• Home
  • Rajasthan News
  • Shahjahanpur News
  • मंत्री सराफ को डोटासरा ने 11 बार टोका, मंत्री बोले- आपको पाइल्स है..डॉक्टर घर भेजता हूं
--Advertisement--

मंत्री सराफ को डोटासरा ने 11 बार टोका, मंत्री बोले- आपको पाइल्स है..डॉक्टर घर भेजता हूं

जयपुर | चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ को विधानसभा में बुधवार को विभाग की मांगों और 308 कट मोशन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 06:25 AM IST
जयपुर | चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री कालीचरण सराफ को विधानसभा में बुधवार को विभाग की मांगों और 308 कट मोशन प्रस्तावों पर जवाब देना था, लेकिन उनके डेढ़ घंटे की रिप्लाई में कांग्रेस से सचेतक गोविंदसिंह डोटासरा ने 11 बार टोका। मंत्री कई बार चिड़े.. उत्तेजित हुए... फिर ठंडे पड़े.. अंत में इतने ढीले पड़ गए कि 39 विधायकों ने उनसे मांग की थी, लेकिन उन्होंने केवल डोटासरा द्वारा उठाई चार मांगों का ही कतिपय जवाब दिया और अंत में दो बार हंसाने वाला शेर पढ़कर जैसे कांग्रेस के हमलों के सामने हथियार टेकने का काम किया। लेकिन मंत्री के जबाव के दौरान जैसे उनका रिमोट डोटासरा के हाथ में था। शुरू में मंत्री के जवाब के 18 वें मिनट में ही डोटासरा द्वारा टोकने पर मंत्री उखड़ गए.. और बोले .. हर दिन मेरे बीच में खड़े हो जाते हो। आप शांति से बैठ नहीं सकते। आपको इलाज की जरूरत है। आपको पाइल्स हो गए हैं.. बोले डॉक्टर भेजकर इलाज करवा देता हूं। लेकिन डोटासरा रुके नहीं। घोषणाओं में मंत्री ने कहा कि जून और जुलाई तक प्रदेश में विभिन्न पदों पर 14 हजार 618 भर्तियां पूरी कर ज्वाइनिंग दे दी जाएगी। 27 नई पीएचसी की घोषणा की इसके अलावा 700 नए उपस्वास्थ्य केंद्र खोलने की भी घोषणा की। अब गांवों की 10 से 19 वर्ष की स्कूली और सभी प्रकार की बालिकाओं को सेनेटरी नैपकिन फ्री बांटे जाएंगे। लेकिन मंत्री की घोषणाओं के बाद भी खुद को असहाय बताते हुए एक शेर से बिच्छू का झाड़ा पढ़ लिया। अल्का सिंह भी अपनी मांग की घोषणा के लिए अड़ गई। अंत में 101 अरब 66 करोड़ का विभाग का बजट ध्वनिमत से पारित कर 5 मार्च तक के लिए विधानसभा तक के लिए स्थगित कर दी गई।

इस तरह मंत्री को टोका.. डोटासरा ने.. और सदन मजे लेता रहा

डोटासरा ने.. सबसे पहले श्रीचंद कृपलानी से उलझने के दौरान मंत्री को बोला.. पढ़ो मत.. टेबल कर दो जबाव। कल होली है सभी को जाना है। इस पर मंत्री उखड़ गए... आपको सुनना पड़ेगा। आपको बीमारी है कि रोज मेरे बीच खड़े हो जाते हो। पाइल्स हो गए हैं.. डॉक्टर भेज देता हूं आपके घर। इसके बाद फिर बोले.. अफसरों ने 60 पन्ने पकड़ा दिए.. उपाध्यक्ष ये पढ़ रहे हैं। व्यवस्था है कि मंत्री अक्षरस: पढऩा मना है। फिर हंगामा हुआ.. लेकिन डोटासरा ने फिर हमला किया.. बेचारे राज्यमंत्री बाजिया को क्या दिया यह तो बता दो? बाजिया के लिए पीएचसी-सीएचसी की घोषणा हुई तो फिर टोका.. क्या दोनों अस्पताल बाजिया को दिए..।