पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Suratgarh News Rajasthan News Land Can Be Blocked House Can Be Blocked But Stuffed With Love Can Not Be Able To Send A Message To The Brothers39 Singing Of Punjabi Song Launch

जमीनां अड हो सकदी, मकान अड हो सकदे, पर भरावां दा प्यार अड नहीं हो सकदा का मैसेज देता दाे भाइयाें का पंजाबी गीत लाॅन्च

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भास्कर संवाददाता | श्रीगंगानगर

अाजकल राेजाना नए-नए गाने सुनने काे मिल रहे हैं। आए दिन पंजाबी, हिंदी या फिर अन्य भाषाओं में गाने लॉन्च किए जा रहे हैं। किसी में फूहड़ता दर्शायी जाती है तो कई गीत भड़कीले भी होते हैं। ऐसे गीतों को सुनने से नकारात्मकता के भाव पैदा होना स्वाभाविक है। लेकिन इस बीच कुछ गायक कलाकार गीत-संगीत के जरिए परिवारों को जोड़ने, घरों में प्यार का माहौल बनाए रखने पर ही फोकस रखते हैं। हम बात कर रहे हैं श्रीगंगानगर के उस ग्रुप की जो अब तक अपने पांच गानों के माध्यम से हर वर्ग के दिलों पर छाया हुआ है। श्रीगंगानगर के एस ब्रोज ग्रुप ने अपना छठा गाना लाॅन्च कर दिया है। इसके बाेल भाई भाइयां दा मान ने जगते भाई भाइया दीयां बांवा... है। इस गाने में दो भाइयों के बीच प्रेम को आधार बनाकर इस गाने को तैयार किया गया है। सेवक डीजे के संचालक व गायककार सुरेश रहेजा ने बताया कि यह गाना करीब पांच मिनट का है। इसमें जो डायलॉग हैं, वे सुनने भर से दर्शक गाने को पूरा देखने के लिए विवश हो जाएंगे। गाने के डायलॉग ‘जमीनां अड हो सकदी, मकान अड हो सकदे, पर भरावां दा प्यार अड नहीं हो सकदा’ व ‘एह मेरा छोटा वीर नहीं, मेरा पुत्तर है पुत्तर’ बड़े ही सुलझे और प्रभावशाली तरीके से फिल्माया गया है। अब तक इस गाने काे फेसबुक पर करीब 50 हजार से ज्यादा अाैर यू ट्यूब पर डेढ़ लाख लाेगाें ने देखा है।

हमारे परिवाराें में रिश्ताें काे अापस में जाेड़ने वाला और समाज की नकारात्मकता को हटाने वाला है यह गाना : सुरेश रहेजा
सुरेश रहेजा बताते हैं कि भड़कीले और फूहड़ गानों से नकारात्मकता आती है, जिससे परिवारों में शांति प्रभावित होती है। वहीं, परिवारों को जोड़ने वाले गाने कम सुनने और देखने को मिलते हैं। उनके ग्रुप द्वारा तैयार सभी गानों में शालीनता का विशेष रूप से ध्यान दिया गया है। उन्हाेंने बताया कि इस गाने में दिखाया गया है कि पहले दो तो भाइयों में झगड़ा होता है। बाद में इस झगड़े का पता चलने पर विरोधी इसका फायदा उठाते हैं। झगड़े का फायदा उठाने के उद्देश्य से जैसे ही आधा दर्जन व्यक्ति एक भाई पर हमला करने पहुंचते हैं, तभी दूसरा भाई बचाने के लिए पहुंच जाता है। तब बड़े भाई का डायलॉग ‘एह मेरा छोटा वीर नहीं, पुत्तर है पुत्तर’ गाने में पूरी तरह से जान डाल देता है। वे बताते हैं कि उन्हाेंने संगीत की शिक्षा गिदड़बाहा के उस्ताद एमबी शर्मा से ली है। इसके बाद अाकाशवाणी सूरतगढ़ में वरिष्ठ उद्घाेषक राजेश चड्ढा से डबिंग व रिकाॅर्डिंग की बारीकियां सीखीं है।

जिले के अलग-अलग जगहाें पर हुई गाने की शूटिंग : सुरेंद्र रहेजा के मुताबिक इस गाने की शूटिंग श्रीगंगानगर जिले में ही अलग-अलग जगहों पर की गई है। इस गाने को पूरा करने में करीब एक सप्ताह का समय लगा। इस गाने को देखने के साथ-साथ उसे अधिक से अधिक शेयर किया जाए, ताकि परिवारों में अच्छा संदेश जा सके। गाने के बाेल दीपू एेलनाबादी ने लिखे हैं।

फेसबुक पर अब तक 50 हजार अाैर यू ट्यूब पर डेढ़ लाख से ज्यादा लाेग देख चुके
खबरें और भी हैं...