• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shahpura
  • हर भर्ती को देखकर तैयारी न करें, लक्ष्य बनाकर प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रेक करें: डॉ. सिन्हा
--Advertisement--

हर भर्ती को देखकर तैयारी न करें, लक्ष्य बनाकर प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रेक करें: डॉ. सिन्हा

Shahpura News - स्टूडेंट्स की जिज्ञासा हो या फिर अभिभावकों की बच्चों के कॅरिअर संबंधी सवाल सभी के जवाब भास्कर संवाद के दौरान...

Dainik Bhaskar

Mar 30, 2018, 06:50 AM IST
हर भर्ती को देखकर तैयारी न करें, लक्ष्य बनाकर प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रेक करें: डॉ. सिन्हा
स्टूडेंट्स की जिज्ञासा हो या फिर अभिभावकों की बच्चों के कॅरिअर संबंधी सवाल सभी के जवाब भास्कर संवाद के दौरान गुरुवार को एमएलवी कॉलेज के लोक प्रशासन विभाग के अध्यक्ष डॉ. संजयकुमार सिन्हा ने दिए। 10वीं के बाद विषय चयन, 12वीं व स्नातक के बाद प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के टिप्स डॉ. सिन्हा ने दिए। उन्होंने कहा कि कोई लक्ष्य निर्धारित करें। ऐसा न करें कि इसकी भर्ती निकली तो इसकी दो महीने तैयारी कर लें, उसकी भर्ती निकले तो उसकी तैयारी कर लें। लक्ष्य निर्धारित करें और फिर योजना बनाकर पढ़ाई में लग जाएं। फिर भी कमी रहती है तो शिक्षकों, सफल रहे उम्मीदवारों से संपर्क कर सकते हैं। हो सकता है आप जिस में पिछड़ रहे हैं उसके लिए बेहतर प्रबंधन शिक्षक या सफल प्रतियोगी बता सके। डॉ. सिन्हा ने बताया कि पढ़ाई-प्रतियोगी परीक्षा संबंधी किसी भी तरह की परेशानी में एमएलवी कॉलेज में उनसे संपर्क कर सकते हैं।

भास्कर संवाद के दौरान कॅरिअर एक्सपर्ट एमएलवी कॉलेज के प्राध्यापक डॉ. संजय कुमार सिन्हा ने दिए जवाब


सवाल- लोक प्रशासन में क्या संभावना है?

जवाब- लोक प्रशासन विषय में काफी स्कोप है। नेट, पीएचडी करके लेक्चरर बन सकते हैं। रिसर्च फील्ड में जा सकते हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि अधिकांश प्रतियोगी परीक्षाओं में यह विषय काफी मददगार है। 20 से 30 प्रतिशत प्रश्न प्रशासनिक प्रबंध को लेकर आते हैं।


सवाल- इंजीनियर बनना है, दसवीं के बाद क्या विषय लें?

जवाब- 11वीं में साइंस मैथ्स लें। 12वीं के साथ या बाद में जेईई मैंस देकर इंजीनियरिंग कॉलेज चुन सकते हैं। जेईई एडवांस में पास होते हैं तो आईआईटी में चयन होता है। फिर रैंकिंग के अनुसार ट्रिपल आईटी, एनआईटी आदि के कॉलेज मिलते हैं। कुछ इंजीनियरिंग कॉलेज हैं जहां प्रवेश के लिए जेईई जरूरी नहीं है। उनमें ऑटोनॉमस परीक्षाओं के जरिए प्रवेश ले सकते हैं।


सवाल- क्रिमिनल साइकोलॉजिस्ट बनने के लिए क्या करना चाहिए?

जवाब- सभी यूनिवर्सिटी में यह विषय नहीं है। पोस्ट ग्रेजुएट स्तर पर डीयू समेत कुछ प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी में ही यह विषय उपलब्ध है। मास्टर्स करके आगे के लिए राह खुलती है। क्षेत्र में देश में ज्यादा स्कोप नहीं है। एमबीबीएस की ब्रांच जरूर है।


सवाल- बीकॉम, एलएलबी कर चुका हूं। अब सिविल सर्विस में जाना चाहता हूं?

