोजी की बारात में उमड़े शहरवासी
शहर सहित जिले भर में होली का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक ने एक-दूसरे को गुलाल-अबीर लगा पर्व की बधाई दी। शाम तक लोग टोलियां बनाकर परिचितों के घर जाकर होली खेलते दिखे। वहीं चंग की थाप पर नौनिहालों के जन्म वाले घरों में ढूंढ़ की रस्म अदायगी का दौर चलता रहा। इससे पूर्व गुरुवार शाम जिला मुख्यालय पर इलोजी की बारात निकाली गई जिसमें सज-धजकर शहरवासियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए बारात भक्त प्रहलाद चौक पहुंची जहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ होलिका दहन किया गया। इस दौरान महिलाओं ने लूर नृत्य करते हुए होली के गीत गाए। इसी प्रकार लेटा महंत रणछोड़ भारती ने संतों को रंग लगाकर होली पर्व की खुशी मनाई।

सांचौर| क्षेत्र में गुरुवार रात को लोगों ने अपने मोहल्लों में होलिका दहन किया। उसके बाद रामा श्यामा को लेकर शहर सहित क्षेत्र में उत्साह देखा गया। लोगों ने एक-दूसरों के घर जाकर होली के पर्व की बधाई दी। रामा श्यामा के दिन विश्नोई समाज की ओर से हर गांव में सामूहिक पाहल का आयोजन किया गया।

गुड़ाबालोतान| कस्बे सहित आसपास के गांवों में गुरुवार की शाम होलिका दहन व शुक्रवार को धुलंडी पर्व मनाया गया। कस्बे के आखरियावास में स्थित होली चौक में पंडि़त जगदीशचंद्र दवे व शांतिलाल दवे के वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पूर्व सरपंच मोहनसिंह बालोत ने होली दहन किया। शुक्रवार को धुलंडी के चलते कस्बे में लोगों ने एक दूसरे को गुलाल से तिलक व रंग लगाकर होली की शुभकामनाएं दी।

सुराणा| कस्बे में गुरुवार को होलिका किया गया। धुलंडी को एक दूसरे को रंग लगाकर बधाई दी। बाद में खेतीबाड़ी के लिए शगुन देखे गए। इस दौरान ढूंढ़ोत्सव कार्यक्रम हुए। कस्बे में डाका पंचमी से गैर नृत्य का आगाज होता है। होली की पूरी रात धुलंडी को पूरे दिन गैर नृत्य किया गया।

पावट| कस्बे सहित आसपास के गांवों में गुरुवार की शाम को होलिका दहन तथा शुक्रवार को धुलंडी का पर्व मनाया गया। निकटवर्ती पलासिया गांव में स्थित होली चौक में पंडितों के मंत्रोच्चारण के बीच शिव कुमार के हाथों होली दहन किया गया। शुक्रवार को धुलंडी के चलते कस्बे में लोगों ने एक दूसरे को गुलाल से तिलक रंग लगाकर होली की शुभकामनाएं दी।

करड़ा| कस्बे समेत क्षेत्र के गांवों में गुरुवार को होली व शुक्रवार को धुलंडी का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर गांवो में होलिका का दहन किया गया। वही लोगों ने एक दूसरे पर अबीर, गुलाल व रंग डालकर खुशी का इजहार किया। साथ ही बच्चों के ढूंढ़ोत्सव कार्यक्रम हुए। विश्रोई समाज के लोगों ने गुरू मंत्रों से निर्मित पाहल ग्रहण किया।

जसवंतपुरा| कस्बे मे होली का पर्व धूम धाम से परम्परागत तरीके से मनाया गया। शाम को ग्रामीण होली चौहटे पर पहुंचे जहां नर्मदेश्वर महादेव के मठाधीश सुखदेवगिरी महाराज ने पूजा अर्चना कर शुभ मुहूर्त मे अग्नि प्रज्ज्वल्लित कर होली का दहन किया। धुलंडी के दिन लवली ग्रुप द्वारा डीजे की धुन पर थिरकते हुए अबीर गुलाल से होली खेल शुभकामनाएं दी।

नौनिहालों के जन्म वाले घरों में हुई ढूंढ़ की रस्म , महिलाओं ने लूर नृत्य करते हुए गाए होली के गीत

जालोर. भक्त प्रहलाद चौक में होलिका दहन। फोटो | भास्कर

जालोर. होली पर्व के दौरान लूर फागण गाती महिलाएं।

भास्कर न्यूज. जालोर

शहर सहित जिले भर में होली का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक ने एक-दूसरे को गुलाल-अबीर लगा पर्व की बधाई दी। शाम तक लोग टोलियां बनाकर परिचितों के घर जाकर होली खेलते दिखे। वहीं चंग की थाप पर नौनिहालों के जन्म वाले घरों में ढूंढ़ की रस्म अदायगी का दौर चलता रहा। इससे पूर्व गुरुवार शाम जिला मुख्यालय पर इलोजी की बारात निकाली गई जिसमें सज-धजकर शहरवासियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। शहर के प्रमुख मार्गों से होते हुए बारात भक्त प्रहलाद चौक पहुंची जहां वैदिक मंत्रोच्चार के साथ होलिका दहन किया गया। इस दौरान महिलाओं ने लूर नृत्य करते हुए होली के गीत गाए। इसी प्रकार लेटा महंत रणछोड़ भारती ने संतों को रंग लगाकर होली पर्व की खुशी मनाई।

सांचौर| क्षेत्र में गुरुवार रात को लोगों ने अपने मोहल्लों में होलिका दहन किया। उसके बाद रामा श्यामा को लेकर शहर सहित क्षेत्र में उत्साह देखा गया। लोगों ने एक-दूसरों के घर जाकर होली के पर्व की बधाई दी। रामा श्यामा के दिन विश्नोई समाज की ओर से हर गांव में सामूहिक पाहल का आयोजन किया गया।

