• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shahpura
  • अमरसर में पीर बुरहान के चिल्ले पर दो दिवसीय सालाना उर्स शुरू
--Advertisement--

अमरसर में पीर बुरहान के चिल्ले पर दो दिवसीय सालाना उर्स शुरू

अमरसर| नायन गांव में शनिवार को सांप्रदायिक सौहार्द के प्रतीक पीर के चिल्ले पर हजरत ख्वाजा बुरहान रहमतुल्लाह अलेह...

Dainik Bhaskar

May 06, 2018, 06:45 AM IST
अमरसर में पीर बुरहान के चिल्ले पर दो दिवसीय सालाना उर्स शुरू
अमरसर| नायन गांव में शनिवार को सांप्रदायिक सौहार्द के प्रतीक पीर के चिल्ले पर हजरत ख्वाजा बुरहान रहमतुल्लाह अलेह का सालाना दो दिवसीय उर्स शुरु हुआ। इस दौरान आसपास अमरसर, हनुतपुरा, धानोता, मनोहरपुर, शाहपुरा सहित दूरदराज से आये जायरीन ने आपसी भाईचारे व अमन चैन की दुआएं की।

मुस्लिम कमेटी सदर हैदर अली पठान खादिम इमरान मलिक ने बताया कि ख्वाजा बुरहान रहमतुल्लाह अलेह का चिल्ला मुबारक उर्स मुबारक के दौरान शनिवार शाम चार बजे लंगर , मिलाद शरीफ , नमाजे मगरीफ , कार्यक्रम आयोजित किया गया। शनिवार दोपहर प्रधान नंदलाल गोठवाल, पसस अशोक कलवानिया , भैरुराम गठाला , पंकज शर्मा सहित कई लोगों ने चिल्ले पर पहुंचकर उर्स मे शिरकत कर अमन चैन की दुआएं की।

इस दौरान याकूब अली, बूंदु खान, अकबर अली, पप्पू कुरैशी, मुश्ताक मणियार, मजीद मौलाना सहित कई लोगों ने जायरीन की खिदमत की। खादिम इमरान मलिक ने बताया कि सूफी संत हजरत ख्वाजा बुरहान साहब नायन गांव में छ सौ साल पहले आकर रुके थे जिनके आशीर्वाद से राव मोकल जी के शेखावत वंश के पितृपुरुष महाराव शेखाजी का जन्म हुआ था जिसके चलते यह स्थान पीर के चिल्ले के नाम से विख्यात है तथा सांप्रदायिक सौहार्द का प्रतीक है जहां सभी धर्मों के लोग मनौती मांगने आते है।

अमरसर. नायन गांव में पीर हजरत ख्वाजा बुरहानुद्दीन के चिल्ले पर अमन चैन की दुआए करते।

X
अमरसर में पीर बुरहान के चिल्ले पर दो दिवसीय सालाना उर्स शुरू
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..