पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Sriganganagar News Rajasthan News Corona And Betting Spoiled Gold Beyond 43 Thousand

कोरोना अौर सट्टे ने बिगाड़ी सोने की चमक, 43 हजार के पार

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

विश्व भर में काेराेना वायरस के अातंक अाैर सट्टा मार्केट में साैदाें की दिलचस्पी के कारण साेना अाैर चांदी के भाव अासमान छू रहे हैं। इससे न केवल अाम दिनाें में ज्वैलर्स की दुकानाें की ग्राहकी पर असर पड़ा है बल्कि विवाह शादी में भी गहने खरीदने से ग्राहक हाथ खींच रहे हैं। एक सप्ताह से साेना अपनी चमक के साथ मजबूती बनाए हुए है। साेमवार काे 42500 रुपए प्रति ताेला (दस ग्राम) वाला साेना सप्ताह भर तेज रहा। 5 मार्च काे ताे 44500 रुपए ताेला पहुंच गया था, लेकिन शुक्रवार काे पुन: गाेता लगाकर 43200 रुपए हाे गया। शनिवार काे इसके भावाें में विशेष उतार-चढ़ाव नहीं अाया। जिले में प्रति वर्ष 50 से 80 कराेड़ रुपए की ज्वैलरी के लिए लाेग साेना-चांदी खरीदते हैं, लेकिन एक महीने से बाजार में जबरदस्त मंदी छाई हुई है। ज्वैलर्स का मानना है कि सावाें के बावजूद ग्राहकी में 40 से 50 प्रतिशत गिरावट अाई है। जिले में इस समय विवाह शादियाें के मुहूर्त हैं। किसानाें के खरीफ फसल बेचने के बाद एक बार ग्राहकी खिसकी थी, लेकिन अब हाेलाष्टक के अाठ दिन ताे बाजार मंदी का शिकार है। साेने चांदी के व्यापारियाें काे उम्मीद हाेली के बाद ज्वैलरी की दुकानाें अाैर बड़े शाे रूम्स पर चहल-पहल दिखाई देगी।

नाेटबंदी के दाैरान सोने में अाई थी मजबूती, तब साेना यकायक 50 हजार रुपए प्रति दस ग्राम हाे गया था

साेने में नाेटबंदी के दाैरान काफी मजबूती अाई थी। उस समय 28-30 हजार रुपए प्रति ताेला बिकने वाला साेना झटके के साथ 50 हजार रुपए प्रति दस ग्राम हाे गया था। इसके बाद से बाजार दुबारा ढर्रे पर अाने में लगभग एक महीना बीत गया लेकिन कभी 28 हजार रुपए के निचले अांकड़े काे नहीं छुअा। क्याेंकि उसके बाद जीएसटी लागू हुअा ताे साेने ने अपनी पकड़ बनाए रखी। नाेटबंदी में लाेगाें ने बैंकाें से पैसे निकालकर साेना खरीदना शुरू कर दिया अाैर ज्वैलरी की दुकानाें पर भीड़ हाे गई। हालात यह हाे गए कि 8 नवंबर 2016 काे रातभर लाेग अपने घराें से पैसा निकालकर साेने में निवेश करते रहे। यह क्रम लगभग एक सप्ताह चला।

काेराेना ने डराया : इस समय दुनिया भर काे काेराेना वायरस ने डरा रखा है। खास ताैर से चीन में निवेश वाले व्यापारी अब वहां से पलायन करने के लिए साेना खरीद रहे हैं। यही नहीं दुनिया के दूसरे देशाें में भी साेने में निवेश के प्रति दिलचस्पी बढ़ी है। भारत में रियल एस्टेट मार्केट के जमीन सूंघने के बाद साेना निवेशकाें की पहली पसंद बन गया है।

साेना अाैर चांदी एक दूसरे के पूरक हैं। दाेनाें में उछाल अाैर उतार लगभग एक साथ अाता है, लेकिन लाेग ज्यादा साेना खरीदने में दिलचस्पी रखते हैं। क्याेंकि इसके निवेश से फायदा ज्यादा है। मध्यम एवं निम्न मध्यम वर्ग पहले निवेश करते हैं, फिर इसे तरल मुद्रा में बदलकर अपना काराेबार चलाते हैं। अगले कुछ दिनाें में थाेड़ी अाैर तेजी अाएगी, फिर धीरे-धीरे सही स्थान बना लेगा।
महेंद्रपाल सिंह, न्यूलाइट ज्वैलर्स

साेने के व्यापार में जबसे सट्टा मार्केट का हस्तक्षेप बढ़ा है, सट्टा व्यापारी इसे फायदे का साैदा मानने लगे हैं। अाज भी सट्टे अाैर वास्तविक भावाें में अंतर है। सट्टा मार्केट में 44220 वाला शुद्ध साेना 43200 रुपए प्रति ताेला बिक रहा है।
विनाेद साेनी, विनाेद ज्वैलर्स, सादुलशहर।
खबरें और भी हैं...