श्रीगंगानगर

--Advertisement--

‘बिग बॉस-12’ के ऑडिशन हुए शुरू

Áसलमान खान के रियलिटी शो बिग बॉस के 12वें सीजन के लिए ऑडिशन शुरू हो चुके हैं आैर इस बार के ऑडिशन में ट्विस्ट रखा गया...

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 06:10 AM IST
Áसलमान खान के रियलिटी शो बिग बॉस के 12वें सीजन के लिए ऑडिशन शुरू हो चुके हैं आैर इस बार के ऑडिशन में ट्विस्ट रखा गया है। चैनल ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक ट्वीट करते हुए बताया है कि इस बार शो में कंटेस्टेंट्स जोड़ियों के रूप में होंगे। ‘बिग बॉस के घर में डबल धमाल मचाने के लिए अपने पार्टनर के साथ ऑडिशन के लिए आएं।’

यह शो हमेशा की तरह इस बार भी अक्टूबर में शुरू होगा। सलमान खान इस बार होस्ट होंगे या नहीं यह अभी तय नहीं है।

from the sets of M VIE

Áहाल ही में आलिया भट्‌ट आैर रणवीर सिंह ने अपनी अपकमिंग फिल्म ‘गली बॉय’ का एक सीक्वेंस रेलवे स्टेशन पर शूट किया था। इस शूट की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं। आलिया प्लेटफॉर्म पर बैठीं ट्रेन का इंतजार कर रही हैं आैर रणवीर ब्रिज के ऊपर खड़े उन्हें देख रहे हैं।

Áनसीरुद्दीन शाह की अगली फिल्म ‘होप आैर हम’ का पोस्टर लॉन्च कर दिया गया है। यह फिल्म 11 मई को रिलीज होगी। बताया जा रहा है कि इस फिल्म की कहानी आम आदमी की जिंदगी पर आधारित होगी। इसका निर्देशन सुदीप बंद्योपाध्याय ने किया है, कहानी भी उन्होंने ही लिखी है।

पोस्टर आउट

‘मंटो मेरे लिए फिल्म नहीं जिंदगी है’

कान फिल्म फेस्टिवल में नवाजुद्दीन की फिल्म ‘मंटो’ को ‘अनसर्टेन रिगार्ड’ कैटेगरी में नॉमिनेट किया गया है। नवाज से हुई बातचीत

चर्चा है...

Áतैमूर के जन्म के बाद करीना कपूर खान की कमबैक फिल्म ‘वीरे दी वेडिंग’ हैै, जो कि जून में रिलीज हो रही है। इसी के साथ बेबो ने अन्य प्रोजेक्ट्स पर भी काम शुरू कर दिया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक हाल ही में करीना को सलमान खान की अगली फिल्म ‘भारत’ के लिए भी अप्रोच किया गया है। सूत्रों की मानें तो उन्होंने भी इस प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है हालांकि ऑफिशियल कन्फर्मेशन आना अभी बाकी है। इससे पहले प्रियंका चोपड़ा, श्रद्धा कपूर और कटरीना कैफ का नाम भी इस फिल्म के लिए सामने आ चुका है।

इस फिल्म का निर्देशन अली अब्बास करने वाले हैं जो सलमान के साथ ‘सुल्तान’ और ‘टाइगर जिंदा है’ जैसी फिल्में बना चुके हैं। ‘भारत’ कोरियन फिल्म ‘एन ऑड टू माय फादर’ का हिंदी रीमेक है। एक इंटरव्यू में अली अब्बास जफर ने बताया कि..., ‘इस फिल्म में भारत का 70 साल का इतिहास दिखाया जाएगा। यह एक इंसान की कहानी होगी, जो पहले और अब के भारत का गवाह बना होगा।’ इन दिनों फिल्म का प्री-प्रोडक्शन जारी है।

नवाजुद्दीन सिद्दीकी बोले...

