शाहपुरा

--Advertisement--

महावीर को मंदिरों से निकाल मन में बसाएं: प्रसन्न सागर

अहिंसा के पुजारी भगवान महावीर की जयंती पर गुरुवार को शाहपुरा मार्ग स्थित स्वस्तिधाम एवं खंडेलवाल दिगंबर जैन...

Dainik Bhaskar

Mar 30, 2018, 06:50 AM IST
महावीर को मंदिरों से निकाल मन में बसाएं: प्रसन्न सागर
अहिंसा के पुजारी भगवान महावीर की जयंती पर गुरुवार को शाहपुरा मार्ग स्थित स्वस्तिधाम एवं खंडेलवाल दिगंबर जैन मंदिर में विभिन्न आयोजन हुए।

स्वस्ति धाम में महावीर जयंती के साथ मुनि प्रसन्न सागर का 29वां दीक्षा दिवस मनाया गया। स्वस्तिधाम में धर्मसभा को संबोधित करते हुए प्रसन्न सागर महाराज ने कहा कि जीवन समाज व राष्ट्र में क्रांतिकारी परिजन लाना है तो महावीर को मंदिरों से निकालकर मन में बसाना होगा। जिस दिन महावीर स्वामी हमारे दिल में बस जाएंगे उस दिन हमारा दिल दरिया हो जाएगा। अभी हमारा दिल बहुत छोटा है। उसमें हम दो हमारे दो ही समा पाते हैं। लेकिन जब दायरा दिल दरिया बनेगा तो वसुदेव कुटुंबकम् की भारतीय अवधारणा जीवन और जगत में स्वत: चरितार्थ होती दिखाई देगी। 29वें दीक्षा दिवस पर उन्होंने कहा कि गुरु के उपकार अनंत हैं। दीक्षा का अर्थ है परम परमात्मा बनने का संकल्प दिवस। दीक्षा का अर्थ है इच्छा पर विजय प्राप्त करना। भगवान का पद राज्य वैभव सांसारिक विभूतियों से नहीं पाया जा सकता, वह तो केवल त्याग-तपस्या और साधना द्वारा ही संभव है। स्वस्ति भूषण माता ने भगवान महावीर के सिद्धांत जियो और जीने दो एवं अहिंसा परमो धर्म से श्रद्धालुओं को अवगत कराया। मुनि प्रसन्न सागर महाराज अपने संघ मुनि पीयूष सागर महाराज एवं स्वस्ति भूषण माताजी के साथ भगवान मुनिसुव्रत नाथ दिगंबर जैन अतिशय क्षेत्र स्वस्ति धाम में विराजमान है। महावीर जयंती महोत्सव पर भगवान मुनिसुव्रत नाथ का अभिषेक व शांतिधारा की गई। खंडेलवाल दिगंबर जैन मंदिर में महावीर जयंती पर कई धार्मिक आयोजन हुए। गाजे-बाजे के साथ भगवान महावीर के जयकारों के साथ शोभायात्रा निकाली गई।

X
महावीर को मंदिरों से निकाल मन में बसाएं: प्रसन्न सागर
Click to listen..