जवाब- आपके लिए काफी अवसर हैं। एनसीईआरटी की 9वीं से 12वीं तक की किताबों से पढ़ाई शुरू करें। बेसिक्स क्लियर होने के बाद आप प्रतिष्ठित लेखकों की किताबें पढ़ें। शिक्षकों, पुराने परीक्षार्थियों, प्रशासनिक अधिकारियों से मार्गदर्शन लें। सिविल सर्विस में तीन चरण होते हैं। प्री, मेंस और इंटरव्यू। तीन चरण क्लियर होने पर रैंकिंग के अनुसार आईएएस, आईपीएस, आईआरएस आदि में क्रमवार चयन होता है।


सवाल- बेटी ने साइंस मैथ्स से 12वीं की परीक्षा दी है। उसे प्रोफेसर बनना है, क्या करें?

जवाब- बीएससी व पीजी भी मैथ्स से कराएं। ‘नेट’ देना होगी। इसमें उत्तीर्ण होने पर आरपीएससी से असिस्टेंट प्रोफेसर के लिए निकलने वाली भर्ती परीक्षाएं दें। पीएचडी के लिए एनरोल कराएं।


सवाल-आयुर्वेद से डी फार्मा कर चुका हूं। फार्मासिस्ट हूं। आरएएस बनना चाहता हूं?

जवाब- राजस्थान लोक सेवा आयोग इसके लिए भर्ती निकालता है। प्री, मेंस, इंटरव्यू होता है। प्री में दो पेपर होते हैं। पहले में सामान्य अध्ययन और दूसरा सीसेट के नाम से पेपर होता है। मेंस में चार पेपर, एक निबंध, एक भाषा का पेपर होता है। इंटरव्यू में सफल रहने के बाद टॉप रैंकिंग वालों को आरएएस मिलता है।


सवाल- एमएससी मैथ्स कर चुका हूं। कोचिंग संस्थान खोलूं या टीचर बनूं?

जवाब- दोनों विकल्प अच्छे हैं। शिक्षक बनना है तो बीएड करनी होगी। ग्रेड थर्ड से लेकर फ़र्स्ट ग्रेड तक के शिक्षक बन सकते हैं। कॉलेज में शिक्षक बनने के लिए नेट और फिर लेक्चरर भर्ती परीक्षा पास करनी होगी।


सवाल-डीजल मैकेनिक से आईटीआई किया है। नौकरी के लिए क्या करूं?

जवाब- रेलवे में ग्रुप डी में भर्ती निकली है। उसमें अप्लाई कर सकते हो। कौशल विकास योजना में आवेदन करके निशुल्क रूप से प्रशिक्षण लेकर वहां से कैंपस प्लेसमेंट में चयनित हो सकते हो।


सवाल- एसएससी के लिए तैयारी कैसे करनी है?

जवाब- एसएससी के लिए रीजनिंग, गणित, अंग्रेजी, सामान्य अध्ययन (भारत का इतिहास, राज्य व्यवस्था, अर्थशास्त्र व अन्य) विषयों की तैयारी करें। प्री और मेंस में इन्हीं विषयों से ज्यादा सवाल आते हैं।


सवाल- मेरी बेटी ने 10वीं की परीक्षा दी है। प्रशासनिक सेवाओं में भेजना है तो क्या विषय दिलाएं?

जवाब- कला संकाय प्रशासनिक सेवाओं में जाने के लिए ज्यादा उपयुक्त रहते हैं। 11वीं में इतिहास, राजनीतिक व्यवस्था, भूगोल विषय दिलाएं। कॉलेज में अर्थशास्त्र भी दिला सकते हैं। इसका फायदा प्रशासनिक भर्तियों में मिलेगा।

X
हर भर्ती को देखकर तैयारी न करें, लक्ष्य बनाकर प्रतियोगी परीक्षाओं को क्रेक करें: डॉ. सिन्हा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..