दैिनक भास्कर, श्रीगंगानगर, मंगलवार 17 अप्रैल, 2018

‘मे रे लिए यह खुशी की बात है कि मैं इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में अपने देश को रीप्रेजेंेट कर रहा हूं और एक बार नहीं लागातार कर रहा हूं। भारतीय सिनेमा के लिहाज से देखें, तो कान फिल्म फेस्टिवल में चुने जाने का फायदा यह होता है कि बाकी देश के लोगों को भी पता चलता है कि भारत में अच्छा सिनेमा बन रहा है। वरना, तो वे हमारे सिनेमा को बहुत कमतर समझते हैं। इस तरह जब हमारी फिल्में इंटरनेशनल फेस्ट में जाती हैं, तो उन्हें लगता है कि भारत में भी अच्छा काम हो रहा है।

नवाज इस फिल्म में उर्दू लेखक ‘मंटो’ के किरदार में दिखाई देंगे। इस किरदार की तैयारी के बारे में नवाज बोले... ‘मंटो जैसा दिखना-चलना, यह सब तो बहुत आसान था। मेरे हिसाब से मंटो जैसा दिखने में मेरा बड़ा योगदान नहीं है, इसका श्रेय मेकअप मैन को जाता है। उनकी चाल ढाल, बैठने का तरीका, वह सब तो कोई भी कर लेगा। मेरे हिसाब से जो मुश्किल काम होता है, वह है उनकी सोच को समझना और परदे पर उतार पाना।

मेरे लिए दिक्कत यह थी कि उनकी आत्मा को कैसे आत्मसात किया जाए? मैं कुछ ऐसा करना चाहता था कि डायलॉग बोलूं तो लगे कि मंटो बोल रहे हैं। मंटो को हमने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के दौरान पढ़ा था। उनकी कहानियों पर नाटक किए थे, लेकिन वह कैसे थे? उनकी सोच कैसी थी? यह फिल्म के दौरान मैनें जाना।

सबसे चुनौतीपूर्ण किरदार कौन सा रहा? यह पूछे जाने पर...

किसी और की जिंदगी में ढलना चुनौतीपूर्ण ही होता है, क्योंकि आप वो रियल में नहीं होते हैं सिर्फ बनने की कोशिश करते हैं। अब न तो मैं मंटो हूं, न बाला साहेब ठाकरे। ऐसे में, जब मैं मंटो, ठाकरे या मांझी बनने की कोशिश करूंगा, तो चुनौती होगी ही होगी। हीरो बनने में चुनौती नहीं होती है, वो तो हम साठ साल से एक ही तरह का देखते आ रहे हैं। चुनौती तब होती है, जब आप किसी और के किरदार में ढलने की कोशिश करते हैं। उस दूसरे इंसान को क्रिएट करना चुनौती होती है। मेरे लिए सभी किरदार चुनौतीपूर्ण हैं।

जब नवाज से पूछा गया कि इस तरह के फेस्टिवल में हमारी गिनती की ही फिल्में क्यों पहुंंच पाती हैं तो बोले...,

 इंटरनेशनल लेवल पर फिल्म पहुंचाने के लिए ईमानदारी की जरूरत होती है। ऐसे फेस्ट में वे ही फिल्में सराही जाती हैं, जो बहुत ईमानदारी से बनाई गई होती हैं। जिनका क्राफ्ट बहुत अच्छा होता है उन्हीं फिल्मों की तारीफ होती है। आप इधर-उधर से कॉपी करके फिल्में भेजेंगे, तो बात नहीं बनेगी।’

‘भारत’ में सलमान के अपोजिट करीना आ सकती हैं नजर

अब मुझे लगता है कि मंटो हर सच्चे आदमी में होता है। मंटो का रोल निभाकर लगा कि भले ही मैं एक किरदार के जरिए बोल रहा हूं, लेकिन मैं अपनी जिंदगी का सच बोल रहा हूं। मंटो मेरे लिए केवल एक फिल्म नहीं है, मंटो मेरे लिए जिंदगी है।

‘मे रे लिए यह खुशी की बात है कि मैं इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में अपने देश को रीप्रेजेंेट कर रहा हूं और एक बार नहीं लागातार कर रहा हूं। भारतीय सिनेमा के लिहाज से देखें, तो कान फिल्म फेस्टिवल में चुने जाने का फायदा यह होता है कि बाकी देश के लोगों को भी पता चलता है कि भारत में अच्छा सिनेमा बन रहा है। वरना, तो वे हमारे सिनेमा को बहुत कमतर समझते हैं। इस तरह जब हमारी फिल्में इंटरनेशनल फेस्ट में जाती हैं, तो उन्हें लगता है कि भारत में भी अच्छा काम हो रहा है।

