पौने 6 करोड़ के उड़द घोटाले के मामले में दोषी करार

Sawai Madhopur News - इन पटवारियों के खिलाफ जारी हुई चार्जशीट तहसीलदार के अनुसार पटवारी पप्पूलाल कोली, बाबूलाल गुर्जर, राजेश...

Feb 15, 2020, 11:25 AM IST

इन पटवारियों के खिलाफ जारी हुई चार्जशीट

तहसीलदार के अनुसार पटवारी पप्पूलाल कोली, बाबूलाल गुर्जर, राजेश कुमार शर्मा, प्रिंस तिवारी, हरिमोहन बैरवा, मानसिंह मीणा, कमलेश जाट, विकास कुमार मीणा, पूजा मथुरिया, लटूरमल मीणा, प्रहलाद जांगिड़, कमलकिशोर गौड़, मोहन रैगर, सियाराम गुर्जर, रामावतार गुर्जर, दिनेश कुमार मीणा, सुवेशी बैरवा, बाबूलाल मीणा, खेमराज वर्मा, राजेंद्र कुमार शर्मा, विराट कुमार शर्मा सहित 22 पटवारियों के खिलाफ चार्जशीट जारी हुई है। कलेक्टर को भी भेजी रिपोर्ट: देवी सिंह, तहसीलदार, खंडार का कहना है कि खंडार क्रय विक्रय सहकारी समिति लिमिटेड सवाईमाधोपुर में उड़द घोटाले के संबंध में दोषी तहसील खंडार के 22 पटवारियान के विरूद्ध सीसीए नियम 17 के अंतर्गत आरोप पत्र व आरोप विवरण पत्र प्रस्तावित कर उपखंड अधिकारी खंडार को अग्रिम कार्रवाई के लिए पेश किए गए है, जिसकी सूचना जिला कलेक्टर सवाईमाधोपुर को भी भेजी है।

खंडार तहसील के 22 पटवारियों को चार्जशीट

मूल रकबे में कांट छांट का आरोप

कांटे पर नहीं किया गिरदावरियों का मिलान

तहसीलदार ने बताया कि खंडार क्रय विक्रय सहकारी समिति लिमिटेड सवाईमाधोपुर की उड़द घोटाले की जांच, परिणाम एवं निर्देशों के क्रम में खंडार खरीद केंद्र पर समर्थन मूल्य पर क्रय की गई उड़द के संबंध में राजस्व कार्मिक पटवारी/भूअभिलेख निरीक्षक की अनियमितता पाई गई है। जांच में दोषी संबंधितों के विरूद्ध कार्रवाई के संबंध में कलेक्टर सवाईमाधोपुर के पत्र एवं अतिरिक्त रजिस्ट्रार सहकारी समितियां भरतपुर की जांच रिपोर्ट व उपजिला कलेक्टर खंडार द्वारा आरोप तय किए गए है। राजस्व पटवारियों द्वारा रिपोर्ट में जिंस बार फसल का रकबा हेक्टेयर में अंको व शब्दों में अंकन करना था जो अनेक खसरा गिरदावरी में अंकन नहीं किया गया।

वर्ष 2018-19 में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के पास की गई थी खरीद

तहसीलदार ने बताया कि खसरा गिरदावरी में यदि हिस्सेदार है तो संबंधित का नाम एवं उसके भूमि का अंकन आवश्यकरूप से किए जाने एवं गिरदावरी रिपोर्ट पर क्रमांक अंकित करने एवं गिरदावरी में किसी प्रकार की कांट छांट नहीं करने के लिए स्पष्ट दिशा निर्देश थे। जिसकी पालना पटवारियों द्वारा नहीं की गई है। क्रय केंद्र प्रभारी द्वारा रजिस्ट्रेशन के समय अपलोड की गई गिरदावरी एवं क्रय केंद्र पर प्रस्तुत की गई गिरदावरी का मिलान करने एवं भिन्नता की स्थिति पर संबंधित कृषक की जिंस को अमान्य करने निर्देश जारी किए गए थे। गिरदावरी व क्रय केंद्र पर प्रस्तुत की गई गिरदावरी का मिलान ही नहीं किया। जिससे गिरदावरीयों में अंकित जिंस के रकबे में मैन्यूप्लेशन कर उड़द फसल का रकबा बढ़ाकर खरीद केंद्र पर उड़द की तुलवाई करवादी। जिसके लिए पटवारी जिम्मेदार है।

खंडार |उपखंड मुख्यालय खंडार पर वर्ष 2018-19 में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान के पास समर्थन मूल्य पर उड़द की खरीद के लिए लगाए गए सरकारी कांटे पर पौने 6 करोड़ के घोटाले के मामले में शुक्रवार को राजस्व विभाग की बड़ी कार्रवाई सामने आई है। सहकारिता विभाग की जांच में दोषी पाए गए सभी 22 पटवारियों को उच्चाधिकारियों के आदेश पर खंडार तहसीलदार देवी सिंह द्वारा 17 सीसी की चार्जसीट जारी की गई है। गौरतलब है कि भास्कर ने अब तक तीन दर्जन से अधिक समाचार प्रकाशित कर इस बड़े घोटाले का पर्दाफाश किया था। जिस पर कलेक्टर की उच्चस्तरीय जांच, सहकारिता विभाग की जांच के बाद अब राजस्व विभाग की भी मोहर लगती नजर आ रही है। चार्जशीट में यह आरोप तय किए गए है।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना