--Advertisement--

बिहार: भागलपुर में 14 दिन पहले हुई सांप्रदायिक हिंसा 8 जिलों तक फैली

बिहार में 14 दिन पहले भागलपुर से शुरू हुई सांप्रदायिक हिंसा फैलती ही जा रही है। शुक्रवार सुबह नवादा बाईपास के पास...

Dainik Bhaskar

Mar 31, 2018, 06:30 AM IST
बिहार: भागलपुर में 14 दिन पहले हुई सांप्रदायिक हिंसा 8 जिलों तक फैली
बिहार में 14 दिन पहले भागलपुर से शुरू हुई सांप्रदायिक हिंसा फैलती ही जा रही है। शुक्रवार सुबह नवादा बाईपास के पास गोंदापुर में चौक पर धार्मिक स्थल में तोड़-फोड़ की गई। इससे लोग आक्रोशित हो गए और हिंसा शुरू कर दी। कई दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया है। वाहनों में तोड़-फोड़ की गई है। पटना-रांची हाईवे 31 को जाम कर दिया। तब पुलिस को प्रदर्शनकारियों को नियंत्रित करने के लिए हवाई फायरिंग करनी पड़ी। तनाव को देखते हुए इलाके के धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इंटरनेट बंद कर दिया गया है।

नवादा के डीएम ने बताया- धार्मिकस्थल पर कुछ असामाजिक तत्वों ने मूर्ति तोड़ दी। इससे दो संप्रदाय आमने-सामने आ गए और हिंसा भड़क गई। स्थिति को संभालने के लिए मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात है। नवादा से भाजपा के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह सांसद हंै। गौरतलब है कि प्रदेश का नवादा आठवां जिला है, जहां सांप्रदायिक हिंसा हुई है। इससे पहले औरंगाबाद, समस्तीपुर, भागलपुर, अररिया, मंुगेर, नालंदा और सीवान भी हिंसा की चपेट में आ चुके हैं। जानते हैं कैसे बिहार के जिलों मेें हिंसा का दायरा बढ़ा और उस पर सियासत चल रही है।

अब तक 175 से ज्यादा लोग गिरफ्तार, 200 से ज्यादा पर केस दर्ज

17 मार्च : भागलपुर से उठी हिंसा की आग

हिंदू नव वर्ष पर निकाले गए बाइक जुलूस के दौरान यहां दो समुदायों के बीच झड़प हो गई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, उपद्रवियों के पथराव में 8 पुलिसकर्मियों समेत डेढ़ दर्जन लोगों को चोटें आईं थीं। भीड़ में से कुछ लोगों ने गोली और बम से भी हमला किया। इसमें पुलिस के एक जवान को गोली भी लगी। जिसका इलाज चल रहा है। 23 दुकानों में तोड़फोड़ भी हुई।

कार्रवाई: पुलिस ने इस मामले में दो एफआईआर दर्ज की हैं। केंद्रीय मंत्री अश्वनी चौबे के बेटे अरिजीत शाश्वत समेत 8 पर केस दर्ज है।

नीतीश की पार्टी बोली- हम कोई भी कीमत चुकाने को तैयार

राज्य में हो रही हिंसा पर कांग्रेस ने सीएम नीतीश कुमार को ‘असहाय’ कहा। वहीं राजद नेता तेजस्वी ने कहा कि नीतीश भाजपा का ही एजेंडा लागू होने दे रहे हैं। ‘धर्मनिरपेक्ष’ और ‘सुशासन’ की छवि को नुकसान होते देख जदयू ने भी भाजपा को कड़ा संदेश दिया। जदयू महासचिव श्याम रजक ने कहा- ‘नीतीश जी कभी कानून-व्यवस्था के नाम पर समझौता नहीं करते हैं। पार्टी इसके लिए कोई भी कीमत देने के लिए तैयार है।

नवादा में हिंसा के बाद मौके पर सुरक्षाबल तैनात हैं। इससे पहले गुरुवार को अररिया में हिंसा का एक वीडियाे भी सामने आया था। पुलिस उस वीडियो की जांच कर रही है।

25 मार्च: औरंगाबाद में जुलूस पर पथराव

औरंगाबाद में रामनवमी का जुलूस निकल रहा था। तभी कथित तौर पर जुलूस पर पथराव हुआ। हिंसा भड़क गई। पुलिस ने बल प्रयोग से भीड़ को काबू किया।

कार्रवाई :150 लोग गिरफ्तार। धारा 144 लगी।

27 मार्च: समस्तीपुर में पथराव, आगजनी

समस्तीपुर के रोसडा बाजार में चैती दुर्गा पूजा के अवसर पर दो समुदाय में विवाद के बाद पथराव और आगजनी हुई। वाहन जला दिए गए।

कार्रवाई: दो स्थानीय भाजपा नेताओं समेत 13 हिरासत में। 57 गिरफ्तार।

आसनसोल हिंसा की जांच को भाजपा की समिति

पश्चिम बंगाल के आसनसोल में हाल में हिंसा की घटना की जांच और उसकी रिपोर्ट देने के लिए भाजपा ने अपनी 4 सदस्यीय समिति बनाई है। इसमें सांसद ओम माथुर, प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन, रूपा गांगुली और सांसद बीडी राम शामिल हैं ।

राजद बोली: संघ ने भड़काई हिंसा: राजद नेता तेजस्वी ने कहा कि बिहार में मोहन भागवत 14 दिनों तक रुके थे, अपनी यात्रा में वो इस घटना को डिजाइन करके गए थे।

28 मार्च: नालंदा और मुंगेर में हिेंसा

मुंगेर में सांप्रदायिक झड़प में 4 सुरक्षाकर्मियों समेत 24 लोग घायल हो गए। नालंदा में पथराव हुआ।

कार्रवाई: नालंदा में 34 लोगों समेत 50 गिरफ्तार। 74 लोगों के खिलाफ एफआईआर।

X
बिहार: भागलपुर में 14 दिन पहले हुई सांप्रदायिक हिंसा 8 जिलों तक फैली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..