• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shahjanpur
  • डेमोक्रेसी नहीं डिक्टेटरशिप हावी, केंद्र ने हिंसा और संघर्ष के बीच इसे साबित किया : आजाद
--Advertisement--

डेमोक्रेसी नहीं डिक्टेटरशिप हावी, केंद्र ने हिंसा और संघर्ष के बीच इसे साबित किया : आजाद

Dainik Bhaskar

Apr 10, 2018, 05:00 AM IST

Shahjanpur News - राज्यसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद का कहना है कि 90 प्रतिशत लोग कहते है कि वो जातिवाद नहीं करते, धर्मों में...

डेमोक्रेसी नहीं डिक्टेटरशिप हावी, केंद्र ने हिंसा और संघर्ष के बीच इसे साबित किया : आजाद
राज्यसभा के नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद का कहना है कि 90 प्रतिशत लोग कहते है कि वो जातिवाद नहीं करते, धर्मों में फर्क नहीं करते है। लेकिन ये झूठ है। लोग ऐसा करते है और कहने से बचते है। इसलिए वह युवाओं से सिर्फ इतना ही कहना चाहते है कि खुद की कथनी और करनी में फर्क नहीं रखे। दूसरे फर्क करें तो देशहित में जिम्मेदारी याद दिलाएं। देश में डेमोक्रेसी की जगह डिक्टेटरशिप हावी हो रही है। पीएम आखिरकार लोगों से मिलकर देश में हुई हिंसा और संघर्ष पर बात क्यों नहीं कर रहे है। लोग परेशान है लेकिन वह डिक्टेटरशिप की तरह एक राज्य से दूसरा राज्य जीतने के अलावा और किसी बात पर ध्यान नहीं देते है। वह सोमवार को मानसरोवर में आयोजित एनएसयूआई के राष्ट्रीय अधिवेशन में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा ने जाति और धर्म के नाम पर देश को बांटकर चुनाव तो जीत लिए है लेकिन देश हार रहा है। लोगों को नुकसान हुआ है और उन्हें परेशानी हुई है।

महिलाएं राजनीति में आगे आएं

राष्ट्रीय महिला कांग्रेस अध्यक्ष सुष्मिता देव ने कहा कि महिलाओं को देश में आगे आना होगा और ये काम कांग्रेस बेहतर तरीके से कर रही है। उन्होंने महिला सशक्तिकरण को प्रोत्साहन देने के मुद्दे उठाएं। इस दौरान एनएसयूआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान, वरिष्ठ नेता देवेन्द्र यादव, भंवर जितेन्द्र सिंह ; पंजाब से सांसद गुरजीत सिंह, विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी, विधायक धीरज गुर्जर सहित कई लोगों ने अपना पक्ष रखा।

X
डेमोक्रेसी नहीं डिक्टेटरशिप हावी, केंद्र ने हिंसा और संघर्ष के बीच इसे साबित किया : आजाद
Astrology

Recommended

Click to listen..