--Advertisement--

पांच दिवसीय यज्ञ पुराण कथा का समापन

राजगढ़ | गायत्री शक्तिपीठ पर चल रहे पांच दिवसीय प्रज्ञा पुराण के अवसर पर परिवार व्यवस्था प्रकरण कथा सुनाई गई।...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 06:25 AM IST
राजगढ़ | गायत्री शक्तिपीठ पर चल रहे पांच दिवसीय प्रज्ञा पुराण के अवसर पर परिवार व्यवस्था प्रकरण कथा सुनाई गई। शक्तिपीठ की सदस्या प्रीति विजय व मीना खंडेलवाल ने बताया कि शांतिकुंज हरिद्वार से आए कथावाचक श्यामसुंदर ने कहा कि गृहस्थ आश्रम सबसे बड़ा योग है। उन्होंने संस्कारवान बन परिवार में सामंजस्य स्थापित करने व परिवार को एक साथ लेकर चलने की बात कही। उन्होंने विवाह सहित अन्य शुभ कार्यों को यज्ञीय वातावरण में संपन्न करने पर बल दिया। दहेज, कन्या भ्रूण हत्या को मिटाने का आह्वान किया। इस मौके पर गायत्री शक्तिपीठ वेदमूर्ति पं. श्रीराम शर्मा आचार्य द्वारा रचित पुस्तक मेला लगाया गया। प्रीति विजय ने बताया कि कार्यक्रम समापन पर शिक्षा संस्कार, विद्या आरंभ संस्कार, नामकरण संस्कार सहित अन्य संस्कार कराए गए। इस अवसर पर सतीश कौशिक, लक्ष्मीनारायण, राजेंद्र नवल, कैलाश आदि मौजूद थे।