पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Khandar News Rajasthan News Warden And Incharge Suspected Of Girl39s Video Going Viral

बालिका का वीडियो वायरल होने से वार्डन व इंचार्ज संदेह के घेरे में

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

क्षेत्र में एक बालिका का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक बालिका सड़क किनारे बनी रणथंभौर राष्ट्रीय अभयारण्य की चारदीवारी से बाहर निकलती तथा एक व्यक्ति के साथ बाइक पर बैठती नजर आ रही है। सड़क पर मौजूद ग्रामीणों की भीड़ मोटरसाइकिल पर बैठी उक्त बालिका एवं व्यक्ति को घेरे खड़े दिखाई दे रहे हैं। भीड़ द्वारा उन्हें पकड़कर रोकने का प्रयास किया जा रहा है। हंगामे के बीच बालिका के साथ मोटरसाइकिल पर मौजूद संबंधित व्यक्ति अपने आपको बालिका का रिश्तेदार बताते हुए लोगों की भीड़ से उन्हें छोड़ने की बात कह रहा है। बालिका भी रो-रोकर उन्हें जाने देने की बात कह रही है। लोगों में चर्चा के अनुसार यह वीडियो तलावड़ा रोड का है तथा उक्त बालिका कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय खंडार टाइप 4 की बताई जा रही है। हालांकि छात्रावास प्रशासन ने उनके हॉस्टल की किसी भी बालिका के साथ इस तरह कि कोई घटना के संबंध में मना किया है। पीड़ित द्वारा खंडार थाना पुलिस को परिवाद दिया गया, पुलिस ने मुकदमा दर्ज योग्य नहीं पाया तथा आरोपी को शांति भंग में गिरफ्तार किया है।

आरोपी को 151 में गिरफ्तार किया गया


हुआ यूं था कि कोई बालिका का सगा मामा हॉस्टल से बालिका को लेकर गया और कहीं रिश्तेदारी में ले गया। इस मामले में थाने पर परिवाद भी दिया था, लेकिन वह मुकदमा दर्ज करने योग्य नहीं था। दोबारा से आरोपी इस तरह की हरकत नहीं करें, इस कारण उसे 151 में गिरफ्तार किया गया था।
भरत सिंह, थानाधिकारी, खंडार

ज्यादा हॉस्टल वार्डन ही बता सकती है

मुझे इस मामले की जानकारी नहीं है। 4 मार्च को रात में हॉस्टल में गया था तथा बालिका को हॉस्टल में रख लिया हैं। पिछले दिनों हॉस्टल से बालिका को उसके अभिभावक ऑन रिकॉर्ड लेकर गए थे। इस बारे में ज्यादा जानकारी हॉस्टल वार्डन ही दे सकती है।
रमेश, इंचार्ज, कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय खंडार, टाइप 4

हमारे हॉस्टल से कोई भी बालिका गायब नहीं हुई हैं और ना ही इस तरह का कोई मामला हैं। इतना कहकर फोन काट दिया।
संतोष दाधीच, वार्डन, कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय

वार्डन ने हॉस्टल में रखने से किया इंकार


अंत में बालिका एवं उसके परिजन 12वीं की परीक्षा देने के लिए राजी हो गए। प्रधानाचार्या गांव से बालिका व उसके पिता को साथ लेकर सीधे शाम को कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय खंडार टाइप 4 में पहुंची, लेकिन यहां मौजूद वार्डन संतोष दाधिच ने बालिका को छात्रावास में रखने से साफ इंकार कर दिया। जब उनसे कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि हम बालिका को रख लेंगे, लेकिन यहां इसकी जिम्मेदारी एवं निगरानी कौन करेगा, यह बालिका छात्रावास से पहले ही बिना बताए निकल चुकी हैं। प्रधानाचार्या ने कहा कि छात्रावास से आपकी बालिकाएं आपको बिना बताए ही निकल रही हैं और 17 दिन तक आपको पता भी नहीं चल रहा हैं तो फिर आप यहां क्या कर रहे हो और आपकी क्या जिम्मेदारी हैं। इस बात पर वार्डन भड़क गई। प्रधानाचार्या सुजाता शर्मा ने बताया कि 5 मार्च से 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं शुरू होने वाली थी।

खंडार| कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालय।

रातोंरात हॉस्टल पहुंचे इंचार्ज: वार्डन की सूचना एवं मौके की नजाकत को देखते हुए छात्रावास इंचार्ज व राउमावि खंडार के प्रधानाचार्य रमेश जाट अपने एक व्याख्याता के साथ रातोंरात बालिका हॉस्टल में पहुंचे। इस दौरान बालिका, उसके पिता, वार्डन एवं प्रधानाचार्या सभी ने इंचार्ज के सामने अपनी अपनी बात रखी, लेकिन वार्डन ने बालिका को हॉस्टल में रखने से ही इंकार कर दिया। वहीं इंचार्ज ने भी वार्डन के स्वर में स्वर मिलाते हुए बालिका को किसी भी हालत में हॉस्टल में रखने से साफ इंकार कर दिया। इस दौरान अधिकारियों में काफी देर तक विवाद के साथ कहासुनी हुई, जिसकी आवाजें हॉस्टल के मुख्य द्वार के बाहर साफ सुनाई दे रही थी। रात 8 बजे बालिका हॉस्टल में हंगामा होता देख ग्रामीणों ने स्थानीय मीडिया को सूचना दी। इस पर कई मीडियाकर्मी हॉस्टल पहुंचे, लेकिन इंचार्ज एवं वार्डन ने मीडिया को हॉस्टल में प्रवेश देने से मना करते हुए ताला नहीं खोला।
खबरें और भी हैं...