• Hindi News
  • Rajasthan
  • Sawai Madhopur
  • Khandar News rajasthan news in meikalan the tigers camped in the fields even on the fourth day if they failed to chase then the cage was planted

मेईकलां में बाघों का चौथे दिन भी खेतों में डेरा, खदेड़ने में रहे विफल तो लगाया पिंजरा

Sawai Madhopur News - रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य के बाघों का चौथे दिन सोमवार को भी मेई कलां की बैरवा बस्ती के समीप सरसों के खेतों में...

Feb 25, 2020, 09:56 AM IST
Khandar News - rajasthan news in meikalan the tigers camped in the fields even on the fourth day if they failed to chase then the cage was planted

रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य के बाघों का चौथे दिन सोमवार को भी मेई कलां की बैरवा बस्ती के समीप सरसों के खेतों में डेरा कायम है। इसके चलते क्षेत्र के किसानों की नींद पूरी तरह से हराम हो रही है। हालात यह है कि किसान बाघों की दहशत के चलते खेतों से दूरी बनाए हुए है। दूसरी आेर खंडार क्षेत्रीय वनाधिकारी मोहनलाल गर्ग के नेतृत्व वन विभाग की कई टीमें मौके पर तैनात रहकर बाघों के मूवमेंट पर पैनी नजर बनाए हुए है। समाचार लिखे जाने तक वन विभाग द्वारा बाघों को खेत से निकालने के प्रयास जारी थे।

ट्रंकुलाईज टीम भी पहुंची मौके पर : अभयारण्य के बाघों की सुरक्षा एवं किसानों की समस्या को ध्यान में रखते हुए इस मामले में दैनिक भास्कर द्वारा लगातार खबरों के प्रकाशन के बाद वन विभाग के आलाधिकारी हरकत में आ गए है और चौथे दिन विभिन्न टीमों के साथ वह मौके पर पहुंचे है। वन अफसरों के साथ विभाग की ट्रंकुलाईज टीम, रेस्क्यू टीम, जिलास्तर का गस्ती दल, विभाग की फ्लाईंग टीम, स्पेशल टाईगर ट्रेकिंग टीम सहित विभिन्न टीमें मौके पर मौजूद है। वन विभाग द्वारा सोमवार को इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पूरे सरसों के खेत व इसके आसपास के पूरे ईलाके की ड्रोन कैमरे से निगरानी की जा रही है। वहीं स्पेशल टाईगर ट्रेकिंग टीम द्वारा बाघों के नजदीकी ईलाके में मौजूद रहकर दूरबीन आदि उपकरणों से बाघों के मूवमेंट पर नजर रखी जा रही है। वहीं वन विभाग के अधिकारी भी मौके पर मौजूद रहकर कार्मिकों को आवश्यक दिशा निर्देश देकर ग्रामीणों से लगातार सीधा संवाद कर किसी भी सुरत में उन्हें बाघ वाले खेत व उसके आसपास नहीं जाने की सख्त चेतावनी दे रहे है।

मौके पर वन विभाग द्वारा बाघों को खेत से निकालने के हर तरह के प्रयास किए जा रहे है। जिस सरसों के खेत में तीन दिन से बाघों ने डेरा डाल रखा है उसके आसपास करीब 3 किलोमीटर के एरिये में विदेशी बंबूल व झाड़ियों आदि को जेसीबी से उखाड़कर सफाई कार्य करवाया जा रहा है। इससे खेत से निकलने के बाद बाघों को छिपने के लिए आसपास जगह नहीं मिलेगी। वहीं वन विभाग के वाहनों को भी मौके पर पहुंचने में अासानी रहेगी।

बाघ को खदेड़ने में रहे विफल तो लगाया पिंजरा : सुबह करीब 12 बजे सवाईमाधोपुर से वन विभाग के उच्चाधिकारियों के निर्देशन पहुंची विभिन्न टीमों ने हिम्मत दिखाते हुए बाघ को खदेड़कर सरसों के खेत से बाहर निकालकर अभयारण्य में पहुंचाने के हर संभव सभी प्रयास किए। लेकिन इन बाघों के सामने वन विभाग के सभी प्रयास विफल हो गए। अंत में शाम करीब 5 बजे वन विभाग द्वारा बाघ की लॉकेशन वाले स्थान पर पिंजरा लगाया गया है। समाचार लिखे जाने तक वन विभाग पिंजरे में शिकार रखने के प्रबंध में लगा हुआ था। वन अधिकारियों का मानना है कि रात के समय बाघ पिंजरे में शिकार को देखकर जैसे ही शिकार के लिए आएगा वह पिंजरे में कैद हो जाएगा। तब उसे अभयारण्य में छोड़ा जाएगा। क्षेत्रीय वनाधिकारी खंडार मोहनलाल गर्ग का कहना है कि अभी बाघ सरसों के खेतों में ही घुसे हुए है। हम सभी मौके पर है। बाघ को खेत से निकालने के हर संभव प्रयास किए जा रहे है।

खंडार| बाघ की दूरबीन से निगरानी करती स्पेशल टाइगर ट्रेकिंग टीम।

खंडार| खेत में विचरण करती बाघ टी 69 की मादा शावक।

Khandar News - rajasthan news in meikalan the tigers camped in the fields even on the fourth day if they failed to chase then the cage was planted
X
Khandar News - rajasthan news in meikalan the tigers camped in the fields even on the fourth day if they failed to chase then the cage was planted
Khandar News - rajasthan news in meikalan the tigers camped in the fields even on the fourth day if they failed to chase then the cage was planted

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना