सांचौर

  • Home
  • Rajasthan News
  • Sanchore News
  • Sanchore - अवाप्ति को लेकर किसान बोले-किसी भी कीमत पर नहीं देंगे जमीन
--Advertisement--

अवाप्ति को लेकर किसान बोले-किसी भी कीमत पर नहीं देंगे जमीन

सड़क परिवहन मंत्रालय भारत सरकार के अधीन हाईवे प्राधिकरण द्वारा भारत माला परियोजना के तहत सांगरिया हनुमानगढ़ से...

Danik Bhaskar

Sep 12, 2018, 06:15 AM IST
सड़क परिवहन मंत्रालय भारत सरकार के अधीन हाईवे प्राधिकरण द्वारा भारत माला परियोजना के तहत सांगरिया हनुमानगढ़ से सांचौर के आगे गुजरात तक एक्सप्रेस-वे विधानसभा क्षेत्र सांचौर के उतर का शुरूआती गांव वापा से प्रवेश कर निम्बाऊ, देवड़ा, बिजरोल खेड़ा, भादरूणा, चौरा, हरियाली, डांगरा, रावतसर, कारोला, रूडा का गोलिया, भूरा की ढाणी, जीवा का गोलिया, लाछड़ी, जाजूसन, बसड़म, माखुपुरा, प्रतापपुरा, हनुमानगढ़, पहाड़पुरा, गरढ़ाली व गुजरात बॉर्डर पर लगता अंतिम गांव गोलासन तक 42 किलोमीटर लम्बी व 70 मीटर चौड़ी बनाना प्रस्तावित हैं। जमीन अवाप्ति को लेकर किसानों ने स्पष्ट कह दिया है कि वे किसी भी कीमत पर जमीन नहीं देंगे। बुधवार को भारत माला संघर्ष समिति द्वारा उपखंड कार्यालय के समक्ष अनिश्चितकालीन धरना दिया जायेगा। इस दौरान सुखराम विश्नोई विधायक सांचौर, डॉ. शमशेर अली पूर्व प्रधान सांचौर, कुपाराम चौधरी पूर्व उपप्रधान सांचौर, ईशराराम विश्नोई अध्यक्ष नर्मदा नहर किसान डिग्गी यूनियन सांचौर, समरथाराम देवासी, पीराराम देवासी फालना आदि मौजूद थे।

सांचौर. विधायक के साथ ज्ञापन देते ग्रामीण।

कई किसान हो रहे भूमिहीन

किसानों ने बताया कि उक्त भारत माला नाम से प्रस्तावित एक्सप्रेस-वे का पूर्व में हवाई सर्वेक्षण किया गया। जिसमें इस एक्सप्रेस-वे में किसी तरह का एस टाइप मौड़ नहीं था। सामान्य मौड़ थे, परन्तु धरातल पर सर्वे करने पर राजनैतिक दबाव से सांचौर के पास दो मोड दिये गये। उससे एक्सप्रेस-वे की लंबाई बढ़ी व किसानों के ज्यादा खेत एक्सप्रेस-वे अधीन गए। सांचौर की जमीन चौरा से लगाकर गोलासन तक नर्मदा कमाण्ड क्षेत्र में आती हैं। जो कीमती जमीन हैं व किसानों के पास बहुत कम जमीन होने से 42 किलोमीटर लंबाई में कई किसान भूमिहीन हो रहे हैं।

Click to listen..