Hindi News »Rajasthan »Shahjanpur» 94 साल में पहली बार हमारे पुरुष और महिला एथलीट आए एक जैसी ड्रेस में

94 साल में पहली बार हमारे पुरुष और महिला एथलीट आए एक जैसी ड्रेस में

गोल्ड कोस्ट | ऑस्ट्रेलिया के शहर गोल्ड कोस्ट में बुधवार को 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आगाज हो गया। परेड ऑफ नेशंस में...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 05, 2018, 07:00 AM IST

94 साल में पहली बार हमारे पुरुष और महिला एथलीट आए एक जैसी ड्रेस में
गोल्ड कोस्ट | ऑस्ट्रेलिया के शहर गोल्ड कोस्ट में बुधवार को 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स का आगाज हो गया। परेड ऑफ नेशंस में भारतीय दल 38वें नंबर पर आया। ओलिंपिक सिल्वर मेडलिस्ट सिंधु ने 218 सदस्यीय भारतीय दल की अगुआई की। 1924 ओलिंपिक में भारत की ओर से पहली बार महिला एथलीट ने हिस्सा लिया था। तब से अब तक यह पहला मौका है जब किसी ग्लोबल स्पोर्टिंग इवेंट के मार्च पास्ट में भारत के पुरुष, महिला एथलीट एक जैसी ड्रेस में आए। भारतीय खिलाड़ी डार्क ब्लू ब्लेजर व ट्राउजर में आए।

ड्रेस कोड में बदलाव क्यों?

ओलिंपिक, एशियन व कॉमनवेल्थ में भारतीय महिला एथलीट साड़ी व ब्लेजर में मार्च पास्ट में हिस्सा लेती रही हैं।

भारतीय ओलिंपिक संघ ने 20 फरवरी को ही फैसला कर लिया था। तब आईओए के महासचिव राजीव मेहता ने कहा था कि महिला एथलीट की सुविधाओं के लिए ऐसा किया गया है।

पहले दिन 11 खेलों में भारत की चुनौती

11 खेलों में चुनौती पेश करेंगे भारतीय खिलाड़ी मुकाबलों के पहले दिन।

275 गोल्ड मेडल का फैसला होगा पूरे गेम्स में, पहले दिन 19 मेडल दांव पर।

एथलीट आम तौर पर साड़ी पहनने की अभ्यस्त नहीं होती हैं और उन्हें मदद की जरूरत पड़ती है। उद्घाटन समारोह के दौरान उन्हें पांच-सात घंटे साड़ी पहने रहना होता है, जो काफी कठिन होता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shahjanpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×