• Hindi News
  • Rajasthan
  • Shriganganagar
  • Sriganganagar News rajasthan news 18 medical devices in the district hospital the chief minister said after seeing the report in vc if the situation is bad then how will the work go

जिला अस्पताल में 18 मेडिकल उपकरण नाकारा, वीसी में रिपोर्ट देख मुख्यमंत्री बोले: हालात ऐसे खराब हैं तो काम कैसे चलेगा

Shriganganagar News - लोगों को राजधानी जयपुर तक न आना पड़े, हर किसी को निशुल्क उपलब्ध करवाई जाएं दवाएं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने...

Feb 15, 2020, 11:35 AM IST
Sriganganagar News - rajasthan news 18 medical devices in the district hospital the chief minister said after seeing the report in vc if the situation is bad then how will the work go

लोगों को राजधानी जयपुर तक न आना पड़े, हर किसी को निशुल्क उपलब्ध करवाई जाएं दवाएं

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वीसी में कहा कि आमजन से जुड़े छोटे-छोटे कामों के लिए लोगों का राजधानी तक आना गंभीर बात है। ऐसे मामलों में जिन अधिकारियों-कर्मचारियों की लापरवाही सामने आती है, उनकी जिम्मेदारी तय की जाए। उन्होंने कहा कि सुशासन ही सरकार का मुख्य उद्देश्य है। जिला कलेक्टर इसकी महत्वपूर्ण कड़ी हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री निशुल्क दवा योजना में दवाओं की उपलब्धता, अस्पतालों में चिकित्सा उपकरणों की स्थिति, टीकाकरण, सिलिकोसिस एवं अनुसूचित जाति एवं जनजाति अत्याचार के प्रकरणों में सहायता, मुख्यमंत्री जनसुनवाई एवं संपर्क पोर्टल पर दर्ज प्रकरणों की स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि मुख्यमंत्री कार्यालय से प्राप्त पत्रों को कलेक्टर स्वयं देखें। उन्होंने कहा कि संपर्क पोर्टल तथा मुख्यमंत्री जनसुनवाई के प्रकरणों की जिला कलेक्टर साप्ताहिक समीक्षा करें। संभागीय आयुक्त हर 15 दिन में रिव्यू करें। निशुल्क दवाएं हर किसी को उपलब्ध करवाने, कलेक्टर्स को जिला स्वास्थ्य समिति की बैठकें नियमित करने व उपखंड स्तर पर सिलिकोसिस से गंभीर बीमारी के पीड़ितों मरीजों को चिन्हित करने के निर्देश दिए। वीसी में जिला कलेक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते, एडीएम सतर्कता अरविंद जाखड़, एडीएम प्रशासन डॉ. गुंजन सोनी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

श्रीगंगानगर| मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की शुक्रवार को राज्य के कलेक्टराें के साथ हुई वीडियो काॅन्फ्रेंसिंग में श्रीगंगानगर जिले के दो प्रकरणों पर चर्चा हुई। इसमें जिला अस्पताल में नाकारा उपकरणों पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री को बताया कि अस्पताल में 18 उपकरण नाकारा पड़े हैं। इस पर मुख्यमंत्री ने हैरानी जताते हुए कहा कि बड़ी संख्या में उपकरण नाकारा होना खराब हालातों का दर्शाता है। ऐसे में काम कैसे चलेगा।

जिले के गांव 20 एलएम लूणिया में छात्रा गगनदीप की सड़क दुर्घटना में मौत के बाद विद्यार्थी सुरक्षा बीमा योजना के तहत बीमा राशि के भुगतान में विलंब होने पर भी चर्चा की। मुख्यमंत्री कार्यालय को छात्रा के परिजनों द्वारा की गई शिकायत में सामने आया कि प्रिंसिपल हरलाल सहारण की ओर से कार्रवाई में विलंब होने से छात्रा के परिवार को बीमा राशि का भुगतान समय पर नहीं हो सका। कलेक्टर ने शिवप्रसाद मदन नकाते ने मुख्यमंत्री काे बताया कि दिसंबर 2016 में दुर्घटना के बाद सूचना मिलने पर कलेक्ट्रेट की ओर से परिजनों को मुख्यमंत्री राहत कोष से 50 हजार रुपए दे दिए थे। प्रिंसिपल की ओर से बीमा के लिए प्रकरण पहले जीवन बीमा विभाग को भेजने की बजाय कलेक्ट्रेट को भेज दिया। दूसरी बार जीवन बीमा विभाग को प्रकरण भेजा तो फाइल के दस्तावेजों में शिक्षा अधिकारी के काउंटर हस्ताक्षर नहीं करवाए। छात्रा की फोटो व मृत्यु प्रमाण-पत्र भी नहीं लगाया। इससे प्रकरण लंबित रहा। इसमें देरी होने पर प्रिंसिपल हरलाल को कारण बताओ नोटिस जारी हो चुका है। अब चार्जशीट भी दी जाएगी। छात्रा के परिजनों के खाते में 1 लाख रुपए बीमा राशि शुक्रवार को ही जमा हुई है। जिला अस्पताल में 7 में से 5 लेप्रोस्कोप, 19 में से 7 रेडिएंट वार्मर व 10 में से 6 माइक्रोस्कोप खराब पड़े हैं। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि अस्पतालों में मेडिकल उपकरण आवश्यक रूप से उपलब्ध होने चाहिए। कोई उपकरण खराब होता है तो उसकी समय पर मेंटीनेंस होनी चाहिए। खराब उपकरणों को निर्धारित प्रक्रिया के तहत 31 मार्च तक नाकारा घोषित करने की प्रक्रिया पूरी कर लेनी चाहिए।

X
Sriganganagar News - rajasthan news 18 medical devices in the district hospital the chief minister said after seeing the report in vc if the situation is bad then how will the work go
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना