तकनीकी अिधकारियों पर नियम विरुद्ध निर्माण स्वीकृति जारी करने का आरोप

Shriganganagar News - श्रीगंगानगर| ट्रैक्टर-ट्राॅलियाें के ठेके में भ्रष्टाचार के अाराेप लगाने के एक दिन बाद नगरपरिषद सभापति अजय चांडक...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 11:10 AM IST
Sriganganagar News - rajasthan news technical officers accused of issuing ru versus construction clearance
श्रीगंगानगर| ट्रैक्टर-ट्राॅलियाें के ठेके में भ्रष्टाचार के अाराेप लगाने के एक दिन बाद नगरपरिषद सभापति अजय चांडक ने अब नगरपरिषद द्वारा बीते दाे साल के दरमियान जारी किए गए नक्शा स्वीकृति में बड़ी गडबड़ी का अाराेप लगाया है। चांडक ने स्वायत शासन मंत्री शांति कुमार धारीवाल काे लिखे पत्र में लिखा है कि नगरपरिषद अायुक्त व निर्माण शाखा के तकनीकी अधिकारी नियम विरुद्ध भवन निर्माण स्वीकृतियां जारी कर रहे हैं। अधिकारी माेटी रिश्वत लेकर भवन मालिकाें काे व्यावसायिक निर्माण के बजाए अावासीय निर्माण की नक्शा स्वीकृतियां जारी कर अनुचित लाभ ले रहे हैं। सभापति ने विभाग के मंत्री से नगरपरिषद द्वारा स्वीकृत नक्शा संबंधित पत्रावलियाें की विभागीय स्तर पर उच्चाधिकारियाें से जांच करवाकर इन्हें निरस्त करवाने की मांग की है। सभापति ने पत्र में लिखा है कि राज्य सरकार ने 9 नवंबर 2017 काे एक परिपत्र जारी कर नगर निकाय सभापति काे प्रशासनिक व वित्तीय स्वीकृतियां जारी की। लेकिन श्रीगंगानगर नगरपरिषद के तत्कालीन अायुक्त अशाेक कुमार असीजा एवं वर्तमान कार्यवाहक अायुक्त मिलखराज चुघ द्वारा सभापति के अधिकाराें का हनन करते हुए बिना पूर्व स्वीकृति के बड़े स्तर पर भवन निर्माण की नक्शा स्वीकृतियां जारी की हैं। दाेनाें ही अधिकारियाें काे समय-समय पर पाबंद भी किया गया, लेकिन उन्हाेंने मनमानी की। असीजा ने 23 व चुघ ने 22 भवनाें के नक्शा स्वीकृति जारी की है। सभापति का कहना है कि अधिकारियाें द्वारा निजी लाभ के लिए जारी किए जा रहे भवन निर्माण नक्शा स्वीकृति से शहर के साैंदर्यीकरण पर भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है। नगर पालिका अधिनियम की अवहेलना ताे हाे ही रही है साथ ही टाउन प्लान से छेड़छाड़ की जा रही है। इससे राजस्व में भी हानि हाे रही है। इस कृत्य से शहर का मूल स्वरूप बिगड़ता जा रहा है।


सभापति ने मंत्री काे क्या पत्र लिखा है इस संबंध में काेई जानकारी नहीं है। वैसे कमिश्नर के पास काेई भी फाइल कई चरणाें से हाेकर पहुंचती है। अशाेक कुमार असीजा, तत्कालीन अायुक्त।

स्थिति यह: छाेटी-छाेटी गलियाें में बड़े व्यावायिक भवन बन गए

चांडक ने बताया कि अावासीय स्वीकृति की बजाए व्यावसायिक स्वीकृति देने का खमियाजा पूरा शहर भुगत रहा है। शहर के अनेक इलाकाें में छाेटी-छाेटी गलियाें में बड़े-बड़े व्यावसायिक भवन बन रहे हैं अाैर इनमें पार्किंग की काेई व्यवस्था नहीं है। इस संबंध में अनेक शिकायतें मिल रही हैं, लेकिन अधिकारियाें ने अनुचित लाभ काे प्राथमिकता दी। हालात इस कदर खराब बने हुए हैं कि अधिकारियाें द्वारा पत्रावली तक सभापति के पास स्वीकृति के लिए नहीं भिजवाई जा रही। सभापति ने स्वायत शासन मंत्री काे असीजा व चुघ के समय के दाैरान जारी नक्शा स्वीकृति की संपूर्ण जानकारी भेजी है।

X
Sriganganagar News - rajasthan news technical officers accused of issuing ru versus construction clearance
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना