Hindi News »Rajasthan »Shahpura» राजस्थान के नारायण दास महाराज व महाराव रघुवीर सिंह को पद्मश्री

राजस्थान के नारायण दास महाराज व महाराव रघुवीर सिंह को पद्मश्री

नई दिल्ली/जयपुर | केंद्र सरकार ने गुरुवार को पद्म सम्मानों का ऐलान कर दिया। कुल 85 लोगों को यह सम्मान दिए जाएंगे। तीन...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jan 26, 2018, 07:50 AM IST

नई दिल्ली/जयपुर | केंद्र सरकार ने गुरुवार को पद्म सम्मानों का ऐलान कर दिया। कुल 85 लोगों को यह सम्मान दिए जाएंगे। तीन विभूतियों को पद्म विभूषण, नौ को पद्म भूषण व 73 को पद्मश्री मिलेगा। सूची में विदेशी व ओसीआई श्रेणी से पहली बार एक साथ 16 लोग हैं। अमूमन इनकी संख्या 6-7 से कम रहती है। राजस्थान के दो लोगों को पद्मश्री मिला है। इनमें जयपुर के शाहपुरा स्थित त्रिवेणी धाम के पीठाधीश्वर नारायण दास महाराज व सिरोही के महाराव रघुवीर सिंह हैं। नारायण दासजी को यह अवार्ड अध्यात्म और रघुवीर सिंह को साहित्य व शिक्षा के क्षेत्र में दिया जाएगा।

इलैयाराजा व परमेश्वरन को पद्म विभूषण, धोनी को पद्म भूषण | -सूची पेज 8





















2018 में इन प्रतिष्ठित पुरस्कारों के लिए 15,700 से अधिक लोगों ने आवेदन किया था। 2017 में 89 लोगों को पद्म पुरस्कार दिए गए थे, जिनमें सात-सात पुरस्कार पद्म विभूषण और पद्म भूषण के थे।

देश के पहले पैरालिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट मुरलीकांत व धोनी को भी पद्म पुरस्कार

पद्मश्री देश के पहले पैरालिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट मुरलीकांत पेटकर, प्लास्टिक रोड बनाने वाले राजगोपालन वासुदेवन, गरीबों के लिए अस्पताल बनाने वाली सुभाषिनी मिस्त्री, मिडवाइफ सुलगट्‌टी नरसम्मा, तमिल लोककला प्रदर्शक विजय लक्ष्मी और फिजिशियन यशी ढोडेन को पद्मश्री अवॉर्ड दिया जाएगा। इसके अलावा पद्मश्री के लिए केरल के मसीहा कहे जाने वाले एमआर राजगोपाल, साइंटिस्ट टॉय मेकर अरविंद गुप्ता, आयुर्वेदिक दवा के क्षेत्र में काम करने वाली लक्ष्मीकुट्‌टी, गोंड कलाकार भज्जू श्याम और स्वतंत्रता सेनानी सुधांशु बिश्वास, वी नवनीत कृष्णन को चुना गया है।









वैदिककाल से लेकर आधुनिक भारत तक का इतिहास उन्हें विभिन्न घटनाओं की तारीख व संबंधित व्यक्तियों के नाम समेत याद हैं। पूर्व नरेश देवस्थान बोर्ड सिरोही के आजीवन सदस्य भी हैं। पुरस्कार की घोषणा के बाद उन्होंने कहा कि यह पुरस्कार उन्हें इस क्षेत्र में और अधिक उर्जा के साथ कार्य करने के लिए प्रेरित करेगा।

नारायण दास जी ने संस्कृत विवि बनाकर सरकार को सौंपा।

रघुवीरसिंह इतिहास और संस्कृत के अच्छे जानकार हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shahpura

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×