Hindi News »Rajasthan »Saramathura» डॉक्टर की मनमर्जी से चल रहा अस्पताल ड्यूटी के दौरान भी लापरवाही के आरोप

डॉक्टर की मनमर्जी से चल रहा अस्पताल ड्यूटी के दौरान भी लापरवाही के आरोप

कस्बा के अस्पताल में चिकित्सक ने नियमों को ताक में रखकर स्वास्थ्य विभाग के नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 29, 2018, 05:30 AM IST

कस्बा के अस्पताल में चिकित्सक ने नियमों को ताक में रखकर स्वास्थ्य विभाग के नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही है। जिसके कारण विभाग को तो चपत लग रही है वही रोगियों को परेशानी उठानी पड़ रही है। आलम यह है कि अस्पताल समय के दौरान चिकित्सक नदारद रहते हुए वेतन उठा रहा है, जिससे अस्पताल की व्यवस्था प्रभावित हो रही है। अस्पताल में 27 जनवरी तक चिकित्सा प्रभारी के अवकाश पर होने के कारण अस्पताल का प्रभारी डाॅ. सचिन मित्तल को बना दिया गया था।

डाॅक्टर ने 15 दिवस तक चार्ज संभालते हुए स्वास्थ्य विभाग के नियमों को ही ताक में रख दिया। चिकित्सक को प्रभारी का दायित्व मिलने के बाद डाॅक्टर ने पीएम व मेडिकलों से दूरी बनाए रखी वही अस्पताल समय में भी ड्यूटी करने से कतराता रहा, जिसका प्रमाण उपस्थिति रजिस्टर में इन्द्राज है। चिकित्सक की लापरवाही का आलम यह है कि उपस्थिति रजिस्टर में प्रश्न चिन्ह लगने के बाद भी तानाशाही करते हुए उपस्थिति दर्ज कर दी गई है जिसकी शिकायत साथी चिकित्सकों ने स्वास्थ्य अधिकारियों से की है। चिकित्सक ने 03, 04,13,14,15 व 28 जनवरी को अस्पताल में ड्यूटी टाइम पर नहीं आने के कारण उपस्थिति पंजिका में प्रश्न चिन्ह लग गया था लेकिन चिकित्सक ने उपस्थिति रजिस्टर में कांट छांट कर उपस्थिति दर्ज करा दी। चिकित्सक की कार्यप्रणाली को देखते हुए साथी चिकित्सकों ने मौन धारण किया हुआ है। जिसके कारण स्वास्थ्य विभाग की योजनाएं प्रभावित हो रही है।

अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग के नियमों के अनुसार बिना आदेश काॅपी के नियुक्ति नहीं कर सकते हैं लेकिन चिकित्सक ने बिना आदेश काॅपी लिए नियुक्ति की साथ ही उपस्थिति पंजिका में कांट-छांट कर तानाशाही से उपस्थिति दर्ज करना जैसे मामलों से उच्च अधिकारियों का अवगत करा दिया है।

डाॅ. रविन्द्र अस्पताल प्रभारी सरमथुरा

सरमथुरा. अस्पताल का उपस्थिति रजिस्टर।

स्वास्थ्य विभाग के आदेशों के बिना दी नियुक्ति

यही नहीं अस्पताल का दायित्व आने के बाद चिकित्सक ने चहेते चिकित्सकों को स्वास्थ्य विभाग के आदेश लिए बिना नियुक्ति देने तक का मामला है। अस्पताल प्रभारी डाॅ. रविन्द्र ने बताया कि डाॅ. सचिन सिंघल ने 26 जनवरी को जिला में तैनात डाॅ. धीरज बंसल व डाॅ. महेश वर्मा को स्वास्थ्य विभाग के आदेश लिए बिना नियुक्ति तक दे दी है। जबकि अस्पताल प्रभारी को डाॅ. महेश वर्मा में आदेश सरमथुरा अस्पताल तक नहीं आए है। बिना आदेशों के नियुक्ति देना नियमों के खिलाफ है। जबकि डाॅ. धीरज बंसल के आदेश 8 जनवरी को मिल चुके है।

झिरी में तैनाती के लिए सीएमएचओ पर लगाए रिश्वत के आरोप

एमओ डाॅ. सचिन सिंघल की तैनाती झिरी पीएचसी पर है, ड्यूटी के प्रति लापरवाही मिलने पर कलेक्टर ने चिकित्सक को एपीओ कर सरमथुरा अस्पताल पर तैनात कर दिया है। चिकित्सक के सरमथुरा तैनात होने के बाद झिरी में तैनात होने के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी तक पर रिश्वत मांगने व परेशान करने का आरोप तक लगा चुका है, जिसका वीडियो वायरल तक हो चुका है। लेकिन हकीकत यह है कि चिकित्सक ने झिरी में तैनात रहते हुए लाखों रूपए का फर्जीवाडा कर राशि का गबन करने का आरोप है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Saramathura

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×