• Home
  • Rajasthan News
  • Shahpura News
  • प्राचीन किले के बाद अब रोडवेज बस स्टैंड का निखरा रूप
--Advertisement--

प्राचीन किले के बाद अब रोडवेज बस स्टैंड का निखरा रूप

अजीतगढ़| स्थानीय युवाओं द्वारा एक दिन गांव के लिए अभियान के नए कदम गांव एवं विरासत को साफ-सुथरा रखना हम सबका...

Danik Bhaskar | Feb 26, 2018, 07:10 AM IST
अजीतगढ़| स्थानीय युवाओं द्वारा एक दिन गांव के लिए अभियान के नए कदम गांव एवं विरासत को साफ-सुथरा रखना हम सबका दायित्व के तहत प्राचीन किले के बाद अब रोडवेज बस स्टैंड के रूप को निखार दिया है, वहीं क्षेत्र के समाजसेवियों एवं भामाशाह द्वारा विभिन्न सुविधाएं मुहैया करवा कर स्टैंड को व्यवस्थित करने में सकारात्मक कार्य किया है। जानकारी अनुसार थाना प्रभारी हिम्मत सिंह ने अजीतगढ़ यातायात व्यवस्था में सुधार करते हुए सालों से वीरान बस स्टैंड पर रोडवेज बसों के संचालन कार्य एवं विभिन्न रूटों के वाहनों के स्टैंड निर्धारित करने के बाद लोगों को सुगम यातायात मिलना शुरू हुआ। इसी दौर में अजीतगढ़ के युवाओं द्वारा प्रत्येक रविवार को सुबह 8 से 10 बजे तक दो घंटे गांव के सार्वजनिक स्थानों पर सफाई हेतु श्रमदान के तहत दो रविवार प्राचीन किले के सामने सफाई की एवं इसके बाद गत तीन रविवार अजीतगढ़ रोडवेज बस स्टैंड परिसर में सफाई कार्य करके परिसर को चमका दिया है। युवाओं ने रविवार को कस्बा निवासी युवा एवं शाहपुरा तहसीलदार सूर्यकांत शर्मा, समाजसेवी सुरेन्द्र चौधरी, अनिल मीणा, अविनाश सेठी, दुर्गा प्रसाद सोनी के नेतृत्व में बस स्टैंड परिसर में श्रमदान करने के बाद स्वयं के खर्चे पर परिसर में घने गहरे गड्ढों को ट्रैक्टर से गोवडी लगाकर ठीक किया गया। युवाओं ने बस चालकों एवं परिचालकों को निर्धारित प्लेटफॉर्म पर ही खड़ा करने के लिए चर्चा की। रविवार को श्रमदान करने में क्षेत्रीय विकास परिषद अध्यक्ष जी.एल.टेलर,रणजीत सिंह, हेमंत शर्मा, अजय सिंह बांकावत, पूरणमल प्रजापति, धनंजय सिंह, सुभाष, अक्षय कुमावत, विजय सिंह, महावीर सैनी समेत अनेक युवाओं ने भाग लिया। गत सरकार में करोड़ों की बेशकीमती भूमि रोडवेज निगम को सौंपने के बाद लाखों की लागत से रोडवेज बस स्टैंड बनाया गया लेकिन इसके बाद रोडवेज अधिकारियों एवं कर्मचारियों की अनदेखी एवं मनमानी के चलते स्टैंड वीरान पड़ा था। गत करीबन डेढ़ माह पूर्व एसएचओ हिम्मत सिंह के प्रयासों से स्टैंड से बसों का संचालन होने से रौनक लौटी। इसके बाद स्थानीय युवाओं द्वारा बस स्टैंड परिसर की सफाई करके चमका दिया। युवाओं ने समाजसेवी रतन लाल जांगिड़ से दो पानी की टंकी रखवा कर पेयजल व्यवस्था सुचारू करवाई, मजिद खान द्वारा रोडवेज स्टैंड पर प्लेटफॉर्म एवं अन्य बोर्ड लगवाएं गए। मनीषा फिलिंग स्टेशन द्वारा सीमेंट की पेयजल टंकी निर्माण शुरू करवा दिया गया।

अजीतगढ़. स्थानीय युवा एक दिन गांव के लिए अभियान में रविवार को रोडवेज बस स्टैंड परिसर में श्रमदान करते हुए युवा।