नवाज इस फिल्म में उर्दू लेखक ‘मंटो’ के किरदार में दिखाई देंगे। इस किरदार की तैयारी के बारे में नवाज बोले... ‘मंटो जैसा दिखना-चलना, यह सब तो बहुत आसान था। मेरे हिसाब से मंटो जैसा दिखने में मेरा बड़ा योगदान नहीं है, इसका श्रेय मेकअप मैन को जाता है। उनकी चाल ढाल, बैठने का तरीका, वह सब तो कोई भी कर लेगा। मेरे हिसाब से जो मुश्किल काम होता है, वह है उनकी सोच को समझना और परदे पर उतार पाना।

मेरे लिए दिक्कत यह थी कि उनकी आत्मा को कैसे आत्मसात किया जाए? मैं कुछ ऐसा करना चाहता था कि डायलॉग बोलूं तो लगे कि मंटो बोल रहे हैं। मंटो को हमने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के दौरान पढ़ा था। उनकी कहानियों पर नाटक किए थे, लेकिन वह कैसे थे? उनकी सोच कैसी थी? यह फिल्म के दौरान मैनें जाना।

सबसे चुनौतीपूर्ण किरदार कौन सा रहा? यह पूछे जाने पर...

किसी और की जिंदगी में ढलना चुनौतीपूर्ण ही होता है, क्योंकि आप वो रियल में नहीं होते हैं सिर्फ बनने की कोशिश करते हैं। अब न तो मैं मंटो हूं, न बाला साहेब ठाकरे। ऐसे में, जब मैं मंटो, ठाकरे या मांझी बनने की कोशिश करूंगा, तो चुनौती होगी ही होगी। हीरो बनने में चुनौती नहीं होती है, वो तो हम साठ साल से एक ही तरह का देखते आ रहे हैं। चुनौती तब होती है, जब आप किसी और के किरदार में ढलने की कोशिश करते हैं। उस दूसरे इंसान को क्रिएट करना चुनौती होती है। मेरे लिए सभी किरदार चुनौतीपूर्ण हैं।

मई में शुरू होगी ‘दबंग 3’ की शूटिंग!

सलमान खान कि ‘दबंग 3’ की शूटिंग मई में शुरू हो जाएगी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सलमान खान ने अरबाज खान और टीम से कहा है कि वे शूटिंग की तैयारियां शुरू कर दें। अरबाज खान ने फिल्म की स्क्रिप्ट और कास्टिंग पहले से ही लॉक कर रखी है और प्री प्रोडक्शन का काम भी पूरा हो चुका है। वे सिर्फ सलमान के हां कहने का इंतजार कर रहे थे। अब जैसे ही सलमान ने शूटिंग करने के लिए हामी भरी है। पूरी टीम ने नॉन स्टॉप काम करना शुरू कर दिया है। सूत्रों के मुताबिक... ‘फिल्म की शूटिंग मुंबई के पास स्थित ‘वाई’ नामक जगह पर की जाएगी, जहां इन दिनों अक्षय कुमार की फिल्म ‘केसरी’ का शूट चल रहा है। सबसे पहले इस फिल्म के गाने शूट किए जाएंगे।

सुना अापने?

सोनम के घर शुरू हुईं संगीत की तैयारियां

फराह खान कर रही हैं सोनम के संगीत की कोरियोग्राफी...

Áसोनम कपूर जल्द ही आनंद आहूजा (बिजनेसमैन) के साथ शादी करने वाली हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक इन दिनों अनिल कपूर के जुहू स्थित घर पर शादी की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। बताया जा रहा है कि शादी की संगीत पार्टी में होने वाली कोरियोग्राफी का जिम्मा फराह खान के पास है। पूरे संगीत का लाइन अप और कौन से गाने पर कौन परफॉर्म करेगा, यह सब प्लानिंग फराह ही कर रही हैं।

संगीत में अनिल कपूर अपनी प|ी सुनीता कपूर के साथ परफॉर्म करने वाले हैं। दोनों इन दिनों रिहर्सल कर रहे हैं। इनके अलावा अर्जुन कपूर, संजय कपूर और करण जौहर के साथ-साथ सोनम के करीबी दोस्त भी परफॉर्म करने वाले हैं। सभी सोनम के हिट गानों पर डांस करेंगे। इन गानों में ‘खूबसूरत’ फिल्म का गाना ‘अभी तो पार्टी शुरू हुई है’, ‘प्रेम रतन धन पायो’ का टाइटल ट्रैक और सोनम-ऋतिक पर फिल्माए गए एलबम का गाना ‘धीरे-धीरे’ टॉप लिस्ट पर हैं।़

8

Click to listen..