Hindi News »Rajasthan »Shahpura» चिमनपुरा बीएड कॉलेज में तीन साल से स्वीकृत 8 में से एक व्याख्याता, रेगुलर पीरियड भी नहीं

चिमनपुरा बीएड कॉलेज में तीन साल से स्वीकृत 8 में से एक व्याख्याता, रेगुलर पीरियड भी नहीं

शहर के बीबीडी कॉलेज चिमनपुरा कॉलेज के अधीनस्थ संचालित राजकीय व्याख्याता प्रशिक्षण महाविद्यालय (बीएड कॉलेज) पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 04, 2018, 06:40 AM IST

शहर के बीबीडी कॉलेज चिमनपुरा कॉलेज के अधीनस्थ संचालित राजकीय व्याख्याता प्रशिक्षण महाविद्यालय (बीएड कॉलेज) पर संकट के बादल मंडराते नजर आ रहे है। कॉलेज की संबंद्धता को लेकर गुरुवार को राजस्थान विश्वविद्यालय की टीम ने निरीक्षण किया। तीन साल पहले शुरू हुए इस बीएड कॉलेज वर्तमान में सरकार की बेरूखी के चलते महज एक व्याख्याता के भरोसे संचालित हो रहा है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि एक व्याख्याता किस प्रकार से अध्यापन करवाता होगा।

बीबीडी कॉलेज चिमनपुरा में सरकार ने वर्ष 2015 में राजकीय व्याख्याता प्रशिक्षण महाविद्यालय चालू किया था। इसमें 100 सीट निर्धारित की गई थी। शुरुआत में यहां पर 6 व्याख्याताओं का स्टाफ लगाया गया था, तब क्षेत्र के विद्यार्थियों को अपने स्वर्णिम भविष्य की उम्मीद जगी थी, थोड़े दिनों बाद ही दो व्याख्याता रिटायर्ड हो गए। हाल ही दो व्याख्याता सितम्बर 2017 एवं जनवरी 2018 में सेवानिवृत हो गए। एक कर्मचारी का अन्यत्र तबादला हो गया। इसके बाद से यहां पर केवल एक ही व्याख्याता कार्यरत है। अगर सरकार की बेरूखी की मार ऐसे ही चलती रही तो वह दिन दूर नहीं जब यह कॉलेज बीएड की संबंद्धता खो देगा। गुरुवार को राजस्थान विश्वविद्यालय से रिटायर्ड प्रो.एसडी गुप्ता के नेतृत्व में दो सदस्यीय टीम ने चिमनपुरा पहुंचकर बीएड कॉलेज की संबद्धता लेकर निरीक्षण किया। टीम ने कॉलेज में स्टाफ सहित अन्य भौतिक संसाधन व सुविधाओं का जायजा लेकर रिपोर्ट तैयार की। प्रो. गुप्ता ने बताया कि निरीक्षण रिपोर्ट गोपनीय है। कॉलेज की संबंद्धता को लेकर निरीक्षण किया गया है। पूरी रिपोर्ट तैयार कर राजस्थान विश्विवद्यालय को सौंपी जाएगी।

बीएड कॉलेज में एक विभागाध्यक्ष सहित 8 व्याख्याताओं के पद स्वीकृत है, लेकिन पूरे पद तो कॉलेज खुलने से लेकर आज तक नहीं भरे गए। जबकि एनसीईटी के नियमों के अनुसार बीएड कॉलेज में विभागाध्यक्ष सहित 16 व्याख्याता होने चाहिए। वर्तमान में तो हालात और भी ज्यादा खराब है। केवल एक व्याख्याता स्थायी रूप से काम कर रहा है। जो प्रशिक्षणार्थियों की क्लास लेने से लेकर विभागीय डाक पत्रावलियों सहित अन्य कार्य भी अकेला ही निपटा रहा है। हालांकि अन्यत्र कॉलेज से तीन शिक्षकों को 15 दिन के लिए यहां पर कार्य व्यवस्था के लिए लगा रखा है, जो भी समय अवधि पूरी होने पर चले जाएंगे। ऐसे में शिक्षक बनने की आस में यहां पर बीएड का प्रशिक्षण ले रहे प्रशिक्षणार्थियों का भविष्य भी अंधकारमय बना हुआ है।

मंत्रालयिक कर्मचारियों के पद भी खाली, व्याख्याताओं के पद खाली होने से प्रशिक्षणार्थियों की पढ़ाई हो रही बाधित, राजस्थान विवि की टीम ने लिया कॉलेज जायजा

छह की बजाय लग रहे हंै चार पीरियड

प्रशिक्षणार्थियों ने बताया कि कॉलेज में व्याख्याताओं की कमी होने के कारण महज चार पीरियड ही लगाए जा रहे है। जबकि नियमानुसार छह पीरियड लगने चाहिए। कॉलेज में 80 प्रतिशत उपस्थित अनिवार्य है और बीएड के प्रथम वर्ष में 4 सप्ताह का टीचिंग प्रशिक्षण लेना जरूरी होता है जबकि द्वितीय वर्ष में 96 दिन का टीचिंग प्रशिक्षण लेना जरूरी होता है।

नियुक्ति के लिए शिक्षा मंत्री को पत्र भेजा था

बीएड कॉलेज में वास्तव में व्याख्याताओं की कमी चल रही है। व्याख्याता व अन्य पदों को भरने के लिए उच्च शिक्षामंत्री को लिखा जा चुका है। डॉ.फूलचंद भिंडा, विधायक विराटनगर

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shahpura

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×