--Advertisement--

आज से हमेशा के लिए बंद होगा आजाद सिनेमा रेलवे फाटक

भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर आजाद सिनेमा रेलवे फाटक रविवार से हमेशा के लिए बंद हो जाएगा। जिला प्रशासन ने इसके...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 06:35 AM IST
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

आजाद सिनेमा रेलवे फाटक रविवार से हमेशा के लिए बंद हो जाएगा। जिला प्रशासन ने इसके लिए पूर्व में ही अनुमति जारी कर दी थी। रेलवे ने इसके लिए सभी प्रकार की तैयारियां पूरी कर ली हैं। रेलवे सुबह करीब 10 बजे यह फाटक बंद करने की कार्रवाई करेगा। शनिवार को श्रीगंगानगर रेलवे स्टेशन का औचक निरीक्षण करने आए बीकानेर रेल मंडल के सीनियर डीसीएम ने कहा कि आजाद सिनेमा रेलवे फाटक को अब खुला रखने का सवाल ही नहीं उठता। फाटक बंद होने से रेलवे के साथ ही क्षेत्र के लोगों को भी लाभ मिलेगा। कारण कि फाटक बंद होने से यहां लगाए स्टाफ का उपयोग अन्यत्र किया जा सकेगा। वहीं, तीनों प्लेटफार्म का विस्तार इस फाटक तक हो सकेगा। इससे अन्य ट्रेनों के श्रीगंगानगर आने की संभावनाएं और बढ़ जाएंगी। आजाद टाकीज फाटक के पास ही एक और प्रवेश द्वार बनाया जाएगा। इससे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों काे भीड़ की समस्या से निजात मिलेगी। सीनियर डीसीएम ने निरीक्षण के दौरान सफाई व्यवस्था की तारीफ की। वहीं, रनिंग रूम, गार्ड रूम व वेटिंग रूम में और सुधार की आवश्यकता बताई। निरीक्षण के दौरान स्टेशन अधीक्षक डीके त्यागी सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

तैयारी...बीकानेर से आया रेलवे पुलिस बल, दुकानदारों की बैठक, डीसीएम से मिले पार्षद

रेलवे फाटक बंद होने से संभावित विरोध को देखते हुए रेलवे ने शनिवार ही बीकानेर से रेलवे पुलिस जाब्ता बुला लिया। रेलवे रोड पर शनिवार शाम जैसे ही दुकानदार इकट्ठे हुए तब एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि फाटक बंद होने के दौरान स्थिति बिगड़ सकती है। इसके लिए जरूरत पड़ी तो स्थानीय पुलिस प्रशासन का सहयोग लिया जाएगा। वहीं, दुकानदारों का कहना है कि फाटक बंद होने से वे बेरोजगार हो जाएंगे। फाटक बंद करने का हरसंभव विरोध करेंगे। इससे पूर्व वार्ड 40 के पार्षद संदीप शर्मा ने दोपहर स्टेशन पर सीनियर डीसीएम से मुलाकात कर व्यापारियों की परेशानी बताई। इस पर सीनियर डीसीएम सीआर कुमावत ने कहा कि प्रशासन ने अनुमति दे दी है।

दुकानदार हुए निराश

रेलवे रोड पर बीते कई वर्षों से दुकानें कर रहे दुकानदारों का कहना है कि फाटक बंद होने से वे बेरोजगार हो जाएंगे। वहीं, शहर से अबोहर रोड पर जाने के लिए समय की बर्बादी होगी। रात के समय अंडरब्रिज या ओवरब्रिज से आना खतरा भरा है।

काम में जुटा रेलवे

2019 तक ऐसे सभी रेलवे फाटक बंद हो जाएंगे। फाटक खुले तब भी विरोध होता है और बंद करें तब भी विरोध होता है। मना करने के बाद भी फाटक बंद होने पर लोग फाटक के नीचे से निकलते हैं। क्या जान जोखिम में डालना सही है।

श्रीगंगानगर. रेलवे स्टेशन पर निरीक्षण करने पहुंचे रेलवे अधिकारी।

फाटक बंद होने पर अब यह रहेगा आवागमन का विकल्प

रेलवे फाटक बंद होने के बाद अब पुलिस लाइन, करणी मार्ग व पंजाब की ओर से आने-जाने के लिए लोगों को पुरानी शुगर मिल के पास बने आरयूबी व करणी मार्ग पर बने आरओबी से होकर निकलना पड़ेगा।