• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Shahpura News
  • सरकारी विद्यालयों में पोषाहार वितरण में फर्जीवाड़े पर 18 संस्था प्रधानों को नोटिस
--Advertisement--

सरकारी विद्यालयों में पोषाहार वितरण में फर्जीवाड़े पर 18 संस्था प्रधानों को नोटिस

सरकारी स्कूलों के पहली से आठवीं कक्षा के बच्चों को वितरित किए जा रहे एमडीएम में जमकर फर्जीवाड़ा चल रहा है। गत 26 व 27...

Dainik Bhaskar

Mar 07, 2018, 06:40 AM IST
सरकारी स्कूलों के पहली से आठवीं कक्षा के बच्चों को वितरित किए जा रहे एमडीएम में जमकर फर्जीवाड़ा चल रहा है। गत 26 व 27 फरवरी को हुए निरीक्षण की रिपोर्ट में कई अनियमितताएं सामने आई हैं। विभाग ने 18 संस्था प्रधानों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं।

जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि निरीक्षण के दौरान राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रामपुरिया, राजपुरा, (सुवाणा), राउमावि टहुंका(मांडल), राजकीय प्राथमिक विद्यालय नोला का खेड़ा, जिंदरास एवं नंग पुरा (आसींद) एवं उल्लई(सहाड़ा) में केश बुक संधारित नहीं थी। इनमें से कई जगह तो एक साल से भी अधिक समय से केश बुक अधूरी मिली। बिल वाउचर पर हस्ताक्षर तक नहीं थे। राउमावि खैराबाद, स्वरूपगंज एवं राजकीय प्राथमिक विद्यालय चेचीखेड़ा(बनेड़ा), कांगणी(सहाड़ा) में निरीक्षण के दौरान पाया कि कुक कम हेल्पर को नकद भुगतान किया गया। जबकि विभाग के नियम चेक से भुगतान करने के हैं। एमडीएम जिला प्रभारी जगदीश प्रजापति ने बताया कि निरीक्षण रिपोर्ट एमडीएम आयुक्तालय भेज दी है।

यहां भी मिली कई कमियां

राजकीय प्राथमिक विद्यालय बलाई खेड़ा में चपातियों का आकार बहुत बड़ा था। मसाला तेज था। भीलों का झोंपडिय़ां आसींद में अनाज भंडार सही नहीं था। किचन में गंदगी पसरी थी। तहनाल(शाहपुरा) में कुक को समय पर भुगतान नहीं करने की शिकायत सामने आई।

भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा

सरकारी स्कूलों के पहली से आठवीं कक्षा के बच्चों को वितरित किए जा रहे एमडीएम में जमकर फर्जीवाड़ा चल रहा है। गत 26 व 27 फरवरी को हुए निरीक्षण की रिपोर्ट में कई अनियमितताएं सामने आई हैं। विभाग ने 18 संस्था प्रधानों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं।

जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि निरीक्षण के दौरान राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय रामपुरिया, राजपुरा, (सुवाणा), राउमावि टहुंका(मांडल), राजकीय प्राथमिक विद्यालय नोला का खेड़ा, जिंदरास एवं नंग पुरा (आसींद) एवं उल्लई(सहाड़ा) में केश बुक संधारित नहीं थी। इनमें से कई जगह तो एक साल से भी अधिक समय से केश बुक अधूरी मिली। बिल वाउचर पर हस्ताक्षर तक नहीं थे। राउमावि खैराबाद, स्वरूपगंज एवं राजकीय प्राथमिक विद्यालय चेचीखेड़ा(बनेड़ा), कांगणी(सहाड़ा) में निरीक्षण के दौरान पाया कि कुक कम हेल्पर को नकद भुगतान किया गया। जबकि विभाग के नियम चेक से भुगतान करने के हैं। एमडीएम जिला प्रभारी जगदीश प्रजापति ने बताया कि निरीक्षण रिपोर्ट एमडीएम आयुक्तालय भेज दी है।

दो दिन में किया 779 स्कूलों का निरीक्षण

एडीईओ अशोक पारीक ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देश पर 26 व 27 फरवरी को विशेष निरीक्षण अभियान चलाया गया। ब्लॉक व जिला स्तर पर 215 टीमों का गठन किया गया। टीम में 201 अधिकारियों ने 779 स्कूलों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान 761 स्कूलों में संतोषप्रद व 18 स्कूलों में स्थिति असंतोषप्रद मिली।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..