दिल की बीमारी से जूझ रही चांदनी की जिंदगी हुई रोशन

Sawai Madhopur News - दिल की बीमारी से जूझ रही 6 माह की नन्हीं चांदनी को दिल में छेद की बीमारी से निजात मिली है और अब वो स्वस्थ है।...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 06:07 AM IST
Sawai Madhopur News - rajasthan news roshan lives in the moonlight of heart disease
दिल की बीमारी से जूझ रही 6 माह की नन्हीं चांदनी को दिल में छेद की बीमारी से निजात मिली है और अब वो स्वस्थ है। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के प्रयासों से मां-बाप के कलेजे के टुकड़े को नवजीवन मिला है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. तेजराम मीना ने बताया कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम जन्मजात बीमारियों से ग्रसित बच्चों के लिए वरदान साबित हो रहा है। आरबीएसके के नाम से पहचाने जाने वाले इस कार्यक्रम के तहत सवाई माधोपुर जिले में जन्मजात दिल में छेद की बीमारी से ग्रसित बच्चे, कटे होंठ व कटे तालू व आंख के ऑपरेशन किए जा चुके है। कार्यक्रम के अंतर्गत 0 से 18 साल की उम्र तक के बच्चों का उपचार किया जाता है। आरबीएसके की मोबाइल हेल्थ टीम लगातार स्कूलों, आंगनवाड़ी केंद्रों व मदरसों में जा कर बच्चों की 38 बीमारियों की स्क्रीनिंग करती है। योजना के अंतर्गत बच्चों की स्क्रीनिंग करने के बाद चिन्हित बच्चों का इलाज पीएचसी, सीएचसी, जिला लेवल पर किया जाता है, जिन भी बच्चों का इलाज जिला स्तर पर नहीं हो सकता है उन्हें जयपुर स्थित निजी चिकित्सालय में रेफर कर उनका इलाज नि:शुल्क किया जाता है।

सीएमएचओ ने बताया कि गंगापुरसिटी के रहने वाले महेश सोनी के घर छह महीने पहले जन्मीं बच्ची के जन्म के साथ घर में खुशियां आई, माता पिता ने खुशी खुशी अपनी बेटी का नाम प्यार से चांदनी रखा, लेकिन जैसे ही उन्हें पता चला कि बेटी के दिल में छेद है तो परिवार की खुशियां मायूसी में बदल गई। नन्ही सी चांदनी को सांस लेने में परेशानी, हमेशा बीमार रहना व रोने पर शरीर नीला पड़ना जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता था।

पिता ने बताया कि बेटी के जन्म के समय से ही दिल में छेद था। पैदा होने के कुछ समय बाद से ही यह सब तकलीफें आने लगी। परिवार आर्थिक रूप से कमजोर है फिर भी प्राइवेट अस्पतालों में जाकर डाॅक्टर को दिखाया सारे चेकअप करने के बाद डॉक्टर ने बताया कि ऑपरेशन करना होगा। ऑपरेशन के बिना बीमारी का ठीक होना संभव नहीं है। ऑपरेशन में होने वाले खर्च के बारे में सुनकर परिवार के सभी लोग सकते में आ गए। तब ऐसे मुश्किल हालातों में परिवार का सहारा बन बेटी का जीवनदाता राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम बना। जयपुर के निजी चिकित्सालय फोर्टिस में चांदनी के दिल के छेद का सफल ऑपरेशन हुआ। एडीएनओ डॉ. जीशान ने बताया कि चांदनी अब बिल्कुल स्वस्थ है और अब वह सामान्य जीवन जी सकेगी।

सवाईमाधोपुर | नन्ही चांदनी

X
Sawai Madhopur News - rajasthan news roshan lives in the moonlight of heart disease
COMMENT