--Advertisement--

एसीयू चीफ बने अजीत सिंह

जयपुर | भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने राजस्थान के पूर्व डीजीपी अजीत सिंह को एंटी-करप्शन यूनिट (एसीयू)...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 06:20 AM IST
जयपुर | भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने राजस्थान के पूर्व डीजीपी अजीत सिंह को एंटी-करप्शन यूनिट (एसीयू) का प्रमुख बना दिया है। दिल्ली के पूर्व पुलिस कमिश्नर नीरज कुमार 31 मई तक एसीयू के एडवाइजर बने रहेंगे। बीसीसीआई की घोषणा के बाद अजीत सिंह ने कहा कि वे बीसीसीआई में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) के अनुभवों का इस्तेमाल करेंगे, ताकि क्रिकेट को साफ-सुथरा बनाया जा सके। बीसीसीआई में वे एक अलग टीम बनाएंगे, जो भ्रष्टाचार पर निगरानी रखेगी। बीसीसीआई की स्पेशल टीम से भी अगर कोई शिकायत मिलती है तो उसका अनुसंधान एसीबी की तर्ज पर ही करेंगे।

अजीत सिंह 82 बैच के रिटायर्ड आईपीएस अफसर हैं। वे वर्ष 2009 से 2013 तक एसीबी डीजी, एडीजी क्राइम, डीजी जेल जैसे महत्वपूर्ण पदों पर रहे। अजीत सिंह को अगस्त 2017 में सरकार ने डीजीपी के पद पर लगाया था। अजीत सिंह डीजीपी बनने के चार माह बाद रिटायर्ड हो गए थे। उनके एसीबी में कार्यकाल के दौरान दो आईपीएस अफसर समेत सैकड़ों भ्रष्ट अफसर जेल चले गए थे। अजीत सिंह के सुपरविजन में अजमेर में पुलिस थानों से मासिक मंथली प्रकरण का खुलासा हुआ था।

कार्यकारी सचिव की सहमति के बिना सीओए ने सौंपी जिम्मेदारी

विनोद राय की अगुवाई वाली प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अजीत सिंह को बीसीसीआई के कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी की सहमति के बिना एसीयू का चीफ बना दिया। चौधरी ने अजीत सिंह के कॉन्ट्रेक्ट लेटर पर साइन करने से इनकार कर दिया था। चौधरी ने जनरल मैनेजर (एडमिनिस्ट्रेशन) प्रो. र|ाकर शेट्टी काे एक्सटेंशन का प्रस्ताव भी दिया था। सीओए ने इसे भी नकार दिया।