• Home
  • Rajasthan News
  • Shahpura News
  • महंत निर्मल राम की भक्तों ने हथेलियां बिछाकर की अगवानी
--Advertisement--

महंत निर्मल राम की भक्तों ने हथेलियां बिछाकर की अगवानी

भास्कर संवाददाता | शाहपुरा लुलांस पंचायत के रामपुरा गांव में सोमवार को सुबह बैरवा समाज के रामदेव मंदिर में...

Danik Bhaskar | Apr 24, 2018, 06:10 AM IST
भास्कर संवाददाता | शाहपुरा

लुलांस पंचायत के रामपुरा गांव में सोमवार को सुबह बैरवा समाज के रामदेव मंदिर में मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की गई। लुलांस रामद्वारा के महंत निर्मल राम महाराज और पूर्व विधायक महावीर प्रसाद जीनगर की मौजूदगी में अनुष्ठान हुए।

श्रद्धालुओं ने हथेलियां बिछाकर महंत निर्मल राम महाराज की अगवानी की। धर्मसभा में महंत निर्मल राम ने कहा कि सत्कर्म करने व परोपकार द्वारा जीवन को सफल और सार्थक बनाएं। व्यसनों से दूर रहकर बुजुर्गों की सेवा करने का की बात कही। इससे पूर्व महंत निर्मल राम, संत राम विश्वास रामस्नेही, पूर्व विधायक महावीर प्रसाद जीनगर, इंजीनियर धर्मराज बैरवा का ग्रामीणों ने स्वागत किया। इस दौरान संत मगनीराम, युक्ति राम, उदयराम, इंजीनियर धर्मराज बैरवा, पूर्व सरपंच खाना बैरवा, लादू लाल गुर्जर, छीतर सेन, भंवर सेन, रामस्वरूप गुर्जर मौजूद थे।

रामपुरा गांव में बैरवा समाज द्वारा रामदेव मंदिर में की गई मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा, संतों ने दिया व्यसन मुक्ति का संदेश

रपट के बालाजी मंदिर में शिखर पर स्वर्ण कलश की स्थापना

भीलवाड़ा | तेजाजी चौक स्थित रपट के बालाजी मंदिर पर सात दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के आखिरी दिन सोमवार दोपहर अभिजित मुहूर्त में मंदिर में संत-महात्माओं के सानिध्य व पंडितों के मंत्रोच्चारण के बीच कनक बिहारी जी व माता अंजनी की मूर्तियों की प्राण प्रतिष्ठा हुई। यज्ञाचार्य नगर व्यास राजेंद्र व्यास ने बताया कि सुबह 11 बजे स्थापित होने वाले देवों का उत्थापन कराया गया। फिर उनमें प्राण न्यास किया गया। अभिजित मुहूर्त में शिखर पर स्वर्ण कलश की स्थापना की गई। नवनिर्मित मंदिर में कनक बिहारी जी व माता अंजनी की मूर्तियों की स्थापना की गई। प्राण-प्रतिष्ठा के बाद यज्ञशाला में मंदिर के महंत बलराम दास महाराज के सानिध्य व मुख्य यजमान महेश कुमार की मौजूदगी में यज्ञाचार्य व 11 पंडितों के वेद मंत्रों के बीच पांच दिवसीय यज्ञ की पूर्णाहुति की गई। यज्ञ मंडप की परिक्रमा करने श्रद्धालु उमड़ पड़े।