7 रोटी की भूख होती थी, मालकिन 5 ही देती थी, इसलिए मैंने चाकू से गला रेतकर उसे मार डाला

Shriganganagar News - स्टोर क्रशर संचालक दीपांशु सिक्का उर्फ मोंटी की 26 वर्षीय प|ी रोजी के मर्डर को पुलिस ने 24 घंटे में सुलझाने का दावा...

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 08:56 AM IST
Khata News - rajasthan news 7 the bread was hungry the mistress gave only 5 so i sneaked a knife and killed her
स्टोर क्रशर संचालक दीपांशु सिक्का उर्फ मोंटी की 26 वर्षीय प|ी रोजी के मर्डर को पुलिस ने 24 घंटे में सुलझाने का दावा किया है। पुलिस के मुताबिक हत्यारा सिक्का परिवार का नौकर राजेश पासवान उर्फ विलट है।

डीएसपी प्रदीप राणा ने बताया कि सीआईए टू की कई घंटे की पूछताछ में आरोपी ने कबूला कि मालकिन भरपेट खाना नहीं देती थी। गुरुवार दोपहर को 1 बजे भूख लगी थी लेकिन रोजी ने खाना देने से मना कर दिया। इसी वजह से रसोई से चाकू उठाकर रोजी की गर्दन पर पर प्रहार किया। सीआईए टू इंचार्ज श्रीभगवान यादव ने बताया कि आरोपी ने अपना असली नाम विलट किसी को नहीं बताया था। पुलिस उसे साइको केस भी मान रही है। शनिवार को आरोपी को कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड पर लेगी। रोजी के शव का जगाधरी सिविल अस्पताल में डॉ. हरसिमरन सिंह, डॉ. रितेश कुमार और नुपूर बहगल के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। शव का दो बजे संस्कार हुआ।

पिता की मौत के बाद मुझे अपने हिस्से में से एक रोटी कुत्ते को डालनी पड़ती थी

मालिक (दीपांशु) की शादी से पहले मैं ही खाना बनाता था। तब जो चाहे खाता था। पिछले साल मालिक की शादी के बाद मालकिन ने मुझसे खाना बनवाना बंद कर दिया। साफ-सफाई और कपड़े धोने का काम कराया जाता था। मुझे 7-8 रोटी की भूख लगती थी, लेकिन मालकिन 5 रोटी से ज्यादा नहीं देती थी। मैंने कई बार उनसे कहा भी कि मेरी भूख नहीं मिटती। हालांकि मालिक को कभी यह बात नहीं बताई। मार्च में मेरे पिता का देहांत हो गया। मैं घर बिहार गया था। वहां से आया तो अपने हिस्से से एक रोटी कुत्ते को भी देनी होती थी। गुरुवार सुबह मैंने काम किया और 10 बजे नाश्ता किया। सुबह 11.30 बजे मालिक दीपांशु और राजेंद्र सिक्का काम पर चले गए। काम से फ्री होकर करीब डेढ़ बजे कोठी में गया और खाना मांगा। मालकिन ने कहा कि दीपांशू के आने पर ही खाना बनेगा। मुझे इतना गुस्सा आया कि किचन से चाकू उठाया। मालकिन बेड पर बैठकर गेम खेल रहीं थीं। मैंने दाई बाजू से गर्दन को जकड़ा और बाएं हाथ में लिए चाकू से गला रेत दिया। मालकिन ने मेरे हाथ को दांत से काटा लेकिन मैंने छुड़ा लिया। उन्होंने चाकू से बचने की कोशिश में संघर्ष किया। पांच मिनट तक गर्दन पर चाकू चलाता रहा। फिर चाकू को किचन में धोकर वहीं छिपाया और अपने कमरे पर जाने लगा। गेट नहीं खुला तो छोटे गेट से कूदकर बाहर गया। वहां पर जाकर खून से सने कपड़ों को धोया। करीब पौने दो बजे मालिक के मोबाइल फोन कर कहानी बनाई कि मालकिन गेट नहीं खोल रहीं। मैं डर गया था लेकिन पता था कि कहीं भागा तो कहीं न कहीं से पकड़ा जाऊंगा। यदि घर पर ही रहूंगा तो शायद कोई शक नहीं करेगा, यही सोचकर भागा नहीं। जब पिता की मौत पर मैं घर गया था तो मालिक को फोन कर 30 हजार रुपए खाते में डलवाने को कहा था लेकिन उन्होंने मना कर दिया था।

-पुलिस के मुताबिक जैसा आरोपी नौकर राजेश ने कबूला

घर में विलाप करने वालों को पानी पिलाता रहा हत्यारोपी नौकर

X
Khata News - rajasthan news 7 the bread was hungry the mistress gave only 5 so i sneaked a knife and killed her
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना