पितरों का तर्पण करने से घर में सुख और शांति का वास होता है: आशुतोष महाराज

Shriganganagar News - भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर पितरों का तर्पण करने से घर में सुख और शांति का वास होता है। जिस परिवार के पितर...

Jan 24, 2020, 11:05 AM IST
Sriganganagar News - rajasthan news tapping of ancestors leads to happiness and peace in the home ashutosh maharaj
भास्कर संवाददाता|श्रीगंगानगर

पितरों का तर्पण करने से घर में सुख और शांति का वास होता है। जिस परिवार के पितर संतुष्ट नहीं होते हैं, उस घर में कभी बरकत नहीं आती है। इसलिए अपने पितरों की शांति के लिए तर्पण अवश्य करना चाहिए। अगर पितृदोष है तो भी उसकी शांति के लिए यथासंभव प्रयास और उपाय करने चाहिएं। यह बात गुरुवार को एल ब्लाक हनुमान मंदिर में चल रही श्रीमद् भागवत सप्ताह ज्ञान यज्ञ में आशुतोष महाराज ने कही।

कथा वाचन के दाैरान उन्हाेंने कृष्ण जन्म से जुड़े प्रसंग सुनाए। कृष्ण और छठी उत्सव का महत्व बताते हुए उन्होंने कहा कि कृष्ण शब्द का अर्थ ही यह है कि जो अपनी ओर किसी को आकर्षित कर ले, वही कृष्ण होता है। सात्विक भोजन का सबसे पहले ठाकुर जी को भोग लगाने की सीख देते हुए उन्होंने कहा कि भगवान केवल भाव के भूखे होते हैं। भगवान को भोग लगाने से पुण्य और संतोष की प्राप्ति होती है। अाशुताेष महाराज ने बताया कि सत्संग में जाने से दो फायदे होते हैं। पहला तो यह कि संगत अच्छी होती है और दूसरा मन नहीं भटकता है। धन-दौलत से मन के भावों को अधिक मूल्यवान बताते हुए उन्होंने कहा कि सांसारिक वस्तुएं कुछ समय के लिए ही संतोष देती हैं लेकिन मन के सच्चे भाव हमेशा संतोष देते हैं। उन्होंने कहा कि मनुष्य चाहे कैसा भी हो, गरीब हो या अमीर लेकिन उसे अपनी मूल प्रवृत्ति कभी नहीं भूलनी चाहिए। अपने गुरु, ईश्वर और पितरों का सदैव सम्मान करना चाहिए।

इस माैके पर ट्रस्ट सेवादार दिनेश कालड़ा, सुरेंद्र सिंगला, डॉ. कुसुम जैन, संजय मूंदड़ा, नीरज कुक्कड़, नीरज चावला, ज्ञान नागपाल, मुकेश गोदारा, पुरानी आबादी स्थित श्री कृष्ण मंदिर ट्रस्ट के लक्ष्मणदास कामरा, जगदीश सिडाना, वेदप्रकाश कालड़ा सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

X
Sriganganagar News - rajasthan news tapping of ancestors leads to happiness and peace in the home ashutosh maharaj

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना