Hindi News »Rajasthan »Shriganganagar» कबूतरों से संदेश भेजने वाला अकेला राज्य ओडिशा; ये प्रैक्टिस डिजास्टर मैनेजमेंट का हिस्सा, इस बार भी पास

कबूतरों से संदेश भेजने वाला अकेला राज्य ओडिशा; ये प्रैक्टिस डिजास्टर मैनेजमेंट का हिस्सा, इस बार भी पास

भुवनेश्वर| सोशल मीडिया के जमाने में भी ओडिशा पुलिस कबूतर के जरिए संदेश भेजने के पुराने तरीके को जिंदा रखे हुए...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 04:55 AM IST

कबूतरों से संदेश भेजने वाला अकेला राज्य ओडिशा; ये प्रैक्टिस डिजास्टर मैनेजमेंट का हिस्सा, इस बार भी पास

भुवनेश्वर| सोशल मीडिया के जमाने में भी ओडिशा पुलिस कबूतर के जरिए संदेश भेजने के पुराने तरीके को जिंदा रखे हुए है। उनके पास 50 कबूतरों का एक झुंड है, जो खास तौर पर एक जगह से दूसरी जगह संदेश ले जाने के लिए प्रशिक्षित है। ओडिशा पुलिस रोज तो इन कबूतरों का इस्तेमाल नहीं करती, लेकिन इन्हें इस तरह से तैयार जरूर रखती है कि जरूरत पड़ने पर काम लिया जा सके। इन 50 कबूतरों का हालिया ट्रायल सफल रहा है। पुलिस ने कबूतरों के जरिए भुवनेश्वर के ओयूएटी ग्राउंड से कटक तक संदेश भेजा। कबूतरों ने सफलतापूर्वक तय जगह पर संदेश पहुंचा दिया। कबूतरों को इंडियन नेशनल ट्रस्ट फॉर आर्ट एंड कल्चर हेरिटेज (इनटेक) की मदद से प्रशिक्षण दिया जाता है। कबूतरों को जब उड़ाया गया तो स्कूली बच्चों को भी बुलाया गया, ताकि वो इस तरीके को देख सकें।

इस प्रैक्टिस का उद्देश्य है- डिजास्टर मैनेजमेंट। इनटेक के स्टेट कन्वेनर एबी त्रिपाठी बताते हैं कि- “ओडिशा पुलिस ने ये अभ्यास 1946 में शुरू किया था। उस वक्त हमने 200 कबूतरों के जरिए कम्युनिकेशन शुरू किया था। अब पुलिस के पास उतने कबूतर तो नहीं हैं, ना ही उतने कबूतरों की जरूरत है।

50 कबूतरों से ओडिशा पुलिस ने कटक संदेश भिजवाया, 72 साल से चल रही है प्रैक्टिस

75 किमी तक की रफ्तार से उड़ सकते हैं कबूतर

एबी त्रिपाठी बताते हैं कि ओडिशा के कई क्षेत्र अभी भी मेनस्ट्रीम कम्युनिकेशन से दूर हैं। यहां जितनी देर में पुलिस पहुंच पाएगी, उससे कम समय में कबूतर उड़कर पहुंच सकते हैं। कबूतर 75 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकते हैं। रोड नेटवर्क से कटे क्षेत्रों में ये तरीका कारगर है। कबूतर की उम्र करीब 20 साल तक होती है। जिस कबूतर को एक बार प्रशिक्षित कर दिया, वो लंबे समय तक काम दे सकता है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Shriganganagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×