• Home
  • Rajasthan News
  • Sangod
  • बालिका वधु ने शादी को रुकवाने की लगाई गुहार, तहसीलदार ने स्कूल के रिकार्ड को जांचा
--Advertisement--

बालिका वधु ने शादी को रुकवाने की लगाई गुहार, तहसीलदार ने स्कूल के रिकार्ड को जांचा

बालिका वधु ने शादी को रुकवाने की लगाई गुहार, तहसीलदार ने स्कूल के रिकार्ड को जांचा सांगोद। अमृतकुआ गांव में...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 03:00 AM IST
बालिका वधु ने शादी को रुकवाने की लगाई गुहार, तहसीलदार ने स्कूल के रिकार्ड को जांचा

सांगोद। अमृतकुआ गांव में सोमवार को एक बालिका के परिजनों ने अपनी नाबालिग बालिका का रिश्ता निर्धारित उम्र पूर्व करवाना चाहा तो क्षुब्ध बालिका ने सूचना प्रशासन को दी। तहसीलदार ने मौके पर पहुंच बालिका वधु का बाल विवाह नहीं करने को पाबंद किया। अमृतकुआ के बाबूलाल रैगर ने अपनी नाबालिग पुत्री का संबंध उससे बिना पूछे ही तय कर दिया और शादी अभी हाल ही में कुछ ही दिनों में होने वाली थी। नाबालिग बालिका ने हिम्मत दिखाकर इसकी सूचना गुप्त तरीके से तहसीलदार सांगोद को दी। तहसीलदार लक्ष्मीनारायण प्रजापति ने अमृतकुआ गांव पहुंच कर बाबूलाल रैगर एवं उसकी पुत्री बिटिया से मिले । वहां बिटिया ने पूरी बात तहसीलदार को बताई और कहा की अभी मेरी उम्र 18 वर्ष नहीं है और मेरे पिता मेरी शादी करवाना चाह रहे हैं। उम्र के सत्यापन के लिए पिता एवं पुत्री को लेकर तहसीलदार लक्ष्मीनारायण प्रजापति आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय अमृतकुआ पहुंचे। जहां विद्यालय इंचार्ज भागीरथ मीणा ने बालिका बिटिया की जन्मतिथि एसआर रिकॉर्ड अनुसार 30 जुलाई 2000 बताई जिसमें बिटिया पुत्री बाबूलाल रेगर की उम्र रिकॉर्ड अनुसार बालिग होने में ढाई माह कम थी। मौके पर ही तहसीलदार सांगोद ने बिटिया के परिजनों को पाबंद किया और कहा जब तक यह बालिग नहीं हो जाती शादी नहीं होनी चाहिए। तहसीलदार लक्ष्मीनारायण प्रजापति ने बताया कि इसकी रिपोर्ट एसपी ग्रामीण कोटा कार्यालय भिजवा दी गई है।