Hindi News »Rajasthan »Sawai Madhopur» रणथंभौर में बढ़ा बाघों का कुनबा, एक और बाघिन बनी मां, विभाग को मिला वीडियो

रणथंभौर में बढ़ा बाघों का कुनबा, एक और बाघिन बनी मां, विभाग को मिला वीडियो

रणथंभौर में एक बार फिर बाघों के कुनबे में इजाफा हुआ है। इस बार भी यह खुश खबरी टी-19 की दूसरी बेटी लाइटनिग नाम की बाघिन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 06:10 AM IST

रणथंभौर में बढ़ा बाघों का कुनबा, एक और बाघिन बनी मां, विभाग को मिला वीडियो
रणथंभौर में एक बार फिर बाघों के कुनबे में इजाफा हुआ है। इस बार भी यह खुश खबरी टी-19 की दूसरी बेटी लाइटनिग नाम की बाघिन ने दी है। यह बाघिन पहली बार मां बनी है।

मां से अलग होने एवं बहन के दबाव में रहती है बाहर: शनिवार को जिस बाघिन के दो शावक पर्यटकों को दिखाई देने की बात सामने आई है, यह बाघिन कुछ समय पहले तक रणथंभौर के सबसे शानदार इलाके जो नं. 3 पर अपनी मां टी-19 के साथ रहती थी। टी-19 की दो बेटियां थी। जिनमें एक लाईटनिंग एवं एक एरोहेड के नाम से यहां पहचानी जाती है। ऐसे में दोनों बेटियों के जवान होने के साथ ही तीनों के बीच इलाके को लेकर संघर्ष शुरू हो गया था। इस साम्राज्य की लड़ाई में सबसे आक्रामक तेवर जवान हुई बाघिन एरोहेड के थे। सबसे पहले उसने अपनी मां टी-19 से इस इलाके को छीन कर उसे वहां से भगाया। इसके बाद उसने अपनी बहन एरोहेड पर दबाव बना कर उससे भी इलाका खाली करवा लिया। ऐसे में अब एरोहेड जोन नं. 3 पर रहती है और उसकी बहन को जंगल की सबसे असुरक्षित बाहरी सीमा पर रह कर टाइम पास करना पड़ रहा है।

कुछ दिन पहले इसी बाघिन की बहन एरोहेड सामने लाई थी अपने दो शावक, बाघों के कुनबे में हो रहा है इजाफा, विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों ने खुद नहीं देखे नए शावक

13 मादा के साथ 26 शावक, वन अधिकारियों के मन में शंकाएं भी

अगर लाईटनिंग के बच्चे सही सलामत सामने आते हैं तो अब रणथंभौर में 13 बाघिनों के साथ शावकों की संख्या 24 हो जाएगी, लेकिन इसमें एक असमंजस है। पिछले दिनों दो शावकों के साथ दिखाई दी इसी बाघिन की बहिन एरोहेड के दोनों शावक अब उसके साथ दिखाई नहीं दे रहे हैं। लंबे समय से इन दोनों शावकों के दिखाई नहीं देने एवं बाघिन के इलाका बदल कर दूर दूर जाने के साथ लगातार टी-86 के साथ रहने की गतिविधियों को देखते हुए विभाग में इस बात की सुगबुगाहट है कि कही ऐसा नहीं हो की एरोहेड के शावक किसी अन्य नर बाघ या दूसरे जानवर के हाथ लग कर मौत का शिकार हो गए हों। अगर ऐसा हुआ तो एक बार फिर रणथंभौर में 12 बाघिनों के साथ शावकों की संख्या 24 ही गिनी जाएगी।

दो नरों के बीच रहती है यह बाघिन

इस बाघिन को लेकर वन विभाग भी असमंजस में है। विभाग के अनुसार लाईटनिंग नाम की यह बाघिन नर बाघ टी-95 एवं टी-86 दोनों के इलाके में रहती है। इस बाघिन को कई बार दोनों के साथ अलग अलग देखा गया है। ऐसे में अभी इन शावकों के पिता को लेकर भी असमंजस है। बाघिन जिस इलाके में रहती है वहां पर दोनों ही नर आते जाते हैं। इसमें इस विभाग के लिय यह भी चुनौती रहेगी की आखिर इन शवकों की सुरक्षा के लिए दोनों में से कौनसा नर बाघ ज्यादा जिम्मेदारी निभाएगा।

सवाई माधोपुर. बाघिन लाइटनिंग।

फुटमार्क कर रहे हैं पुष्टि

विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सुबह वीडियो सामने आने के बाद विभाग की टीम ने आमाघाटी स्थित हीरामन की डूंगरी पर जाकर जब स्थिति देखी तो वहां पर बाघिन लाइटनिंग की पगमार्क के साथ दो छोटे शावकों के पगमार्क भी मिले हैं। उक्त शावकों के पगमार्क के आधार पर विभाग बाघिन के साथ दो शावकों के होने की बात कह रहा है, लेकिन अभी फोटो सामने नहीं आने के कारण आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं कर रहा है।

सूचना के बाद आमा घाटी इलाके में स्टाफ को अलर्ट कर निगरानी बढ़ाई

मैरे पास अभी इस बाघिन एवं शावकों के फोटो नहीं आए हैं। अभी हमारे स्टाफ ने स्पष्ट रूप से शावकों को देखा नहीं है, लेकिन इस बाघिन के साथ दो शावक होने की सूचना सीसीएफ वाई.के. साहू के पास आई थी। इसके बाद उनके निर्देशानुसार आमा घाटी इलाके में स्टाफ को अलर्ट कर इस पर निगरानी तेज कर दी है। बीजू जोय, डी.सी.एफ.

वीडियो मिला है, हमारे कैमरे में बाघिन के शावक अभी कैद नहीं हुए हैं

यह सही है कि इस बाघिन के मां बनने की जानकारी हमारे पास आई है। मैरे पास जो वीडियाे आया है उसमें लाईटनिंग के साथ दो छोटे शावक दिखाई दे रहे हैं। जानकारी में आते ही हमने विभाग की टीम को ट्रेकिंग पर लगा दिया है। अभी हमारे अधिकारियों एवं कर्मचारियों के कैमरे की नजर में इस बाघिन के शावक नहीं आ पाए हैं। इस बाघिन के मां बनने का अंदेशा विभाग को कई दिनों से था। बाघिन छोटे बच्चों को काफी दिन तक छुपा कर रखती है। ऐसे में कई बार एक झलक दिखाई देने के बाद दुबारा शावक कब दिखाई देंगे, इस बारे में दावे के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता है। वाई.के. साहू, सीसीएफ

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Sawai Madhopur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×