गुस्सा इतना कि 24 साल में 24 ही मुकदमे, समझाया तो राजीनामा

Shriganganagar News - भास्कर संवाददाता| श्रीविजयनगर मुंसिफ कोर्ट में शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में एक राजीनामा होने से दो...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 11:35 AM IST
Vijay nagar News - rajasthan news aggrieved so that in 24 years 24 cases were settled then resigned
भास्कर संवाददाता| श्रीविजयनगर

मुंसिफ कोर्ट में शनिवार को आयोजित राष्ट्रीय लोक अदालत में एक राजीनामा होने से दो परिवारों के 20 से अधिक लोगों के बीच 24 साल से चल रहे 24 मुकदमों को निस्तारण का मार्ग प्रशस्त हाे गया है। धर्मपाल सुथार और बीरबलराम निवासी 24 एसडी के परिवारों के बीच वर्ष 1995 में सिंचाई पानी की आड़ को लेकर मामूली विवाद हुअा। विवाद बढ़ता गया। एक-एक कर केस भी बढ़ते गए। वर्तमान में 5 मामले एसडीएम की अदालत में, 4 केस उच्च न्यायालय में, सिंचाई विभाग में एसई के यहां 4 व 6 मामले एक्सईएन, 5 प्रकरण मुंसिफ न्यायालय में चल रहे हैं। दोनों परिवारों के अधिकतर लोग मारपीट से लेकर पानी चोरी, पानी तोड़ने, पेड़ चोरी करने, रास्ते संबंधी विवादों के आरोपों में तारीख पेशी भुगत रहे हैं। इन 24 साल में लाखों रुपए गंवा चुके हैं। मुंसिफ मजिस्ट्रेट मोहनलाल बेदी, एडवोकेट प्रेमकुमार चुघ व ओमप्रकाश धायल ने इस मामले का लाेक अदालत में निस्तारण करने की पहल की। दाेनाें पक्षाें की समझाइश की। मामला आड़ एक बीघा आगे से निकालने काे लेकर था। राजीनामा हाेने से मुंसिफ मजिस्ट्रेट की अदालत में चल रहे 5 मामलाें का निस्तारण हाे गया। इसके साथ ही दाेनाें पक्षाें ने अन्य न्यायालयों में चल रहे 19 मामलों में भी राजीनामा करना तय कर लिया।

शादी के तीन साल बाद दहेज प्रताड़ना का केस,समझाया तो माने

न्यायालय में महिला अत्याचार के 7 प्रकरणों का निस्तारण किया गया। शादी के तीन वर्ष बाद सास-ससुर पर दहेज का केस दर्ज करवाने वाली लखविंद्र कौर अपने पति गुरमीतसिंह के साथ रवाना हुई। इससे पहले उसने पति संग फाेटाे खिंचवाया। अब वह रामदास काॅलाेनी वार्ड एक में स्थित अपने ससुराल में हंसीखुशी से रहेगी। बिरमा देवी निवासी एक एनजेडपी ने अपने भाई देवीलाल व कानाराम से जमीन संबधी विवाद खत्म कर भाइयों को मिठाई खिलाई। रक्षा बंधन पर घर आने वादा किया। भाइयों ने भी विवाद हमेशा के लिए खत्म कर अच्छे रिश्ते निभाने की बात कही। लोक आदलत में 62 प्रकरणों का निस्तारण किया गया। लोक अदालत में सचिव अमिताभकुमार, सदस्य एडवोकेट सुरेंद्र भाटी, प्रवीणकुमार चुघ, नरेशकुमार पुरी, साहिब बाघला, शेराराम ओड, इकबाल हुसैन कुरेशी, राकेश वर्मा, हितेंद्र नारायण अादि का विशेष सहयाेग रहा।

(संबंधित समाचार पेज नं. 13 पर भी पढ़े)

X
Vijay nagar News - rajasthan news aggrieved so that in 24 years 24 cases were settled then resigned
COMMENT