--Advertisement--

कहां है पुलिस?

कलेक्ट्रेट के बाहर और पुलिस चौकी के पास एक के बाद एक दो जानलेवा हमले पुलिस पहुंची तब तक आरोपी फरार बाड़मेर| बाड़मेर...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:35 AM IST
कलेक्ट्रेट के बाहर और पुलिस चौकी के पास एक के बाद एक दो जानलेवा हमले पुलिस पहुंची तब तक आरोपी फरार

बाड़मेर| बाड़मेर में बेखौफ होते अपराध ने आमजन को चिंता में डाल दिया है। अब सरेआम अपराधी घटनाओं को अंजाम देकर फरार हो जाते है और पुलिस देखती रह गई। मंगलवार को कलेक्ट्रेट गेट के बाहर पुराने विवाद को लेकर दो गुटों में संघर्ष हुआ, जिसमें एक गुट के गंभीर चोट लगने पर अस्पताल में भर्ती करवाया। हैरानी की बात यह है कि भर्ती घायल के लिए मेडिकल की दुकान से दवाई ले रहे एक अधेड़ को पकड़ लोहे की राड से दोनों पैरों पर हमला किया और घायल कर दिया। यह घटना जिला अस्पताल के बाहर मेडिकल स्टोर पर हुई है, जो भीड़-भाड़ वाला इलाका है। बदमाश हमला करने के बाद फरार हो गए, लेकिन उन्हें कोई पकड़ नहीं पाया। एकाएक हुई इस वारदात के बाद आसपास के लोग स्तब्ध रह गए। जबकि घटनास्थल से महज 100 मीटर की दूरी पर पुलिस चौकी है। कोतवाली एएसआई राणाराम ने बताया कि कलेक्ट्रेट के बाहर दो गुट पुराने विवाद को लेकर भिड़ गए। इसमें एक घायल हुआ है, जिसका जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। भाखरसिंह ने रिपोर्ट देकर बताया कि दोपहर ढाई बजे कलेक्ट्रेट केंटीन में चाय पी रहे थे। इस दौरान सज्जनसिंह, शैतानसिंह, रतनसिंह, लालाराम व निंबसिंह वगैरह ने जानलेवा हमला कर मारपीट की। इसी तरह दूसरे गुट में सज्जनसिंह, लालाराम, जोगसिंह वगैरह खड़े थे, जिस पर भाखरसिंह वगैरह ने हमला किया। इसमें जोगसिंह को गंभीर चोट आई जिसे अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। हमले में घायल व्यक्ति की मदद करना उस समय महंगा पड़ गया, जब विरोधी गुट ने मदद करने वाले व्यक्ति को ही पकड़ उस पर जानलेवा हमला किया और उसके दोनों पैरों को तोड़ दिया। दरअसल लालाराम उर्फ लालचंद पुत्र प्रहलादराम पेशी पर कोर्ट आया था। चाय पीने के लिए वकील सज्जनसिंह के साथ पंचायत समिति केंटीन में गए थे।

कलेक्ट्रेट के बाहर जानलेवा हमला, फिर अस्पताल में भर्ती घायल की दवाई लाने गए अधेड़ पर हमला, दोनों पैर तोड़े