शाहजहांपुर

--Advertisement--

...और बैगेज मैनेजर बन गया रॉयल्स का वाइस प्रेसीडेंट

जयपुर | 2009 में बैगेज मैनेजर से शुरुआत करने वाला व्यक्ति राजस्थान रॉयल्स के वाइस प्रेसीडेंट तक का सफर पूरा कर चुका...

Dainik Bhaskar

Apr 05, 2018, 07:05 AM IST
...और बैगेज मैनेजर बन गया रॉयल्स का वाइस प्रेसीडेंट
जयपुर | 2009 में बैगेज मैनेजर से शुरुआत करने वाला व्यक्ति राजस्थान रॉयल्स के वाइस प्रेसीडेंट तक का सफर पूरा कर चुका है। क्रिकेट के जुनून के कारण यह व्यक्ति यहां तक पहुंचा है। इसका नाम है राजीव खन्ना। कहते हैं, मैंने अंडर-19 क्रिकेट खेला। कैंप भी किया। तभी से मुझमें क्रिकेट के प्रति जुनून था। क्रिकेट करियर तो मेरा आगे नहीं बढ़ पाया लेकिन मेरी मंशा यही थी कि मैं क्रिकेट से जुड़ा रहूं। मैं विदेश क्रिकेट टूर ले जाने लगा। उन दिनों जोधपुर यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर लक्ष्मण सिंह राठौर और जोधपुर राजघराने से मुझे काफी सपोर्ट मिला। 2009 में मैं राजस्थान रॉयल्स में बैगेज मैनेजर बना। इस साल आईपीएल द. अफ्रीका शिफ्ट हो गया था तो मुझे काम नहीं मिला। लेकिन मुझे सिनेमा हॉल में मैचों की स्क्रीनिंग का काम मिला, जिसे बखूबी निभाया। बस इसके बाद मेरा राजस्थान रॉयल्स से जुड़ाव बढ़ता गया।

बीसीसीआई सीईओ राहुल जौहरी के साथ राजीव खन्ना (बाएं)।

प्रीति की टीम के साथ काम किया

जब राजस्थान रॉयल्स दो साल के प्रतिबंधित थी तब मुझे प्रीति जिंटा की टीम किंग्स इलेवन पंजाब के साथ काम करने का मौका मिला। यहां मुझे सीओओ बनाया गया। असल में मैंने यहां ही लीडरशिप स्किल सीखी। अब जब राजस्थान रॉयल्स वापस आई तो फिर मुझे इससे जुड़ने का मौका मिला। अब टिकटिंग, फूड, सरकारी विभागों से कोऑर्डिनेशन, मीडिया टीम, टेंटेज आदि। इस बार आरसीए के जिम्मे जो काम थे वे भी राजस्थान रॉयल्स को करने हैं। इसलिए इस बार जिम्मेदारी और बड़ी है।

X
...और बैगेज मैनेजर बन गया रॉयल्स का वाइस प्रेसीडेंट
Click to listen..