गुड़ाबालोतान| कस्बे सहित आसपास के गांवों में गुरुवार की शाम होलिका दहन व शुक्रवार को धुलंडी पर्व मनाया गया। कस्बे के आखरियावास में स्थित होली चौक में पंडि़त जगदीशचंद्र दवे व शांतिलाल दवे के वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पूर्व सरपंच मोहनसिंह बालोत ने होली दहन किया। शुक्रवार को धुलंडी के चलते कस्बे में लोगों ने एक दूसरे को गुलाल से तिलक व रंग लगाकर होली की शुभकामनाएं दी।

सुराणा| कस्बे में गुरुवार को होलिका किया गया। धुलंडी को एक दूसरे को रंग लगाकर बधाई दी। बाद में खेतीबाड़ी के लिए शगुन देखे गए। इस दौरान ढूंढ़ोत्सव कार्यक्रम हुए। कस्बे में डाका पंचमी से गैर नृत्य का आगाज होता है। होली की पूरी रात धुलंडी को पूरे दिन गैर नृत्य किया गया।

पावट| कस्बे सहित आसपास के गांवों में गुरुवार की शाम को होलिका दहन तथा शुक्रवार को धुलंडी का पर्व मनाया गया। निकटवर्ती पलासिया गांव में स्थित होली चौक में पंडितों के मंत्रोच्चारण के बीच शिव कुमार के हाथों होली दहन किया गया। शुक्रवार को धुलंडी के चलते कस्बे में लोगों ने एक दूसरे को गुलाल से तिलक रंग लगाकर होली की शुभकामनाएं दी।

करड़ा| कस्बे समेत क्षेत्र के गांवों में गुरुवार को होली व शुक्रवार को धुलंडी का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर गांवो में होलिका का दहन किया गया। वही लोगों ने एक दूसरे पर अबीर, गुलाल व रंग डालकर खुशी का इजहार किया। साथ ही बच्चों के ढूंढ़ोत्सव कार्यक्रम हुए। विश्रोई समाज के लोगों ने गुरू मंत्रों से निर्मित पाहल ग्रहण किया।

जसवंतपुरा| कस्बे मे होली का पर्व धूम धाम से परम्परागत तरीके से मनाया गया। शाम को ग्रामीण होली चौहटे पर पहुंचे जहां नर्मदेश्वर महादेव के मठाधीश सुखदेवगिरी महाराज ने पूजा अर्चना कर शुभ मुहूर्त मे अग्नि प्रज्ज्वल्लित कर होली का दहन किया। धुलंडी के दिन लवली ग्रुप द्वारा डीजे की धुन पर थिरकते हुए अबीर गुलाल से होली खेल शुभकामनाएं दी।

जालोर. लेटा मठ में गुलाल लगाकर खुशी मनाते महंत।

गुड़ा बालोतान में मनाया बेटी का ढूंढ़ोत्सव

गुड़ाबालोतान| कस्बे में शुक्रवार को धुलण्डी मनाने के साथ कई घरों में बेटों का ढूंढ़ोत्सव मनाया गया। वही दूसरी तरफ कस्बे के गोगाजी गली में भरत कुमार चौहान ने अपनी बेटी ध्रुवी का पहला ढूंढ़ोत्सव मनाकर समाज में एक नई पहल की। कस्बे के आखरिया वास चौक में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी होली पर्व के दूसरे दिन शुक्रवार की शाम को लोगों ने बारिश व जमाने के साथ खरीफ फसलों की पैदावार को लेकर शगून देखे। सात धान जमीन में गाढ़कर दूसरे दिन शुक्रवार की शाम को कलश बाहर निकालकर कलश में रखे धान गलने या अंकुरित होने पर विभिन्न अनाजों की पैदावार को लेकर अनुमान लगाया गया। इस अवसर पर पूर्व सरपंच मोहनसिंह बालोत, पंडित जगदीशचंद्र दवे, किशोरसिंह बालोत, छैलसिंह, ईश्वरसिंह, खीमाराम रावल, इन्द्रसिंह, थानसिंह राजपुरोहित, भंवरसिंह राजपुरोहित, हंसराज खण्डेलवाल, भंवरसिंह, जमनादास, मंगलाराम सेन, रघुवीरदास, चंपालाल लखारा, कांस्टेबल गंगाविशन, मोहनलाल सहित कई किसान एवं समाज के लोग मौजूद थे।

गेरियों ने खेली गेर

सायला | कस्बे सहित क्षेत्रभर में होली का पर्व मनाया गया। होली पर गुरुवार रात्रि को शुभ मुहूर्त में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ होलिका दहन किया गया। दूसरे दिन धुलंडी पर एक दूसरे को गुलाल लगाकर होली खेली। कस्बे में उदेशो का वास, साथुआ वास व मेघवालों के वास में गेरियो ने पारम्परिक वेशभूषा पहनकर गेर नृत्य किया।

दूसरे दिन पुलिस ने खेली होली

होली के दूसरे दिन पुलिस के जवानों ने होली खेली। जवानों ने पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा के आवास पर होली खेलते हुए एसपी को रंग लगाया। इसी दौरान कलेक्टर बीएल कोठारी को भी एसपी शर्मा ने रंग लगाकर खुशी मनाई। साथ फाग गीतों पर महिला पुलिस ने एसपी की प|ी संग नृत्य किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Sanchore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जिलेवासियों ने गुलाल अबीर से होली खेल दी एक दूसरे को बधाई, ईलोजी की बारात में उमड़े शहरवासी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Sanchore

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×