Hindi News »Rajasthan »Saramathura» यूपी व प्रदेश की पुलिस आपस में मिली हुई है : मृतक का िपता

यूपी व प्रदेश की पुलिस आपस में मिली हुई है : मृतक का िपता

सरमथुरा | तोरेकासायपुर घटना की पुलिस की निष्पक्ष जांच अब कटघरे में आ गई है। कारण राजस्थान की पुलिस ने उत्तर प्रदेश...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 14, 2018, 06:50 AM IST

सरमथुरा | तोरेकासायपुर घटना की पुलिस की निष्पक्ष जांच अब कटघरे में आ गई है। कारण राजस्थान की पुलिस ने उत्तर प्रदेश पुलिस के बयान बहुत ही गुप्त तरीके से दर्ज किए हैं। साथ ही उनका मेडिकल भी रात में चुपके से कराया है। इसके बाद मृतक युवक के पिता ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े कर दिए हैं कि इस प्रकार की शैली से तो उनको न्याय नहीं मिलेगा। साथ ही कहना है कि ऐसा लग रहा है जैसे कि प्रदेश के पुलिस अधिकारी यूपी पुलिस से मिल गए हैं।

घटना के बाद सरमथुरा पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के दौरान सरमथुरा सीआई की गैरमौजूदगी में बसेड़ी सीआई अजय मीणा को जांच अधिकारी बनाया था, लेकिन सरमथुरा सीआई की पुलिस थाना पर आमद होने के कारण जांच सरमथुरा सीआई को स्थानांन्तरण कर दिए जाने की जानकारी दी गई। सूत्रों की मानें तो इसके बाद शुक्रवार रात को एकाएक जांच अधिकारी फिर बदल दिया गया है। अब जांच अधिकारी को लेकर पुलिस अधिकारियों ने मौन साध रखा है। एक तरफ जहां सीओ सरमथुरा अर्जन सिंह कह रहे हैं कि जांच अधिकारी सरमथुरा सीआई हैं। जांच बदलने की किसी ने अफवाह उड़ा दी थी, इस कारण दिन में हमारे पास भी कई लोगों के फोन आए थे, एसा नहीं हुआ है।

पुलिस की चेतावनी के बाद भी दबिश

यूपी पुलिस ने 3 दिन में दूसरी बार तोरेकासायपुर में भैंस चोरों को पकडने के लिए दबिश दी थी। जबकि घटना से तीन दिन पूर्व यूपी पुलिस द्वारा दबिश देने के दौरान मदनपुर घाटी में सरमथुरा व यूपी पुलिस के जवानों को आमना सामना हो गया। इसी दौरान रात्रि 10 बजे सरमथुरा पुलिस बजरी की तस्करी की सूचना पर मदनपुर में दबिश देने पहुॅच गई। बिना सूचना दबिश देने पर हमारे अधिकारियों ने नाराजगी जताई। जबकि इस दौरान यूपी पुलिस टोटेकापुरा से तीन युवको को उठाकर ले जा रही थी। इसके 3 दिन बाद फिर दबिश देने पहुंच गई। जिसमें ग्रामीणो ने डकैत समझ पुलिस पर हमला कर दिया। जिसमें गोली लगने से एक युवक की मौत हो गई।

राजस्थान पुलिस के पास यूपी पुलिस के साक्ष्य

प्रदेश पुलिस के पास यूपी पुलिस के पूरे साक्ष्य मौजूद हैं। मौके से मिली वॉकी टॉकी, एसएलआर का कारतूस, जूता, जुर्राब व यूपी के जवान उमाशंकर का पर्चा बयान। अब यूपी पुलिस ग्रामीणों पर ही फायरिंग करने का आरोप लगा रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Saramathura

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×