Home | Rajasthan | Shahjanpur | ई-वे बिल में दूसरे दिन भी परेशानी नहीं, भारत बंद से कम जेनरेट हुए बिल

ई-वे बिल में दूसरे दिन भी परेशानी नहीं, भारत बंद से कम जेनरेट हुए बिल

एक राज्य से दूसरे राज्य में सामान ले जाने के लिए ई-वे बिल में सोमवार को दूसरे दिन भी परेशानी नहीं आई। इसकी दो वजहें...

Bhaskar News Network| Last Modified - Apr 03, 2018, 06:30 AM IST

ई-वे बिल में दूसरे दिन भी परेशानी नहीं, भारत बंद से कम जेनरेट हुए बिल
ई-वे बिल में दूसरे दिन भी परेशानी नहीं, भारत बंद से कम जेनरेट हुए बिल
एक राज्य से दूसरे राज्य में सामान ले जाने के लिए ई-वे बिल में सोमवार को दूसरे दिन भी परेशानी नहीं आई। इसकी दो वजहें थीं। एक तो वित्त वर्ष के पहले हफ्ते कंपनियों से माल की सप्लाई कम होती है। दूसरा, भारत बंद के कारण ट्रांसपोर्टरों ने भी सप्लाई सीमित रखी। वित्त सचिव हसमुख अढिया ने बताया कि ई-वे बिल में अभी तक किसी खामी की सूचना नहीं है। हालांकि रायपुर के कारोबारियों ने धीमी गति की शिकायत की। जीएसटी नेटवर्क के सीईओ ने बताया कि रविवार को 2.59 लाख और सोमवार को दोपहर 3 बजे तक 2.89 लाख बिल जेनरेट किए गए। पोर्टल की क्षमता रोजाना 75 लाख बिल की है। इससे पहले 1 फरवरी को ई-वे बिल लागू करने की कोशिश की गई थी, लेकिन सिस्टम नहीं चल पाने के कारण इसे दो महीने के लिए मुल्तवी कर दिया गया था। जीएसटी नेटवर्क पर 1.05 करोड़ कारोबारियों-कंपनियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। इनमें से 11 लाख ई-वे बिल पोर्टल पर रजिस्टर्ड हैं।

ऑल हरियाणा ट्रक ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के प्रेसिडेंट सुरेश शर्मा ने बताया कि वित्त वर्ष के पहले हफ्ते कंपनियां माल कम ही भेजती हैं। कुछ कंपनियों का डिस्पैच तो सामान्य से आधा रहा। इंदौर के ट्रांसपोर्टर्स ने कहा कि आने वाले दिनों में दिल्ली एवं दक्षिण भारत से आवक प्रभावित हो सकती है। रांची के कारोबारियों के अनुसार सिस्टम में सुधार और नियमों में बदलाव से राहत है। चंडीगढ़ में एलएमवी ट्रांसपोर्ट संघ के अध्यक्ष राकेश खेर ने बताया कि भारत बंद के चलते ज्यादा गतिविधियां नहीं हुईं। सोमवार रात से ट्रक चलना शुरू हो जाएंगे और इन सभी ने ई-वे बिल जेनरेट किए हैं। फिलहाल कोई परेशानी नहीं है।

मंगलवार को बड़ी संख्या में बिल जनरेट होने की संभावना

राजस्थान के एसजीएसटी कमिश्नर आलोक गुप्ता ने बताया कि प्रदेश में 5 लाख ई-वे बिल जेनरेट करने की क्षमता है। सोमवार शाम तक करीब 20,000 बिल ही जनरेट हुए। फेडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एंड इंडस्ट्री (फोर्टी) के अध्यक्ष तथा ट्रांसपोर्टर सुरेश अग्रवाल ने बताया कि ‘भारत बंद’ की वजह से सोमवार को आधा राजस्थान बंद था। व्यापारियों ने बहुत कम बुकिंग कराई। मंगलवार को बड़ी संख्या में बिल जनरेट होने की संभावना है। तभी सिस्टम का सही पता लगेगा।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now