--Advertisement--

सालों बाद मिला पुश्तैनी जमीन पर हक

सरवाड़ तहसील क्षेत्र में चल रहे न्याय आपके द्वार शिविर का मंगलवार को ग्राम पंचायत बिड़ला में शुभारंभ हुअा। अटल सेवा...

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 06:25 AM IST
सालों बाद मिला पुश्तैनी जमीन पर हक
सरवाड़ तहसील क्षेत्र में चल रहे न्याय आपके द्वार शिविर का मंगलवार को ग्राम पंचायत बिड़ला में शुभारंभ हुअा। अटल सेवा केंद्र पर आयोजित शिविर की अध्यक्षता उपखंड अधिकारी डॉ. सूरज सिंह नेगी ने की। शिविर में पंचायत समिति प्रधान किशनलाल बैरवा, तहसीलदार रणजीत सिंह शेखावत, विकास अधिकारी शैलेन्द्र सिंह चौधरी, ग्राम पंचायत सरपंच निकिता माहेश्वरी सहित ब्लॉक स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे। शिविर में शुरू होने के साथ ही ग्रामीणों का आना शुरू हुआ जो शिविर समाप्ति तक जारी रहा। एक ही स्थान पर सभी विभागीय अधिकारियों के मौजूद होने व हाथों-हाथ समस्या के निस्तारण होने से ग्रामीणों के चेहरे पर खुशी का अहसास था।

शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि उपखंड अधिकारी डॉ. नेगी ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से चलाए जा रहे ऐसे महत्वपूर्ण अभियान का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाएं। डॉ. नेगी ने बताया कि लोक अदालत के माध्यम से न्याय आपके द्वार कार्यक्रम में राजस्थान काश्त अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत विचाराधीन वादों का निस्तारण, नामान्तरकरण की अपील, इजराय प्रार्थना पत्र, स्टांप एक्ट, पत्थरगढ़ी के मामले, बकाया नामान्तरकरण के मामले, सहमति के आधार पर जोत विभाजन, लिपिकीय अशुद्धि के मामले, सीमाज्ञान, लंबित खातेदारी प्रकरण, रास्ता विवाद, धारा 91 अतिक्रमण के मामले, राजस्व रिकाॅर्ड से संबंधित मामलों का निस्तारण किए जाएंगे। बैठक में तहसीलदार रणजीत सिंह शेखावत, विकास अधिकारी शैलेन्द्र चौधरी ने अभियान में किए जाने वाले कार्याें की विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान उपखंड कार्यालय रीडर बसंत कुमार पांडे, कृषि पर्यवेक्षक पर्वतदान चारण, गिरदावर महावीर प्रसाद खटीक, पटवारी जगदीश प्रसाद माली, सहायक सचिव ओमप्रकाश, ग्राम सेवा सहकारी समिति अध्यक्ष सुनील माहेश्वरी, शंभुसिंह, तहसील कानूनगो मुन्नालाल सोनी, पंचायत प्रचार-प्रसार अधिकारी संजय तोषनीवाल आदि मौजूद रहे।

चांदोलाई में वंचितों को मिला लाभ : ग्राम चांदोलाई निवासी सांवरलाल जाट के पिता का नाम राजस्व रिकाॅर्ड में गलत अंकन हो जाने से पीड़ित को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। पीड़ित जाट के पिता का नाम गलत अंकन होने से पुश्तैनी जमीन का हक नहीं मिलने के साथ सरकारी सहायता से भी वंचित था। ग्राम पंचायत बिड़ला में न्याय आपके शिविर में मंगलवार को उपखंड अधिकारी के समक्ष परिवाद पेश किया। पीड़ित ने बताया कि 1976 में उसके पिता हाथीराम सहित अन्य उगमा, छोगा, गोकुल पुत्र कल्याण जाट के नाम ग्राम चांदोलाई में खसरा नम्बर 544 पर 3 बीघा 10 बिस्वा भूमि आवंटन हुई थी, लेकिन उसके बाद भू-प्रबंध कार्यवाही में उनकी खातेदारी भूमि नए खसरा नम्बर 651 में रकबा 057 हैक्टेयर में दर्ज हो गई। इसमें उसके पिता हाथीराम का नाम उसके दादा कल्याण के स्थान पद दर्ज हो गया। इससे सांवरलाल के पिता के नाम दर्ज भूमि को तीन अन्य खातेदारों के नाम लगा दिया गया।

सरवाड़. पीड़ित को प्रकरण के निस्तारण की प्रति उपलब्ध कराते अधिकारी।

वृद्धा काे मिला खाद्य सुरक्षा का लाभ, विधवा पेंशन में नाम जुड़ा

श्रीनगर| श्रीनगर पंचायत समिति की ग्राम पंचायत कानपुरा में राजस्व लोक अदालत एवं न्याय आपके द्वार अभियान मंगलवार को प्रारंभ हुआ। भीषण गर्मी के बावजूद ग्रामवासियों ने उत्साहपूर्वक शिविर में भाग लिया। शिविर की सार्थकता उस समय प्रमाणित हुई जब 80 वर्षीय वृद्धा सुवा देवी प|ी रामविकास पीठासीन अधिकारी विरेन्द्र सिंह यादव के पास पहुंची। सुवा देवी ने राशन का गेहूं नहीं मिलने की शिकायत की। मौके पर ही कार्यवाही कर वृद्धा को खाद्य सुरक्षा योजना का लाभ दिलाया गया। वृद्धा ने स्वयं को पेंशन धारी होना बताया। कोई साथ नहीं होने के कारण उपखण्ड मुख्यालय पहुंचकर अपील प्रक्रिया पूर्ण करने में असमर्थ बताया। वृद्धा ने बताया कि उसके पति की मृत्यु को काफी समय हो गया है, लेकिन वर्तमान में वृद्धावस्था पेंशन के 500 रुपए ही मिल रहे हैं। प्रशासन ने मौके पर ही वृद्धा सुवा का खाद्य सुरक्षा आवेदन पूर्ण करवाकर समावेशन सूची में नाम जोड़े जाने के आदेश जारी किए। पति के मृत्यु प्रमाण जारी करने के लिए आवश्यक कार्यवाही मौके पर ही की गई। वृद्धा की पेंशन को विधवा पेंशन में जारी करने के आदेश श्रीनगर विकास अधिकारी सुधीर पाठक ने जारी किए। एक अन्य मामले में उपखण्ड न्यायालय नसीराबाद के प्रकरण पूसा बनाम किशना राजस्व मानचित्र में दुरुस्ती की गुहार लगाई। प्रार्थी पूसा व अप्रार्थीगण किशना, विष्णु व किशनी शिविर में मौजूद नसीराबाद एसडीएम विरेन्द्र सिंह यादव के सामने उपस्थित हुए। पीठासीन अधिकारी एसडीएम नसीराबाद की ओर से समझाइश के बाद दोनों पक्षों में राजीनामा हो गया। शिविर में खातेदारी का एक प्रकरण, इन्द्राज दुरुस्ती के दो, नामान्तरकरण के 323, खाता दुरुस्ती के 314, खाता विभाजन के दो प्रकरण, सीमाज्ञान के आवेदन 8, राजस्व नकलें 70, जन्म व मृत्यु प्रमाण पत्र 47 जारी किए गए।

सालों बाद मिला पुश्तैनी जमीन पर हक
X
सालों बाद मिला पुश्तैनी जमीन पर हक
सालों बाद मिला पुश्तैनी जमीन पर हक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..